मारुति 800 के 35 साल: राजीव गांधी के दिमाग की उपज, खरीदने वालों के यहां पहुंचती थी इनकम टैक्‍स की टीम

उस युग में ज्यादातर चीजों की तरह, मारुति 800 के आवंटन के लिए लॉटरी सिस्टम था, जब तक कि आप व्यक्तिगत रूप से किसी ऊंचे पद पर बैठे व्यक्ति को नहीं जानते थे तब तक आपको सिस्टम को बाइपास करके कार का मिलना लगभग नामुमकिन था।

maruti 800, Maruti Suzuki, ss80, sb308, maruti Omini, Maruti Gypsy, Maruti india, Maruti latest news, Maruti news, maruti 800 launch date india, Indera gandhi, rajiv gandhi
1984 में मुंबई में कार की ऑन रोड कीमत 52,000 रुपये थी।

मारुति 800 के साथ लगभग हर एक भारतीय की कम से कम एक बड़ी याददाश्त जुड़ी है। यही वो कार है जिसने इंडिया को 4 व्हील्स पर ला दिया था। मारूति 800 के आने से पहले चुनने के लिए कुछ उचित कारें थीं, 800 की विश्वसनीयता बेजोड़ थी। 14 दिसंबर, 1983 को इंदिरा गांधी द्वारा दिल्ली में इस कार को लॉन्च किया गया था, पहली मारुति 800 की भारत में डिलीवरी हरपाल सिंह के यहां हुई थी। मारूति 800 भारत में 35 साल की हो गई है।

मारुति प्रोजेक्ट – या फिर मारुति उद्योग लिमिटेड राजीव गांधी के दिमाग की उपज था, जो खुद के माध्यम से और उसके माध्यम से पूरी तरह से पेट्रोलहेड था! हिंदुस्तान की एंबेसडर और फिएट 1100 चलाने के मामले में इसके सामने बकवास थीं। जो तब तक प्रीमियर पद्मिनी बन चुके थे, मारुति 800 फॉर्मूला जीतने की गारंटी थी। एक छोटी और अच्छी बॉडी वाली मारूति 800 में 796 सीसी का इंजन दिया गया था। इसका माइलेज भी काफी अच्छा था। इसमें डुअल बैरल वाला कार्बेटर दिया गया था। इसमें 4 लोगों के आराम से बैठने की जगह थी और यह आते ही ज्यादातर भारतीयों के दिमाग पर छा गई। आपको बता दें कि अब मारूति 800 का प्रोडक्शन बंद कर दिया गया है।

उस युग में ज्यादातर चीजों की तरह, मारुति 800 के आवंटन के लिए लॉटरी सिस्टम था, जब तक कि आप व्यक्तिगत रूप से किसी ऊंचे पद पर बैठे व्यक्ति को नहीं जानते थे तब तक आपको सिस्टम को बाइपास करके कार का मिलना लगभग नामुमकिन था। 1984 में मुंबई में कार की ऑन रोड कीमत 52,000 रुपये थी। सिस्टम को दरकिनार करके कार ली जा सके इसके लिए इस कार को खरीदने की चाहत रखने वाले लोगों ने संपर्क किया। अगर आपने कार खरीदने का प्रस्ताव रखा और आपको कार मिली और आपने कार बेच दी तो आपके यहां आयकर विभाग की टीम के पहुंचने की गारंटी थी।

मारूति 800 खरीदने वालों के यहां आयकर विभाग की टीम का पहुंचना आम था, वह यह पता लगाते थे कि आपने कार कैसे खरीदी है। मारुति 800 की फर्स्ट जेनरेशन को SS80 नाम दिया गया था। लोगों के बीच आज भी इस कार को याद रखा गया है। आखिरकार मारुति ने 1984 में मारुति वैन के लॉन्च के साथ अपनी कारों की सीरिज का विस्तार किया। इस कार को आज भी बनाया जा रहा है। 1985 में मारुति जिप्सी का निर्माण किया गया था।

पढें व्यापार समाचार (Business News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट