ताज़ा खबर
 

भारत में 40 फीसदी पेशेवरों को असुरक्षित लग रहा है अपना भविष्य, नौकरी पर खतरा और कमाई घटने की आशंका

मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर से जु़ड़े 38 पर्सेंट लोगों का कहना था कि वे अगले 6 महीने तक निजी खर्चों में कटौती करेंगे। इसके अलावा कॉरपोरेट सर्विसेट के 40 पर्सेंट, हेल्थकेयर के 45 पर्सेंट लोगों ने यही राय जताई।

manufacturingदेश के 40 फीसदी पेशेवरों को असुरक्षित लग रहा है अपना भविष्य

भले ही केंद्र सरकार ने 21 लाख करोड़ रुपये का पैकेज जारी कर अर्थव्यवस्था को गति देने की बात कही हो, लेकिन फिलहाल इसका कोई असर होता नहीं दिख रहा है। देश में 40 फीसदी कर्मचारी ऐसे हैं, जिन्हें अपना भविष्य अनिश्चित लगता है। LinkedIn की ओर से किए गए सर्वे के मुताबिक हेल्थकेयर सेक्टर के 39 पर्सेंट और एजुकेशन सेक्टर के 44 फीसदी लोगों को अपना भविष्य सुरक्षित नहीं दिखता। सर्वे के अनुसार इन लोगों का मानना है कि अगले 6 महीनों में उनकी कमाई में कमी देखने को मिल सकती है। इसके अलावा आईटी और सॉफ्टवेयर सेक्टर के 30 पर्सेंट से ज्यादा लोगों को लगता है कि उनका भविष्य सेफ नहीं है।

इसके अलावा कॉरपोरेट सर्विसेज से जुड़े 29 पर्सेंट कर्मचारी आशंकित हैं कि आने वाले समय में उनकी कमाई कम हो सकती है। 4 मई से 31 मई के बीच 2,903 पेशेवरों के बीच किए गए सर्वे में यह बात सामने आई है। यही नहीं कमाई में कमी का सीधा असर पर्सनल फाइनेंसेज के फ्रंट पर भी देखने को मिलेगा।

मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर से जु़ड़े 38 पर्सेंट लोगों का कहना था कि वे अगले 6 महीने तक निजी खर्चों में कटौती करेंगे। इसके अलावा कॉरपोरेट सर्विसेट के 40 पर्सेंट, हेल्थकेयर के 45 पर्सेंट लोगों ने यही राय जताई। जानकारों के मुताबिक बेरोजगारी के आंकड़े में इजाफा होने और बड़े पैमाने पर सैलरी कट की स्थिति के चलते आने वाले समय में सेविंग्स पर असर देखने को मिल सकता है।

इंश्योरेंस, लोन और निवेश जैसी चीजों में कमाई घटने के चलते गिरावट देखने को मिल सकती है। सर्वे में शामिल एक तिहाई लोगों ने कहा कि वे अपना ज्यादातर समय रेज्युमे को अपडेट करने और इंटरव्यू की तैयारी में बिता रहे हैं। लिंक्डइन के सर्वे के मुताबिक 67 फीसदी पेशेवर लोग ऐसे हैं, जो इस संकट के दौर में अपनी स्किल को ऑनलाइन लर्निंग प्रोग्राम्स के जरिए बढ़ाने में जुटे हैं। गौरतलब है कि कोरोना संकट के चलते भारत समेत दुनिया भर की कंपनियों में छंटनी का दौर जारी है। टाटा ग्रुप की कंपनी टाटा मोटर्स ने भी 1,100 कर्मचारियों को छंटनी का फैसला लिया है। कंपनी का कहना है कि 9,800 करोड़ रुपये के घाटे के चलते यह फैसला लेना पड़ रहा है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 7th Pay Commission: केंद्रीय कर्मचारियों का इन्क्रीमेंट भी लटका, डीए में इजाफे पर रोक के बाद लगा दूसरा झटका
2 जन धन योजना के तहत महज एक पेज का फॉर्म भरने से ही खुल जाएगा खाता, बेहद आसान है तरीका
3 तीन महीने खत्म, क्या आगे भी आएंगे महिलाओं के खाते में 500 रुपये? जानें- मोदी सरकार ने क्या कहा
ये पढ़ा क्या...
X