ताज़ा खबर
 

बजट 2017: जानिए क्या होता है आर्थिक सर्वेक्षण और क्यों इसे पेश करना है जरूरी…

बजट पेश करने से पहले हमेशा ही आर्थिक सर्वेक्षण पेश किया जाता है। जानिए क्या होता है आर्थिक सर्वेक्षण।

Author January 31, 2017 11:49 AM
राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी संसद के दोनों सदनों को संबोधित करते हुए। (Source: LSTV)

केंद्रीय बजट 2017 कल (1 फरवरी) को पेश किया जाएगा। वहीं बजट पेश करने से पहले हमेशा ही आर्थिक सर्वेक्षण पेश किया जाता है। क्या होता है यह आर्थिक सर्वेक्षण जानते हैं इसके बारे में। आर्थिक सर्वेक्षण दरअसल वित्त मंत्रालय द्वारा पेश की गई देश की आर्थिक स्थिति की जानकारी देता है। जहां बजट आगामी वर्ष का होता है वहीं आर्थिक सर्वेक्षण बीते वर्ष का होता है।

इस सर्वे के तहत देश की आर्थिक स्थिति का पूरा ब्यौरा पेश किया जाता है। इसमें बीते एक साल में देश के विकास, किस क्षेत्र में कितना निवेश, किस क्षेत्र में कितना विकास, योजनाओं का क्रियान्वयन कैसा रहा, जैसे कई अहम पहलुओं के बारे में जानकारी दी जाती है। वहीं सर्वे में अर्थव्यवस्था, पूर्वानुमान और नीतिगत स्तर पर की चुनौतियों पर विस्तृत जानकारी दी जाती है। साथ ही किस सेक्टर की स्थिति कैसी है और सुधार के लिए क्या रूपरेखा या उपाय अपनाएं जाएं इसके बारे में भी बताया जाता है।

आर्थिक सर्वेक्षण एक तरह से भविष्य में बनाई जाने वाली नीतियों के लिए एक दृष्टिकोण का काम करता है। यह एक तरह से देश की आर्थिक स्थिति का आईना होता है। ऐसे में इसकी मदद से आगामी बजट में किन सेक्टर्स पर फोकस किया जाना है, इसकी एक झलक मिल जाती है। हालांकि, एक बात जानना बेहद जरूरी है, सर्वे सिर्फ सिफारिशें हाती हैं और इन पर कोई कानूनी बाध्यता नहीं होती। सर्वेक्षण मुख्य आर्थिक सलाहकार के साथ वित्त और आर्थिक मामलों की जानकारों की टीम तैयार करती है। इस बार मुख्य आर्थिक सलाहकार अरविंद सुब्रहमण्यम हैं।वहीं देश के राष्ट्रपति संसद के दोनों सदनों को संयुक्त रूप से संबोधित करते हैं। राष्ट्रपति के अभिभाषण के बाद ही सरकार अपना आर्थिक सर्वे पेश करती है।

बजट 2017 से जुड़ी सभी खबरों के लिए यहां क्लिक करें

देखें वीडियो

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App