ताज़ा खबर
 

Reserve Bank 2,000 रुपये के नोटों को क्यों चुपचाप ले रहा है वापस, जानिए- क्या है इसके पीछे की वजह और आप पर क्या असर

Rupees 2,000 notes: इन नोटों की जमाखोरी भी देखने को मिल रही है। माना जा रहा है कि अपराधी तत्वों के लिए इन नोटों के जरिए रकम रखना आसान है। ऐसे में आरबीआई अब इन्हें धीरे-धीरे सर्कुलेशन से ही हटाने की कोशिश कर रहा है।

बैंकों से वापस मंगा करेंसी चेस्ट में वापस लिए जा रहे 2,000 रुपये के नोट

देश के एक बड़े सरकारी बैंक ने 2,000 रुपये की नोटों को ब्रांचों से वापस लेना शुरू कर दिया है। यही नहीं इन नोटों को वापस रिजर्व बैंक के करेंसी चेस्ट में जमा कराया जा रहा है। यहां तक कि जिन बैंक शाखाओं में सिर्फ 4 या 10 नोट ही थे, वहां से भी इन्हें वापस मंगा लिया गया है। बिजनस इनसाइडर की रिपोर्ट के मुताबिक बैंक की ओर से एटीएम सेवाएं देने वाली कंपनियों से भी कहा गया है कि वे मशीन में 2,000 रुपये की नोट को निकालने वाली रैक को रिप्लेस कर दें।

एटीएम से आखिर कौन से नोट निकलेंगे, यह फैसला किसी भी बैंक की शाखा की ओर से नहीं लिया जाता है। ऐसे निर्णय उच्च स्तर यानी आरबीआई के लेवल से ही होते हैं। अब सवाल यह है कि आखिर आरबीआई 2,000 रुपये के नोटों को चुपचाप वापस क्यों ले रहा है। इस पर बैंक अधिकारियों का कहना है कि 2,000 रुपये के नोट वापस लिए जाने के पीछे सिर्फ नकली नोटों से निपटना ही नहीं है। हालांकि बता दें कि अब तक केंद्र सरकार, रिजर्व बैंक या फिर किसी अन्य सरकारी या निजी सेक्टर के बैंक ने इस संंबंध में कोई आधिकारिक बयान नहीं दिया है।

इसलिए धीरे-धीरे सर्कुलेशन से हटाने की कोशिश: दरअसल इन नोटों की जमाखोरी भी देखने को मिल रही है। माना जा रहा है कि अपराधी तत्वों के लिए इन नोटों के जरिए रकम रखना आसान है। ऐसे में आरबीआई अब इन्हें धीरे-धीरे सर्कुलेशन से ही हटाने की कोशिश कर रहा है।

आम लोगों के लिए चिंता की बात नहीं: बैंक ने आदेश जारी किया है कि एटीएम मशीनों में 2,000 रुपये के नोट न डाले जाएं। हालांकि यह स्थिति आम लोगों के लिए चिंताजनक नहीं है क्योंकि बैंकों में 2,000 रुपये के नोटों को स्वीकार किया जा रहा है और कोई भी इन्हें कभी भी जमा करा सकता है।

निजी बैंकों के एटीएम से भी हट रहे 2,000 के नोट: बैंक से जुड़े अधिकारियों ने बिजनस इनसाइडर को बताया कि थर्ड पार्टी एटीएम सर्विस प्रोवाइडर्स को 2,000 रुपये के नोटों के बदले में 100 रुपये के नोटों के रैक लगाने को कहा गया है। यह आदेश सरकारी बैंकों ही नहीं बल्कि कई निजी बैंकों के लिए भी आया है।

पैनिक से बचने के लिए वापस ले रहे नोट: कहा यह भी जा रहा है कि आरबीआई चरणबद्ध तरीके से 2,000 रुपये के नोटों के सर्कुलेशन को इसलिए कम करने की कोशिश कर रहा है ताकि भविष्य में कभी इस नोट को बंद करने का फैसला लिया जाए तो 2016 की तरह जनता में कोई पैनिक न हो।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 Corona Virus impact: कोरोना वायरस के चलते सऊदी अरब ने घटाई कच्चे तेल की सप्लाई, चीन में आर्थिक सुस्ती का दुनिया पर असर
2 LPG सिलेंडरों की कीमत में 144 रुपये का बड़ा इजाफा, 7 महीने में 221 रुपये महंगी हुई बिना सब्सिडी वाली घरेलू गैस
ये पढ़ा क्या?
X