ताज़ा खबर
 

सरकारी बैंकों के कुल बैड लोन का 20 फीसदी हिस्सा सिर्फ 20 डिफॉल्टरों के पास, RBI का खुलासा

रिजर्व बैंक के आंकड़ों के मुताबिक, सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के टॉप 20 डिफॉल्टर्स के पास 2.36 लाख करोड़ गैर-निष्पादित संपत्तियां (एनपीए) हैं, जो वित्त वर्ष 2018 के अंत तक शीर्ष 20 उधारकर्ताओं को 4.69 लाख करोड़ रुपये के कुल ऋण एक्सपोजर का लगभग 50% है।

चीन और ब्राजील जैसे विकासशील देशों की तुलना में, भारत का शुद्ध एनपीए और पूंजीगत प्रावधान अनुपात बहुत खराब है।

भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने खुलासा किया है कि सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों का 20 फीसदी बैड लोन टॉप 20 डिफॉल्टर्स पर है। इनके ऊपर कुल 2.36 लाख करोड़ रुपये का लोन है। 31 मार्च, 2018 तक भारतीय बैंकिंग प्रणाली में कुल बैड लोन 10.2 लाख करोड़ रुपये था। सूचना अधिकार अधिनियम के माध्यम से डीएनए मनी द्वारा प्राप्त आरबीआई डेटा से पता चलता है कि खासकर सरकारी नियंत्रण वाले  बैंकों में लोन का जोखिम अत्यधिक केंद्रित है। रिजर्व बैंक के आंकड़ों के मुताबिक, सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के टॉप 20 डिफॉल्टर्स के पास 2.36 लाख करोड़ गैर-निष्पादित संपत्तियां (एनपीए) हैं, जो वित्त वर्ष 2018 के अंत तक शीर्ष 20 उधारकर्ताओं को 4.69 लाख करोड़ रुपये के कुल लोन एक्सपोजर का लगभग 50% है। हालांकि, निजी बैंकों के मामले में टॉप 20 डिफॉल्टर्स द्वारा डिफॉल्ट, लोन एक्सपोजर का 34% है।

इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ चार्टर्ड एकाउंटेंट्स (आईसीएआई) के पूर्व अध्यक्ष अमरजीत चोपड़ा के अनुसार, बैड लोन खराब प्रबंधन का परिणाम है। यह बड़ी परियोजनाओं, विशेष रूप से बुनियादी ढांचे वाले लोगों के संबंध में मूल्यांकन प्रणाली पर खराब प्रदर्शन करता है। चोपड़ा ने डीएनए मनी को बताया, यह आंशिक रूप से अन्य कारकों के कारण हो सकता है जैसे मंजूरी, भूमि अधिग्रहण इत्यादि में देरी, और कुछ हद तक, यह स्वीकृति और लोन के वितरण में कुछ दूसरी असावधानियों से हो सकता है।

भारतीय रिजर्व बैंक के आंकड़ों से पता चलता है कि पिछले तीन साल में भारी बैड लोन के कारण, पीएसयू बैंक टॉप 20 उधारकर्ताओं के लोन जोखिम के संबंध में सतर्क हो गए हैं। वित्त वर्ष 2016 में सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों ने टॉप 20 उधारकर्ताओं का लोन 18% तक बढ़ा दिया था, लेकिन वित्त वर्ष 2017 में इसे 10% तक घटा दिया गया, इसके बाद वित्त वर्ष 2018 में 3% की वृद्धि हुई, लेकिन निजी बैंकों ने वित्त वर्ष 2016 में लोन एक्सपोजर में 13% की बढ़ोतरी दर्ज की, वित्त वर्ष 2016 में 13% और वित्त वर्ष 2018 में 21% की वृद्धि हुई। एनपीए बैंक की बैलेंस शीट्स और उनके व्यवसाय को हिट करता है क्योंकि इन बैंकों के पास बैड लोन के खिलाफ पर्याप्त पूंजीगत प्रावधान नहीं है। चीन और ब्राजील जैसे विकासशील देशों की तुलना में, भारत का शुद्ध एनपीए और पूंजीगत प्रावधान अनुपात बहुत खराब है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App