ताज़ा खबर
 

Budget 2017: पीएम मोदी ने शुरु की नई परंपरा, जानिए क्यों इस खास है इस बार का बजट सत्र

बजट सत्र की शुरूआत से पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने संसद में समग्र वार्ता होने की आज उम्मीद व्यक्त की।
Author नई दिल्ली | January 31, 2017 13:24 pm
संसद का बजट सत्र शुरू होने से पहले मीडिया को संबोधित करते प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी। (पीआईबीफोटो)

बजट सत्र की शुरूआत से पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने संसद में समग्र वार्ता होने की आज उम्मीद व्यक्त की। उन्होंने रेखांकित किया कि सरकार ने पिछले कुछ दिनों में यह सुनिश्चित करने के लिए सभी राजनीतिक दलों के साथ वार्ता की है कि सदन की कार्यवाही बाधित नहीं हो।
मोदी ने संसद के बाहर संवाददाताओं से कहा कि समाज के कल्याण के लिए समग्र वार्ता होनी चाहिए। प्रधानमंत्री ने कहा कि उन्हें भरोसा है कि समाज के कल्याण के लिए संसद में सभी दल साथ आएंगे। उन्होंने कहा कि ऐसा पहली बार है जब केंद्रीय बजट एक फरवरी को पेश किया जाएगा। मोदी ने कहा कि पहले बजट शाम पांच बजे पेश किया जाता था और पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने इसे सुबह पेश करने की शुरूआत की थी।

मोदी ने कहा, ‘‘आज, एक नई परंपरा शुरू होगी। पहली बात यह है, कि बजट एक महीने पहले पेश किया जा रहा है और दूसरी बात यह है कि रेल बजट को भी इसमें शामिल किया जा रहा है। इस पर आगामी दिनों में इससे होने वाले फायदों पर भी चर्चा होगी।’’
शीतकालीन सत्र के नोटबंदी को लेकर विरोध प्रदर्शनों की भेंट चढ़ जाने के बाद मोदी ने कल यहां आयोजित सर्वदलीय बैठक में विपक्ष से बातचीत की थी। इस बैठक में तृणमूल कांग्रेस को छोड़कर सभी बड़ों दलों ने हिस्सा लिया। तृणमूल नोटबंदी और चिटफंड मामलों में उसके सांसदों की गिरफ्तारी को लेकर नाखुश है।

कार्यक्रम से अलग, संवाददाताओं से बात करते हुए सूचना एवं प्रसारण मंत्री एम वेंकैया नायडू ने उम्मीद जताई कि सभी दल बजट सत्र के महत्व को समझेंगे और इसमें अधिक सार्थक एवं रचनात्मक तरीके से हिस्सा लेने के लिए खुद को तैयार रखेंगे। उन्होंने कहा कि सरकार नोटबंदी सहित हर मुद्दे पर चर्चा करने के लिए तैयार है। नायडू ने कहा ‘‘यह बजट एक नया बजट है क्योंकि इसमें आम बजट और रेल बजट को एक साथ मिला दिया गया है। सदस्यों के पास सरकार की नीतियों पर चर्चा करने का मौका होगा।’’

केंद्रीय मंत्री ने कहा ‘‘दूसरी बात यह है कि हमारे पास बजट प्रस्तावों की गहन जांच करने का मौका होगा क्योंकि हमारे पास समिति व्यवस्था है। तीसरी बात यह है कि हम सत्र में विभिन्न मुद्दों पर आम चर्चा कर सकते हैं।’ नायडू ने कहा कि सरकार के पास छिपाने या चिंता करने के लिए कुछ भी नहीं है। ‘‘हमने विभिन्न वर्गों में कई दूरगामी सुधारों के लिए कदम उठाए हैं और हमें हाल ही में की गई नोटबंदी सहित ऐसे विभिन्न कदमों के बारे में चर्चा कर खुशी होती है।’ मंत्री ने कहा ‘‘हम उन अन्य संबंधित मुद्दों पर भी चर्चा कर सकते हैं जो फिलहाल देश के समक्ष हैं। मुझे उम्मीद है कि यह सत्र सार्थक होगा और सभी दलों के सदस्य इस अवसर का उपयोग रचनात्मक बहस करने में करेंगे।’’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.