ताज़ा खबर
 

ब्लॉग

द लास्ट कोच: टूटे न ये रिश्ते की डोर

आज के दौर में जब रिश्तों की डोर कमजोर पड़ रही हो, भाई-भाई का सगा नहीं, भाई-बहन में प्यार नहीं। चचेरे-मौसेरे भाइयों-बहनों में आत्मीय...

दुनिया मेरे आगे: बोझ बढ़ाती आबादी

किसी देश की आबादी अगर वहां की ताकत है तो उस आबादी का सदुपयोग न होना उस देश की बर्बादी भी होती है। आजादी...

दुनिया मेरे आगे: बादल राग

कितना अद्भुत है यह सोच पाना कि धरती के जिस टुकड़े पर बैठ मैं बारिश के सौंदर्य-रस का पान कर रही हूं, हजारों साल...

राजनीति: प्लास्टिक कचरे से बढ़ता संकट

हैरानी की बात तो यह है कि जिन राज्यों में प्लास्टिक के इस्तेमाल पर रोक लगाने की घोषणा कर दी गई है उन राज्यों...

दुनिया मेरे आगे: किसान का दुख

गाय के आस्था से जुड़ जाने की वजह से दिनोंदिन समस्या और जटिल होती जा रही है। सड़कों पर घूमते पशुओं के कारण दुर्घटनाएं...

दुनिया मेरे आगे: उम्र से पहले

यह समस्या वास्तव में परेशान करने वाली है। ये छोटे बच्चे अपनी उम्र से भी तेज नई कक्षा में भेज दिए जाएंगे और भेजे...

राजनीति: जम्मू-कश्मीर के विकास का नया सवेरा

भारत सरकार की विकासात्मक पहलों के साथ, आज श्रीनगर, सोपोर, बडगाम, भदेरवाह और जम्मू में बीपीओ चल रहे हैं। नागरिकों के लिए डिजिटल सेवाएं...

चौपाल: बिगड़ती सेहत

देश में स्वास्थ्य सेवाओं की स्थिति भी संतोषजनक नहीं है। ज्यादातर सरकारी अस्पतालों की हालत दयनीय है। संक्रामक रोगों से ग्रस्त मरीज भी अस्पताल...

दुनिया मेरे आगे: आंसुओं की दुनिया

किसी शायर ने कहा भी है- ‘एक आंसू कह गया सब हाल दिल का, मैं समझा था ये जालिम बेजुबां है।’ जो कुछ रोकर...

चौपाल: विशेष दर्जा क्यों

अगर कश्मीर को मिले विशेषाधिकार के बदले राष्ट्र को अमन चैन मिलता, वहां हर भारतीय अपने आपको सुरक्षित पाता तो भारत की उदारता सहनीय...

दुनिया मेरे आगे: निराला वाद्यवृंद

इंजन और डिब्बे समवेत स्वर में दुहरा रहे हैं- चल कलकत्ते छह-छह पैसे, चल कलकत्ते छह-छह पैसे। शोर बढ़ता जाता है। गाड़ी किसी पुल...

दुनिया मेरे आगे: बरसात का राग

निराला की ‘बादल राग’ कविता से कौन परिचित नहीं होगा! बादल के माध्यम से नए क्रांति के स्वर फूंकने और किसान की पीड़ा को...

राजनीति: बुजुर्ग आबादी और चुनौतियां

बदलती सामाजिक व्यवस्था के कारण और घरों के सिकुड़ने से जहां परिवार छोटे हुए हैं, वहीं परिवारों में बुजुर्गों की भूमिका भी कम हुई...

चौपाल: कानून के बावजूद

बहरहाल, तीन तलाक के खिलाफ कानून तो और सरकार ने बना दिया है, पर समाज में शिक्षा को बढ़ावा देकर, जागरूक करने और मुसलिम...

दुनिया मेरे आगे: बाजार की चमक

युवा पीढ़ी के लिए मॉल में आना, घूमना, समय गुजारना एक नशा है। वे नहीं आते हैं तो उन्हें लगता है कि कुछ बहुत...

राजनीति: अफगान वार्ता और कूटनीति

अफगानिस्तान के दक्षिणी और पूर्वी राज्यों के ग्रामीण इलाके तालिबान के कब्जे में हैं। इन राज्यों में अफगान प्रशासन शहरों तक ही सीमित है।...

चौपाल: आतंक के खिलाफ

अब बारी धारा 370 व 35 अ को समाप्त करने की है। सरकार को इस बारे में ठोस निर्णय लेकर कश्मीर को आतंक से...

दुनिया मेरे आगे: अनजाने का अंदेशा

नील आर्मस्ट्रांग, बज अल्ड्रिन और माइकल कॉलिंस पूरी दुनिया में जाने-पहचाने नाम बन गए। धरती पर लौटने पर दुनियाभर के देशों में उनका भव्य...