ताज़ा खबर
 

मोदी सरकार के बजट से खुश नहीं नीतीश कुमार, बोले- 2 घंटे सुनते रहे, निराशा ही हाथ लगी

नीतीश ने एएनआई से कहा, ''निराशा ही हाथ लगी। 2 घंटे लगातार सुनते रहे, उम्‍मीद करते रहे कि कुछ आगे आएगा, पर कुछ ऐसी बात नहीं।''
मुख्यमंत्री ने कहा कि मोदी सरकार बिहार के साथ अन्याय कर रही है।

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बुधवार को केंद्रीय बजट को निराशाजनक करार दिया है और कहा है कि इस बजट से बिहार को कुछ भी नहीं मिला है। पूर्व केंद्रीय मंत्री और जनता दल (युनाइटेड) के अध्यक्ष नीतीश कुमार ने यहां बजट पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा, “बजट से उन्हें काफी निराशा हुई है। बजट में बिहार के लिए कुछ भी नहीं है। इसमें कोई ठोस बात नहीं की गई है। सरकार ने किसानों के लिए कुछ नहीं किया। किसानों से जो वादे किए थे, उन पर एक कदम भी आगे नहीं बढ़े।” उन्होंने कहा कि बजट में नोटबंदी से कितना फायदा हुआ और कितना नुकसान, यह जानकारी देने के बजाय कैशलेश और डिजिटल ट्रांजेक्शन की बात की जा रही है, जबकि सभी जानते हैं कि देश में कैशलेश और डिजिटल ट्रांजेक्शन पूरी तरह संभव नहीं है। उन्होंने कहा कि हालांकि बिहार सरकार पहले से ही डिजिटल ट्रांजेक्शन शुरू कर चुकी है।

बजट में बिहार के लिए विशेष तौर पर कोई प्रावधान नहीं किए जाने से नाराज मुख्यमंत्री ने कहा कि मोदी सरकार बिहार के साथ अन्याय कर रही है। बिहार को उसका वाजिब हक भी केंद्र नहीं दे रहा है। नीतीश ने कहा कि बजट में किसानों के लिए भी कुछ नहीं किया गया है। चुनाव के दौरान जो किसानों से वादे किए गए थे, उन पर सरकार एक कदम भी आगे नहीं बढ़ी है। अब वादे से मुकरकर किसानों की आय बढ़ाने की बात कर रही है।

उल्लेखनीय है कि नीतीश कुमार पिछले कई वर्षो से बिहार को विशेष राज्य का दर्जा देने की मांग करते रहे हैं। केंद्र सरकार बिहार पर भी ध्यान देती, लेकिन विधानसभा चुनाव में 24 रैलियां करने के बावजूद प्रधानमंत्री को इस राज्य ने निराश किया था। बोली लगाने के अंदाज में ‘पैकेज’ की घोषणा के बावजूद बिहार की जनता ने प्रधानमंत्री की बातों को नजरअंदाज कर दिया था।

संबंधित वीडियो देखें: 

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.