ताज़ा खबर
 

COVID-19 Recovery Rate: सकारात्‍मक संकेत या खुशफहमी बांटने का सरकारी नुस्‍खा?

COVID-19 Recovery Rate: कोरोना से जुड़ी प्रेस ब्रीफिंग या पीआईबी द्वारा जारी कोविड-अपडेट में आजकल रिकवरी रेट पर काफी जोर दिया जा रहा है। कैसे कैलकुलेट किया जा रहा है यह रिकवरी रेट? कोरोना से लड़ाई में यह सकारात्‍मक संकेत है या खुशफहमी बांटने का सरकारी नुस्‍खा?

Coronavirus, COVID-19, Lockdown, Coronavirus Recovery Rate, Coronavirus Deaths, ICMR, Health Ministry, Ministry of Health and Family Welfare, Dr Harshwardhan, Amit Shah, Narendra Modi, BJP, NDA, Pandemic, Coronavirus Blog, India News, National Newsजम्मूः गांधी नगर के सरकारी अस्पताल में एक शख्स का कोरोना सैंपल लेता स्वास्थ्य कर्मचारी। (फोटोः पीटीआई)

COVID-19 Recovery Rate: Coronavirus Update में पिछले कुछ दिनोंं से सरकार का जोर स्‍वस्‍थ होने की दर (रिकवरी रेट) बताने पर रहा है। 31 मई को बताया गया कि यह दर अब बढ़ कर 47.76% हो गई है। पहले तो समझ लीजिए कि यह दर कैसे निकाली जाती है। सरकारी आंकड़े के मुताबिक, 31 मई (रात आठ बजे तक) कोरोना के कुल 86,983 मरीज ठीक हो चुके थे। फिलहाल 89,995 मरीज मौजूूद हैंं, जबकि 5164 लोगों की मौत हो चुकी है। इन तीनों आंकड़ों को जोड़ें तो योग 182142 बनता है। इस कुल आंकड़े के लिहाज से स्‍वस्‍थ होने वाले मरीजों (86,983) का प्रतिशत  47.76% बनता है।

मरीज कम ठीक हुए, पर रिकवरी रेट बढ़ गया: सरकार ने 31 मई को बताया कि पिछले 24 घंटों में 4,614 मरीज ठीक हुुुए। 30 मई को सरकार ने कहा था कि 24 घंटे में 11,264 मरीज ठीक हुए थे। 30 मई को रिकवरी रेट 47.40% बताया। 31 मई को यह आंकड़ा 47.76 बताया गया। 6650 मरीज कम ठीक हुए, फिर भी 31 मई को 30 की तुलना में रिकवरी रेट 0.36 प्रतिशत बढ़ गया। यह आंकड़ा समस्‍या की गंभीरता के लिहाज से व्‍यावहारिक रूप से पॉजिटिव संकेत देता है या नेगेटिव, यह आप तय करें।

मरीज बढ़े, फिर भी रिकवरी रेट सुधरा: रिकवरी रेट लगातार बढ़ रहा है। 30 मई को 29 मई की तुलना में 4.51 फीसदी ज्‍यादा रिकवरी रेट बताया गई, पर नए मरीजों की संख्‍या पर एक नजर डालिए। 31 मई को 89,995 मरीज थे। 30 को इनकी संख्‍या  86,422 और 29 मई को 89,987 थी। मरीजों की संख्‍या 31 मई को 29 मई की तुलना में ज्‍यादा हो गई। फिर भी 31 मई को रिकवरी रेट बढ़ गया।

असल में कोरोना संक्रमण के मामले बढ़ने की रफ्तार अभी सामान्‍य नहीं हुई है। 23 से 30 मई के बीच हर रोज (एक दिन छोड़ कर) 6500 से ऊपर ही नए मामले सामने आए हैं।

जिन राज्‍यों में कोरोना संक्रमण के सबसे ज्‍यादा मामले हैं, वहां भी नए मामले सामने आने की रफ्तार ऐसी नहीं हुई है जो कहा जा सके कि कोरोना का कहर कम हो रहा है। ये चार्ट 31 मई तक के कुल मामलों और 30 से 31 मई के बीच आए नए मामलों का है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 COVID-19: अफसरशाही ने बढ़ाईं महामारी में मुश्किलें
2 जनता की स्वतंत्रता की रक्षा का अपना कर्तव्‍य निभाए कोर्ट
3 ईद पर हामिद चिमटा न ला सका, ज़कात के संदेशे दे गया