ताज़ा खबर
 

7th Pay Commission: खुशखबरी, इन कर्मचारियों को दिया बढ़ा हुआ भत्ता, जानिए कितना मिला

7th Pay Commission, 7th CPC Today Latest News: केंद्रीय कर्मचारियों की मिनिमम सैलरी 7,000 रुपए से 18,000 रुपए हो गई। अब केंद्रीय कर्मचारियों की मांग है कि उनकी न्यूनतम सैलरी को 26,000 रुपए महीने किया जाए।

सरकार ने जून 2016 में 7 वें वेतन आयोग, 7 वें सीपीसी की सिफारिशों को मंजूरी दे दी थी।

7th Pay Commission, 7th CPC Today Latest News: सरकार के इनकार के बावजूद, लगभग 50 लाख केंद्रीय सरकारी कर्मचारी सातवें वेतन आयोग के पुनर्मूल्यांकन से परे वेतन वृद्धि की प्रतीक्षा कर रहे हैं। हालांकि, कई रिपोर्टें हैं कि केंद्र 2019 के आम चुनावों के ठीक पहले वेतन वृद्धि क्यों दे सकता है, सरकार के एमएसपी में वृद्धि के बाद कर्मचारियों की उम्मीद अभी भी जिंदा है। कर्मचारी एक बार फिर उम्मीद कर रहे हैं क्योंकि यह एक संकेत है कि सरकार के पास पैसा है और अर्थव्यवस्था अच्छी दिख रही है। सरकार ने खरीफ फसलों की न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) में उत्पादन की लागत 1.5 गुना बढ़ा दी है। केंद्रीय कर्मचारियों को उम्मीद है कि पीएम मोदी 15 अगस्त को सातवें वेतन आयोग की सिफारिशों से परे वेतन बढ़ाने की घोषणा कर सकते हैं। सातवें वेतन आयोग ने बेसिक सैलरी में 14.27 फीसदी की बढ़ोतरी की सिफारिश की थी।

केंद्रीय कर्मचारियों की मिनिमम सैलरी 7,000 रुपए से 18,000 रुपए हो गई। अब केंद्रीय कर्मचारियों की मांग है कि उनकी न्यूनतम सैलरी को 26,000 रुपए महीने किया जाए। इसके अलावा उनकी मांग है कि फिटमेंट फेक्टर को भी 3.68 गुना बढाया जाए। सरकार ने जून 2016 में 7 वें वेतन आयोग, 7 वें सीपीसी की सिफारिशों को मंजूरी दे दी थी, हालांकि, केंद्रीय सरकारी कर्मचारियों द्वारा न्यूनतम वेतन और फिटमेंट फेक्टर में बढ़ोतरी की मांग कर रहे हैं।

आपको बता दें कि मोदी सरकार ने सैनिकों के लिए 10,000 रुपए सालाना कपड़ों के भत्ते को मंजूरी दे दी है। यह केंद्र सरकार के कर्मचारियों के लिए भी अच्छी खबर है जो वर्तमान फिटमेंट फेक्टर को 2.57 गुना के बजाय 3.68 गुना बढ़ने का इंतजार कर रहे हैं। 7 वें वेतन आयोग ने कर्मियों के कपड़ों के बदले एक कपड़ा भत्ते की सिफारिश की थी जिसे पहले ऑर्डनेंस कारखानों के माध्यम से प्रदान किया जा रहा है, अब इनके लिए यह भत्ता जारी कर दिया गया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App