scorecardresearch

कोरोना से लड़ाई में भारतीय संस्‍कृत‍ि कैसे बनी मददगार, समझ‍िए

बेकार है आयुर्वेद-एलोपैथी व‍िवाद। भारतीय संस्कृति में निहित चिकित्सकीय विधाओं के सामंजस्य भाव को समझिए।

कोरोना से लड़ाई में भारतीय संस्‍कृत‍ि कैसे बनी मददगार, समझ‍िए
ऐलोपैथी विवाद को लेकर नई दिल्ली में 25 मई, 2021 को एम्स अस्पताल के डॉक्टरों ने योग गुरु रामदेव के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया था। (फाइल फोटोः पीटीआई)

डॉ दिनेश चंद्र सिंह (आईएएस)

महामारी काल में जिस तरह से भारतीय संस्कृति की उपादेयता स्वयंसिद्ध हुई है, उसके दृष्टिगत इसके सकारात्मक पहलुओं को समझना व तदनुकूल आचरण विकसित करना अब सबके लिए जरूरी हो गया है। यदि हमलोग इसकी उपेक्षा करेंगे तो कहीं न कहीं इसके लिए हमें भारी कीमत भी चुकानी होगी। प्रकृति की अवहेलना करके मानव समुदाय जो समसामयिक कीमत चुका रहा है, उससे बचने की नसीहतें भारतीय संस्कृति में काफी अर्से से दी जाती रही हैं, लेकिन हमारा धर्मनिरपेक्ष मिजाज और वैज्ञानिक चकाचौंध हमें समवेत रूप से सोचने-विचारने की फुर्सत कहां देता! और यदि कभी देता भी है तो तथाकथित विकास की गरज से हमलोग उसपर सोचते-विचारते भी नहीं। शायद आयातित जीवन मूल्यों का बढ़ता हस्तक्षेप भी इसके लिए कहीं न कहीं जिम्मेदार अवश्य है, बशर्ते कि हमलोग इसे समझ पाएं।

सवाल है कि संस्कृति क्या है, शब्दकोश उलटने पर इसकी अनेक परिभाषाएं मिलती हैं, परंतु अभी तक की अभिव्यक्त की गई परिभाषाओं में मुझे यदि कुछ प्रभावित एवं अनुकूल लगती है तो वह यह कि “संसार भर में जो भी सर्वोत्तम बातें जानी, समझी या कही गई हैं, उनसे अपने आपको परिचित कराना ही संस्कृति है।” वास्तव में, संस्कृति किसी की शारीरिक या मानसिक शक्तियों का प्रशिक्षण, सुदृढ़ीकरण या विकास अथवा उससे उत्पन्न अवस्था है, जिससे यह मन, आचार-विचार व रुचियों की परिष्कृति यानी शुद्धि होती है। यह सभ्यता का भीतर से प्रकाशित हो उठना भी है। इस अर्थ में संस्कृति कुछ ऐसी चीज का नाम हो जाता है जो बुनियादी और अंतरराष्ट्रीय है। फिर भी संस्कृति के कुछ राष्ट्रीय पहलू भी होते हैं। अर्थात संस्कृति का विकास अतीत की दीर्घकालिक व्यवस्था की सुदृढ़ता पर निर्भर करता है।

जहां तक भारतीय संस्कृति के विकास की यात्रा का प्रश्न है। तो निःसंकोच कहूंगा कि यह हजारों वर्षों की हमारे संतों, महर्षियों, विद्वान मनीषियों, धर्मगुरुओं व पूर्वजों द्वारा सैद्धांतिक एवं व्यवहारिक संयम, धैर्य, त्याग, बलिदान व पुरुषार्थ अर्थात मन, वचन एवं कर्म का संयम एवं अनुशासन पूर्वक तीनों को मजबूती प्रदान करने वाले तत्वों की प्राप्ति की अनवरत साधना है जो संस्कृति को दृढ़ता प्रदान कर सकती हैै।

अर्थात हम यदि संस्कृति की उत्कृष्ट परिभाषा दें, तो वह यह होगा कि “संसार भर में जो भी सर्वोत्तम बातें जानी, समझी या कही गई हैं, उनसे अपने आपको परिचित कराना भी संस्कृति है।” अर्थात दुनिया भर की अच्छी चीजों को जानना और जानने की निरंतर जिज्ञासा रखना तथा जानकर अपनी सभ्यता के अनुसार, अपने देश की शासन प्रवृत्ति के अनुसार, देशकालिक भौगोलिक परिस्थितियों के मुताबिक एवं जीवन जीने की शैली की उपयोगिता को दृढ़ता देने वाले तत्वों को सावधानीपूर्वक अपने देश की जनता में प्रचार-प्रसार करने की भावना जागृत कराकर उनको आत्मसात करने की, कभी न थकने वाली पद्धति को जनमानस में आत्मसात कराना ही संस्कृति के विकास को गति दे सकता है।

इस प्रकार “संस्कृति शारीरिक या मानसिक शक्तियों का प्रशिक्षण, सुदृढ़ीकरण या विकास अथवा उससे उत्पन्न व्यवस्था है।” संस्कृति की परिभाषित परिभाषा में विकास की अनेक संभावनाएं हैं और संस्कृति देशकाल परिस्थितियों एवं आवश्यकता के आधार पर ही उत्कृष्ट कारकों, जो हमारी शारीरिक, मानसिक स्थिति को निरंतर दृढ़ता प्रदान करने में सहायक बने, ऐसे तत्वों, ज्ञान को अपना मानकर अपने जीवन में आत्मसात करना हमारी आने वाली संस्कृति के विकास की यात्रा को और पुष्ट करेगी।

अब अपने आप को मात्र 6 वर्ष पीछे लेकर चलते हैं और संस्कृति के उस पहलू को जीवन में आत्मसात करने की संघर्ष यात्रा का वर्णन संक्षिप्त में करते हैं, जहां से हमने हजारों वर्षों की संस्कृति में उपरोक्त परिभाषाओं को पुष्ट करने के लिए बहुत कुछ सीखा एवं आत्मसात किया है।

हमारी सरकार ने स्वच्छता के प्रति संवेदनशीलता दिखाते हुए, स्वच्छता के विभिन्न मानकों को “स्वच्छ भारत अभियान” के माध्यम से अपनाकर और इस बाबत जनता को जागृत कर व्यवहार परिवर्तन के माध्यम से जनमानस में उसकी उपयोगिता को दर्शाया है। क्योंकि स्वच्छता के तत्वों की, शारीरिक मानसिक दृढ़ता के लिए इसकी आवश्यकता को दृष्टिगत रखते हुए ही “खुले में शौच मुक्त भारत” को भारत का सपना बनाने का विषय बहुत बड़ा है। और इसको प्राप्त करने की संघर्ष यात्रा के विषय का पृथक से ही चर्चा यहां करना उचित होगा।

परंतु मैं संक्षेप में यह कहना चाहता हूं कि हमारी संस्कृति के तत्वों ने किस प्रकार कोरोना से बचने की ताकत दी और अभी हाल के वर्षों के प्रयास ने कोरोना प्रोटोकॉल के उपयोगी सिद्धांतों को अनुपालन कराने में कितनी सहायता मिली है; यह हमारी संस्कृति के विगत मात्र 6-7 वर्षों की यात्रा के दौरान व्यापक स्तर पर हुए प्रयास की सफलता की कहानी है। जिसको बल देने एवं आत्मसात कराने की प्रक्रिया में भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एवं उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के द्वारा क्रमशः 6 एवं 4 वर्षों में स्वच्छ भारत अभियान के “खुले में शौच मुक्त भारत” के स्वप्न को साकार करने की भागीरथी कोशिश की संघर्ष यात्रा है, जिसमें भारतीय लोकतंत्र के नागरिकों, संस्थाओं और सरकार के अंतर्गत काम करने वाले अधिकारियों व कर्मचारियों के परिश्रम एवं उनकी निष्ठा पूर्वक की गई सेवाओं की आज मैं मुक्त कंठ से प्रशंसा करता हूं।

ऐसा इसलिए कि मैं भी उस यात्रा का अंग रहा हूं और मुझे भी इन लक्ष्यों की पूर्ति के लिए बेहतर कार्य करने का अवसर विभिन्न मुख्य पदों अर्थात मुख्य विकास अधिकारी अलीगढ़, नगर आयुक्त गाजियाबाद, जिलाधिकारी कानपुर देहात के रूप में प्राप्त हुआ था।

बहरहाल, मैं यह नहीं कह सकता कि हम शत प्रतिशत “खुले में शौच मुक्त” बन चुके हैं, परंतु इस दिशा में हमने जो किया है या सरकार कर रही है, वह संस्कृति के विकास एवं स्थायित्व की एक सुदीर्घ प्रक्रिया है, जिसके अनुपालन की दिशा में एक सार्थक एवं मजबूत कदम बढ़ाया जा चुका है।

इसी के चलते आज कोविड-19 के वैश्विक संक्रमण के दौर में होम आइसोलेशन में रोग से प्रभावित एवं उपचारित रोगियों की सुविधा में काम आए व्यक्तिगत शौचालय की उपयोगिता की बात करने के लिए मुझे स्वच्छ भारत अभियान की बात का उल्लेख करना पड़ रहा है। क्योंकि होम आइसोलेशन के लिए पहली शर्त यही थी कि मरीज के लिए व्यक्तिगत शौचालय हो।

जरा सोचिए, यदि एसबीएम के अंतर्गत व्यक्तिगत शौचालय का निर्माण न कराया जाता तथा उसके प्रयोग की व्यवहारिक पद्धति को आत्मसात करने की अलख न जगाई गई होती तो आज कोरोना के संक्रमण से प्रभावित व्यक्तियों के होम आइसोलेशन में इलाज की समुचित व्यवस्था कैसे की जाती। क्योंकि व्यक्तिगत शौचालय का होना होम आइसोलेशन का एक महत्वपूर्ण घटक है, जिसके बिना रोगी के मल त्याग एवं उसके निपटारा की वैज्ञानिक व्यवस्था के अभाव में कोविड 19 संक्रमण के वायरस को रोकने में बहुत कठिनाई होती, क्योंकि आप जानते हैं कि खुले में संक्रमित व्यक्ति के मल त्याग से कितनी तीव्रता से संक्रमण का फैलाव होता।

भारत एवं विश्व के नागरिकों ने ऐसे संतों, मनीषियों, महापुरुषों, वैज्ञानिकों, गुरुओं यथा पतंजलि, चरक, सुश्रुत, स्वामी विवेकानंद, अरविंदो घोष, श्री श्री रविशंकर, साध गुरु और स्वामी रामदेव आदि, जिन्होंने भारतीय चिकित्सा पद्धति के अलावा किसी भी चिकित्सकीय विधा में मानव के कल्याण के लिए कार्य किया है अथवा कर रहे हैं। तभी तो भारतीय संस्कृति द्वारा पोषित, पल्लवित एवं संरक्षित विद्याएं, यथा- व्यायाम, योग, ध्यान साधना एवं प्रकृति से तारतम्य रखने वाली वनस्पतियों पर आधारित व वैज्ञानिक द्वारा प्रगणित आयुर्वेदिक इलाज पद्धति के प्रचार-प्रसार से यह जनमानस में सहजता व सरलता से मानव उपयोगी बना रहा है।

आज हमारा राष्ट्र एवं विश्व के नागरिक भौगोलिक सीमा का परित्याग कर उनको विश्व गुरु एवं ऐसी सम्माननीय उपाधियों से नवाजते अथवा हृदय से संबोधित करते हैं, जिससे यह बोध होता है कि उनके द्वारा मानव कल्याण के हित में की गई सेवा का उत्कृष्ट यश-कीर्ति या विजय पताका फैलाने की उपलब्धि है।

अब समय आ गया है कि सभी के ज्ञान को जनकल्याण के लिए संगठित कर ज्ञान की खोज पर आधारित एवं वैज्ञानिक कसौटी पर कसी हुई एवं परीक्षित तौर-तरीकों का एकजुटता के साथ उपयोग करें।

मसलन, मानव कल्याण के लिए कामायनी की कुछ पंक्तियां यहां उद्धरण के योग्य है, जो सभी के लिए उपयोगी है- ज्ञान, दूर कुछ किया भिन्न है, इच्छा क्यों पूरी हो मन की।। तीनों मिलकर एक ये हो सके। यही विडंबना है जीवन।।

अतः तीनों विधाओं के योग्य व्यक्ति, तीनों विधाओं की उत्कृष्ट खोज की मानव जीवन की रक्षा में नि:स्वार्थ भाव से लगाएं। उसी दशा में मानव की विजय होगी और हमारी भारतीय संस्कृति की विश्व स्तर पर सराहना होगी।

सभी लोग उन विशिष्ट खोज को अपने मानव उपयोगी मानने पर प्रयोग में लाकर भारत की विश्व गुरु की प्राचीन सभ्यता एवं संस्कृति की पुनः पदस्थापना होगी, जिससे उनके आदर्शों का स्वप्न साकार होगा।

कहना न होगा कि हमारी संस्कृति की प्राकृतिक विविधता एवं मानवीय विविधता के विभिन्न तत्वों को एकीकार कर प्रभु राम एवं भगवान श्री कृष्ण तथा अन्य धर्मावलंबियों के धर्मगुरुओं ने अपने उत्कृष्ट ज्ञान से इसे पोषित एवं पल्लवित किया है। जिससे यह विश्व कल्याण के लिए उपयोगी है।

अतः संस्कृति की परिभाषा के अनुसार, सर्वोत्तम बातें जानकर, उन्हें अपने समाज में आत्मसात करने के प्रयास को भी संस्कृति की विकास यात्रा के लिए अत्यंत आवश्यक समझा जाता है।

रही बात आजकल पैदा हुए विवाद दर विवाद की, तो इतना समझ लीजिए कि आयुर्वेद, एलोपैथ व यूनानी चिकित्सा पद्धतियों के विशेषज्ञ में अपने आपको स्थापित करने की जो होड़ मची है, वह निरर्थक है। यहां पर मैं किसी के नाम का उल्लेख नहीं करूंगा। लेकिन सिर्फ इतना कहूंगा ही कि भारतीय समाज में सभी वैज्ञानिक प्रवृत्ति आधारित चिकित्सा पद्धतियों की मानव जीवन की रक्षा करने में अतुलनीय, अनुकरणीय एवं प्रशंसनीय योगदान है।

फिर भी कष्ट एवं पीड़ा इस बात की होती है कि बिना एक दूसरे की पद्धति के उत्तम व उत्कृष्ट तत्वों को ज्ञान की कसौटी पर कसे मात्र, हम अपने को जरूरत से ज्यादा प्रसिद्धि की कामना से उत्पन्न माया, मोह, स्वार्थ के लालच में घेर लेते हैं, जिससे किसी की आलोचना करना प्रारंभ कर देते हैं, जो हर किसी के लिए बेहद कष्टदायक व पीड़ादायक हो जाता है।

यह वास्तव में मानव जीवन की रक्षा के प्रयासों में की जा रही तरह तरह की खोज की जिज्ञासा को कुंठित करने का एक प्रयास भी हो सकता है। क्योंकि जैसे धन के अति लोभ के कारण मनुष्य भ्रष्ट होता है, वैसे ही कीर्ति के लोभ में पड़कर भी व्यक्ति अपने मूल कर्तव्य से च्युत हो जाता है। ऐसा करके हम अपनी यश-कीर्ति को बढ़ाने का जो प्रयास करते हैं, उससे हमारी यश-कीर्ति बढ़ेगी नहीं, बल्कि कहीं न कहीं आपकी कृति को प्रभावित कर आपको अपने कर्तव्यों की पालना से ही च्युत करेगी।

तथाकथित तौर पर आयुर्वेद एवं योग का जनक कहलवाने की लालसा किसी के लिए भी अच्छी नहीं होती है। क्योंकि ऐसे सभी उत्कृष्ट व सच्चे विद्वानों को समाज ने बहुत शोहरत एवं दुआ बख्शी है, जिसके आधार पर आप सभी को आपकी मेहनत, योग्यता एवं त्याग का फल जनता एवं ईश्वर ने दिया है। जिसके बल पर बहुत अल्प अवधि में सभी धन, वैभव एवं कीर्ति की पराकाष्ठा को प्राप्त करने में सफल हुए हैं। परंतु अब जनहित, मानव कल्याण हित एवं राष्ट्र हित में इस प्रकरण की बहस से बचें। साथ ही, आधुनिक युग के प्रमाणिक व वैज्ञानिकों की खोज पर आधारित टीकाकरण को अपनी जीवन शैली में आत्मसात करते हुए एलोपैथी चिकित्सा क्षेत्र से जुड़े वैज्ञानिकों एवं चिकित्सकों के परिश्रम का भरोसा करें और उनकी खोज को सराहें।

वास्तव में, जीवनरक्षक टीका की खोज करने वाले वैज्ञानिकों ने, जिन्होंने आधुनिक युग के राम बनकर एक कल्याणकारी अवधारणा विकसित की एवं कम समय में अपने द्वारा किए गए प्रयासों से जीवनरक्षक टीका विकसित किया, इसलिए उनकी तारीफ अवश्य करें।

कहना न होगा कि जिस प्रकार युद्ध के समय में स्वयं प्रभु राम ने नल-नील की सेतु निर्माण मेंं किए गए कार्यों, अभिनव प्रयासों एवं विशेषज्ञता की प्रशंसा की, उससे आज भी मानव कल्याण के इतिहास में वो अजर-अमर हैं। इसी प्रकार टीके की खोज करने वाले वैज्ञानिक भी अजर-अमर रहेंगे। अभी टीके की खोज व विकास की प्रक्रिया समाप्त नहीं हुई है और वैज्ञानिक पूरे मनोयोग से उसमें कार्य कर रहे हैं। इसलिए हो सकता है कि मानव कल्याण के लिए वो और अच्छी खोज करें।

व्यापक अर्थों में हमारी संस्कृति की विविधतापूर्ण जीवन शैली एवं अनेकता में एकता की बातें उसकी परिपक्वता एवं वैचारिक सुदृढ़ता की परिचायक हैं। हमारी संस्कृति की प्रमुख विशेषताओं के विभिन्न घटकों और उन पर आधारित महत्वपूर्ण जीवन पद्धति व विचार शैली जैसे, खान-पान, पूजा-अर्चना, पहनावा यानी पोशाक, स्वच्छता, संयम व धैर्य हमें न केवल सुकून देते हैं, बल्कि स्वास्थ्यबर्द्धक भी हैं। जब हमलोग अपने गुरुओं, विभिन्न विषयों के विद्वानों के कथनों-उपदेशों को अपने जीवन पद्धति का अंग बनाते हैं तो उसके क्रम में काफी चीजें खुद ब खुद हमारी दिनचर्या में शामिल हो जाती हैं, जो जनजीवन के लिए लाभदायक व प्रेरणादायक होती हैं। जैसे, काढ़ा में प्रयुक्त होने वाली खान-पान की वस्तुओं का चलन एवं प्रचलन आज से नहीं है, बल्कि सदियों से हमारी भारतीय संस्कृति के घटक खान-पान एवं भोजन पद्धति का विशेष अंग एवं विशेषता रही हैं। जिसके फलस्वरूप हम अपने खान-पान, भोजन पद्धति के आधार पर रोग प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत करें और उन्हें सुदृढ़ बनाकर किसी भी रोग के संक्रमण की लड़ाई लड़ने की कला में पूर्व से ही सिद्धहस्त हैं।

दरअसल, वह ज्ञान एवं संस्कृति पर आधारित भोजन पद्धति है, जिसने इस समय अपनी प्रासंगिकता के कारण सभी को आकर्षित किया है। सादा जीवन उच्च विचार, शाकाहारी भोजन एवं प्रकृति की उत्कृष्ट गोद में बसने की चेतना व वहां उपलब्ध या उससे प्रभावित हमारी भोजन व्यवस्था को रोग प्रतिरोधक क्षमता की बढ़ोतरी का संदर्भ देने वाली हमारी सनातन वैष्णव भोजन पद्धति भी बहुत उपयोगी रही है।

देखा जाता है कि जब हमारी रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर रहती है तो ऐसा खान-पीन यानी भोजन पद्धति, जो मांसाहार या उनसे बने उत्पाद पर आधारित होती है, का परित्याग कर दिया जाता है, क्योंकि उनसे पाचन तंत्र ठीक नहीं होता है। इसलिए आज के परिदृश्य में पाचन योग्य भोजन पद्धति यानी सत्य सनातन आहार विहार पद्धति ही रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए अधिक कारगर है।

दरअसल, सत्य सनातन आहार विहार पद्धति वनस्पति एवं प्रकृति पर आधारित है। यह हमारी धरती माता द्वारा हमारे जीवन के लिए दिया हुआ बहुत ही अमूल्य उपहार है। गौर कीजिए कि महामारी में जीवन दायी काढ़ा के विभिन्न अवयव यानी घटक यथा हल्दी, काली मिर्च, जीरा, धनिया, दाल चीनी, लॉन्ग, अजवायन, इलायची, सोंठ, मीठी नीम, तुलसी, पुदीना इत्यादि हमारेे जीवन के लिए कितना उपयोगी साबित हुए हैं।

हमारे लिए हर्ष का विषय यह है कि गरम मसाला के रूप में या देशी दवा के रूप में इनका उपयोग हमारे घर-घर में होता आया है। हमारी भारतीय संस्कृति की भोजन व्यवस्था में स्वास्थ्य की दृष्टि से उनका उपयोग सुदीर्घ कालखंड यानी पुरातन समय से ही हो रहा है। यही कारण है कि कोरोना महामारी के खतरे से भी हम सब महफूज रहे तथा इस अदृश्य वायरस के खिलाफ अपनी लड़ाई को आक्रामकता से लड़े। कहना न होगा कि हमारी संस्कृति ने हमें रोगाणुओं के ऐसे तत्वों से लड़ने एवं रोग प्रतिरोधक क्षमता विकसित करने की परंपरा को शुरू से ही विकसित किए हुए थी, उसका लाभ पहले भी मिला था, आज भी मिल रहा है, आगे भी मिलेगा।

इसीलिए इनके प्रयोग को बढ़ाने के लिए कोई व्यक्ति एवं संस्था अपना विशेष योगदान न माने, क्योंकि यह भारतीय संस्कृति की भोजन पद्धति के अनुपालना की बहुत ही प्राचीन व्यवस्था है। अब जरूरत है, भारतीय संस्कृति के मौलिक घटकों को सुदृढ़ बनाने की, उसकी निरंतरता व निःस्वार्थता को बनाए रखने की। ऐसा इसलिए कि भारतीय संस्कृति जीवंत है।

IAS, Dinesh Chandra Singh, Coronavirus
लेखक उत्तरप्रदेश संगीत नाटक अकादमी के सचिव हैं। यहां व्यक्त विचार उनके निजी हैं।

पढें ब्लॉग (Blog News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

First published on: 04-06-2021 at 14:29 IST

युगलों के बीच की गलतफहमियां अपने आप दूर होकर शांतिपूर्ण संबध लौटेंगे। आपके लिए लंबी यात्रा के योग हो सकते हैं। इस यात्रा से आपको कुछ समय के लिए अपने परिवार से दूर रहना पड़ सकता है। नए उपक्रम की योजना बना रहे व्यापारियों को चाहिए कि आज काम का शुभारंभ अवश्य करें और इस…

विवाहित युगल आज अत्यधिक सामीप्य का अनुभव करेंगे और प्रेम और सद्भावनापूर्ण संबंधों का आनंद लेंगे खोजकर्ताओं का एक समूह आपको उनकी यात्रा में शामिल होने के लिए आमंत्रित कर सकता है। यह आपके लिए किसी सपने के पुरे होने जैसा होगा। आप हमेशा से ही पर्यटन के माध्यम से ज्ञान प्राप्त करने के इच्छुक…

अविवाहित व्यक्तियों को चाहिए कि अपने मित्रों को पार्टियों और समारोहों में हिस्सा लें, जिससे संभावित प्रेमी से भेंट हो सके। अगर परिवार के साथ बाहर सैर सपाटे पर जाने की योजना बना रहे हैं तो आज दिन अच्छा है। स्वास्थ्य सेवाकर्मी और डॉक्टर आज अपने व्यवसाय के चरम शिखर पर होंगे। राजनेताओं को आज…

आज कामकाज के संबंध में किसी से भेट हो सकती है जिससे मिलकर आप उसकी ओर आकर्षित हो सकते हैं। परिवार के वयस्क आज बहुत ऊर्जावान महसूस करेंगे। वे दूसरे सदस्यों के साथ भी मिलजुल कर आनंद मग्न रहेंगे। घर में छोटी-मोटी समस्याएं हो सकती हैं जिसके कारण आपको पहले से तय कोई सैर या…

वयस्कों के अनुभव और मार्गदर्शन से घर के सभी सदस्यों को लाभ होगा। बच्चों को अपने बुजुर्गों से व्यवहार करते समय मर्यादा में रहना चाहिए। उनका बचपना वयस्कों को दुखी कर सकता है। विद्यार्थियों के लिए अच्छा दिन है। वे बौद्धिक विषयों पर दोस्तों के साथ पूरे आत्मविश्वास के साथ प्रतिस्पर्धा करेंगे। जो लोग एक…

अविवाहितों के पालक उनके लिए योग्य सम्बंध के लिए प्रयत्न करेंगे। कोई अप्रत्याशित व्यावसायिक यात्रा आपके कार्यक्रम को उथल पुथल कर सकती है। लेकिन इस यात्रा के परिणाम आपके लिए फायदेमंद होंगे। अपने मकान निर्माण की योजना बना रहे लोगों के लिए आज शुभ दिन होगा। शेयर बाजार के मधास्था और प्रतिस्पर्धियों को आज अत्यधिक…

आज किसी प्रियजन के बारे में दुखद समाचार सुनने मिल सकता हैं, आपकी उपस्थिति और सहायता से उन्हें बहुत सांत्वना मिलेगी यदि आप अविवाहित है तो आज किसी भी नए व्यक्ति से मिलते समय सावधान रहें। धन रखें की हर चमकती सोना नहीं होती। आज आप अपनी यात्रा के दौरान किसी अविस्मरणीय व्यक्ति से मिल…

एकाकी जन आज किसी से मिलेंगे जो उनके जीवन में नए सकारात्मक बदलाव लाएगा। छात्रों के लिए आज अनुकूल दिन नहीं हैं। वे अपने दोस्तों के साथ बहस कर समय बर्बाद कर सकते हैं। आज खिलाड़ियों को अपने-अपने क्षेत्र में उपलब्धियों के लिए पुरस्कार मिलने की संभावना बताई जाती है। उन्हें आज जीवनगौरव पुरस्कार भी…

आज आप अपने पुराने रिश्ते को सुधारने की दिशा में क़दम उठाएंगे। ठंडी हवा और शीत पेय आदि से प्रभावित होने वाले बच्चों को इन चीजों से दूर रखें। मौसम के कारण उनका स्वास्थ्य बिगड़ सकता है। जो लोग काम की तलाश में हैं उन्हें संकोच और शर्म छोड़ कर निशंक होकर दूसरों से मदत…

उत्सव के माहौल के रूप में परिवारों के लिए एक अच्छा दिन आता है और बहुत खुशीयां लाता है। शिक्षक और विद्यार्थी जो शैक्षणिक यात्रा पर जा रहे हों, उन्हें बहुत सजग रहने की आवश्यकता है। छोटी मोटी दुर्घटनाओं की संभावना है। जंगल, नदी, पहाड़ों से गुजरते समय सावधान रहें। आपकी व्यावसायिक नीतियाँ, कुशलता और…

अविवाहितों को किसी अनापेक्षित मार्ग से आज विवाह के प्रस्ताव मिल सकते हैं। बाहर मनोरंजन हेतु जाने का कार्यक्रम किसी अनापेक्षित कारण से स्थगित करना पड़ेगा, जिससे सभी को निराशा होगी। शिक्षकों के लिए आज शिक्षा के सन्दर्भ में चुनौती भरा दिन होगा। विद्यार्थियों की समस्याओं के समाधान से उनके अध्यापन कौशल्य की परीक्षा होगी।…

अविवाहित जन आज किसी आकर्षक व्यक्ति से मिल सकते हैं, पर उन्हें सलाह है कि कोई भी प्रतिबद्धता या समर्पण व्यक्त करने से पहले अच्छी तरह सोच समझ लें। आज बाजार का उतार चढ़ाव निवेशकों को अनापेक्षित मुनाफा दिलाएगा। वे वास्तव में बहुत बड़ा लाभ पा सकते हैं यदि सोच समझ कर निवेश करें। व्यवहार-कुशल…

आप आज महमानों को अपने घर आमंत्रित करेंगे और आदर्श मेजबान होंगे। आप सभी आमंत्रित लोगों से मेलजोल बढ़ाएंगे, अपने बारे में बताएँगे, साथ ही उन्हें भी अपने परिवार के बारे में बात करने के लिए प्रोत्साहित करेंगे।कलाकार किसी नए रचनात्मक कलाकृति को शुरू करने के लिए अपनी कलात्मकता और प्रवृत्ति का उपयोग करेंगे।सरकारी परियोजनाओं…

आपके प्रणय को अंततः आज आपके माता-पिता की औपचारिक मंजूरी मिल जाएगी।उच्च शिक्षा के लिए बाहर जाने की इच्छा रखने वाले बच्चे आपकी सलाह के लिए आपसे संपर्क करेंगे जिससे आपको बहुत खुशी और गर्व होगा।छात्र आज अपनी जरूरी परियोजनाओं को करने में निष्क्रिय हो सकते हैं। जो लोग तकनीकी जाँच में हैं, वे भी…

मामूली बीमारी से ग्रस्त बच्चों को आज बिस्तर पर पड़े रहना होगा, जिससे खेलकूद ना कर सकने के कारण निराशा होगी।अपने हिस्सेदार पर अंधा विश्वास अनावश्यक आर्थिक नुकसान का कारण हो सकता है। उस पर विश्वास रखें पर सारी बातें उस पर ना छोड़ें। उनकी गतिविधियों पर ध्यान दें।आज वयस्क स्वजनों को स्वास्थ्य जाँच के…

व्यापारी के लिए आज का दिन अच्छा है। आज आप ग्राहकों, सहयोगियों और अधिकारियों से भेंट और वार्तालाप कर सकते है।अपने आर्थिक मामलों में सावधान रहें और भविष्य में सारे आर्थिक काम और अर्थ संकल्प बनाकर उसका पालन करें।जो लोग अचल संपत्ति के व्यवसाय में हैं, उनके नए सौदों में अनावश्यक देरी होने की संभावना…

लेखपालों के लिए आज अच्छा दिन है। वे आज ख्याति प्राप्त कर सकते हैं।संभवता छात्र आज आयोजित शैक्षणिक दौरे में भाग नहीं ले पाएंगे। विद्यार्थी आज शिक्षकों के पास आत्मीयता की अपेक्षा लेकर आयेंगे। उन्हें शिक्षकों की ओर से प्रशंसा और अपनापन मिलेगा।अपने नये रिश्ते को बढ़ने और परिपक्व होने के लिए थोडा और समय…

बच्चे आज खुद को क्षतिग्रस्त कर सकते हैं। उनको मामूली खरोंच या चोट हुई, तब भी पूरा परिवार परेशान हो जायेगा।तकनीकी विषयों का अध्ययन करने वाले छात्रों के लिए एक कठिन दिन हैं। उन्हें अध्ययन करने में समर्थ होने के लिए शांतिपूर्ण वातावरण की आवश्यकता है।कलाकार आज स्वयं को शारीरिक रूप से अस्वस्थ अनुभव करेंगे…

पक्ष के वरिष्ठ नेता उन राजनीतिज्ञों के प्रति उदासीन रहेंगे जो सफलता के लिये जी जान से प्रयत्न कर रहे हैं। स्वास्थ्य सेवा कर्मियों के लिए सारा दिन कुछ समस्याएं सामने आ सकती हैं। ये उनके लिए थका देने वाला दिन होगा। तथापि वे इन समस्याओं से छुटकारा पा लेंगे।वरिष्ठ वकील आज अपने उच्चाधिकारियों द्वारा…

तकनीकी दृष्टि से योग्य पेशेवर आज अपने कार्यक्षेत्र में ऊँचे आयाम हासिल करेंगे। कार्यक्षेत्र के नए क्षितिज का विस्तार करने के योग है।बच्चे आज घर के छोटे मोटे कामों में मदत करके बहुत सहायक साबित होंगे। आज शाम के लिए यदि आयोजित कार्यक्रम हो तो उत्सव मस्ती और आनंद से भरा हुआ होगा। आज का…

वयस्कों से अपनी किसी भी समस्या के लिए सलाह लीजिये। इससे आपको उनके अनुभव से लाभ होगा और उन्हें भी प्रसन्नता होगी।आप खुद को अस्वस्थ महसूस कर सकते है। इस दशा में आप किसी से भी सम्पर्क ना करके अकेले ही रहना पसंद करेंगे।लेखापालों को चाहिये कि किसी विशेष प्रकल्प के सिलसिले में किसी विशेषज्ञ…

आज अपने खान पान का विशेष ध्यान रखें। किसी विषैली वस्तु के सेवन या पेटदर्द की संभावना है। भोजन प्रमाणबद्ध और पौष्टिक हो, इसका ध्यान रखें।जो लोग अचल संपत्ति के व्यवसाय में हैं उनका आज का दिन बहुत व्यस्त रहने की संभावना है। अनेक फोन, ग्राहकों से संपर्क होंगे और उनके सौदा तथा व्यवहार पूर्ण…

लंबी बीमारी से पीड़ित शय्या ग्रस्त मरीज उचित दवा और देखभाल से जल्द ही ठीक हो जाएंगे। अपने प्रिय के साथ झगड़े से आज आप बहुत उदास रहेंगे। समझ बूझ कर समझौता कर लेना चाहिए।दोस्तों या सहपाठियों के साथ बात करते समय छात्रों को सावधानी बरतने की सलाह दी जाती है। गलतफहमी होने की संभावना…

जमीन-जायदाद के जुड़े कारोबारियों के लिए आज दिन अनुकूल रहेगा। आज काम की बहुत व्यस्तता रहेगी।बच्चों की शिक्षा आज परिवार के लिए विचार का विषय होगी।वकील गण आज अपने विवेक से निर्णय लेंगे और ये सफल निर्णय उन्हें सह-कर्मियों और वरिष्ठों से प्रशंसा दिलाएंगे।नई नौकरी के परिणाम के लिए प्रतीक्षा कर रहे खिलाड़ियों को आज…

इस महीने मेष राशि के सीमा दलों से जुड़ें जातकों को चाहिए कि वह स्वयं को संयमित रखकर अपनी ओर से किसी भी चुनौती का सामना करने के लिए तैयार रहें। यह मास बुद्धिजीवियों वकीलों लेखकों और न्याय क्षेत्र से जुड़े लोगों के लिए बहुत सफल और सार्थक सिद्ध हो सकता है। जातक अपने अपने…

वृषभ राशि के जातकों के लिए जनवरी 2023 यह माह मिश्र फल देने वाला रहेगा, फिर भी शुभशुभ फल अधिक मिलेंगे। राजनीतिक पदों पर आसीन उच्चाधिकारी और सेना के मंत्रीगण और अन्य अधिकारी इस माह बहुत अधिक प्रवास और यात्राएं करने से थकान का अनुभव कर सकते हैं। उन्हें प्रशासन और अन्य कामो के सिलसिले…

जनवरी महिना मिथुन जातकों के लिए ग्रहों के अच्छे फलों के कारण अत्यंत शुभ फलदाई और संतोषजनक सिद्ध होगा. जातकों को चाहिए कि वे संबंधी शारीरिक विकारों से सतर्क रहें और आहार-विहार पर विशेष रुप से ध्यान देकर अनावश्यक व्याधियों से बचने का प्रयत्न करें. शिक्षाविदों को और विद्यार्थी युवको को इस माह शिष्यवृत्ती और…

वर्ष 2023 का आरंभ कर्क जातकों के लिए अत्यंत सुखद और शुभ फल प्रद सिद्ध होने वाला है. ग्रहों के स्वामी सूर्य की कृपा दृष्टि से कर्क जातकों को हर ओर से विजय, समृद्धि और हर दिशा में सफलता प्राप्त होने के शुभ योग दिखाई देते हैं. जनवरी का पूर्वार्ध अत्यंत व्यस्तता से भरा और…

सिंह जातकों के लिए यह माह अत्यंत फलदायी सिद्ध होगा। प्रजा, राज्य तथा उच्चाधिकारियों, शासन प्रशासन की ओर से कई प्रकार की सुविधाएं प्राप्त कर सकती हैं। यह मास विशेष रुप से सर्वोच्च श्रेणी के नेतागण, राज निक और उच्चाधिकारियों के लिए बहुत अधिक सुख और आनंद प्रदान करने वाला सिद्ध होगा। विवाह इच्छुक युवा…

कन्या जातक राजनेता, उच्च पदाधिकारी, लोकनायक, शासक वर्ग माह के पूर्वार्द्ध में अच्छे निर्णय और जनहित की नीतियों और उनके उचित व्यवस्था के कारण अपनी छवि सुधारने में सफल होंगे और विरोधियों और जन-सामान्य के विरोध पर विजय प्राप्त करेंगे। कृषि, पशुपालन, दुग्ध-व्यवसाय विशेष रूप से पशु, कुक्कुटखाद्य के उद्योग और व्यवसाय कठिन समय से…

इस माह तुला जातकों को शुभ ग्रहों की स्थिति से बहुत सुख और सफलता प्राप्त होगी और जीवन सहायक सिद्ध होगी। वैसे तो पूरा माह धन लाभ का आनंद और खुशियों भरा रहेगा, परंतु महीने के अंतिम पक्ष में थोड़े खर्च बढ़ सकते है। इस माह राजनीतिक प्रशासन, शासन, वकालत, प्रचार माध्यम शिक्षा और कृषि…

वृश्चिक राशि के लिए यह माह मिश्र फल देने वाला पर कुछ चुनौतियों भरा भी होगा। इस महीने शासनकर्मी उद्विग्न और चिंताग्रस्त रहेंगे, विरोध आदि राजनीतिक अस्थिरताओं के कारण मानसिक तनाव रहेगा। जन सामान्य के विरोध का शासक वर्ग को सामना करना पड़ सकता है। सेना, सीमा सुरक्षा दल, पुलिस दल आदि भी तनाव में…

जनवरी माह धनु जातकों के लिए बहुत अधिक आनंददायी और सुख संपन्नता भरा सिद्ध हो सकता है। महीने का प्रथम पूर्वार्ध जन साधारण और मध्यमवर्गीय जातकों के लिए बहुत अधिक धनार्जन, शासन, प्रशासन से सहायता या कानूनी समस्याओं से मुक्ति पाने वाला होगा और कुछ मामलों में माह के मध्य में दीर्घ समय से चलने…

जनवरी माह में मकर राशि के जातक मिले जुले फलों का अनुभव करेंगे। माह के पूर्वार्ध में जो मानसिक तनाव जातक अनुभव करेंगे, वह 15 तारीख के बाद निरस्त होगा उपरांत पूरा महीना शुभ ग्रहों की कृपा से सुख और आनंदपूर्वक बीतेगा। प्रेमी युगल, विवाहित दंपत्ति, इस काल में अविवाहितों को सुयोग्य जीवन साथी की…

कुंभ जातकों के लिए यह माह अत्यंत चुनौतीपूर्ण और कठिनाइयों भरा रहेगा। इस माह व्यापारी, स्वकर्मी, अधिकारी, राजनेता आदि जातकों को प्रचंड जन-विरोध और असंतोष का सामना करना पड़ सकता है। प्रशासन, सुरक्षादल, सेना, पुलिस और अन्य जातक इस माह परेशान रहेंगे और साथ में गृहस्थी से संबंधित समस्याओं से घिरे रहेंगे। परिवारजन के स्वास्थ्य…

यह नववर्ष का जनवरी माह मीन जातकों के लिए शुभ फल देने वाला माह सिद्ध होगा। जल थल सेना तथा इन क्षेत्र से संबंधित जातक कुछ तनाव का सामना कर सकते है। राजनीतिक, बड़े उद्योग, प्रशासन, उच्च शिक्षाइन सब के लिए निश्चित रूप से बहुत ही अच्छा समय होगा। पहले से संपन्न जातकों को कई…

वर्ष 2023 मेष जातकों के लिए मिश्र फल लेकर आ रहा है। इस वर्ष मेष जातकों के जीवन के कई नए आयाम उजागर होंगे, उन्हें व्यावसायिक और आर्थिक क्षेत्र में काफी सफलता और धनार्जन होने की संभावना है। विगतवर्ष की कई कठिनाइयां और आपदाओं से इस वर्ष जातक मुक्त हो जाएंगे। राजनीति-प्रशासन से जुड़े मेष…

वृषभ राशि के जातकों के लिए वर्ष 2023 अत्यंत ही शुभ और विकासक सिद्ध होगा। इस वर्ष वृषभ जातकों पर शनि की कृपा से बहुत योगकारक स्थितियां उत्पन्न हो रही हैं। खनिज व्यवसाय के लिए तो यह वर्ष अधिक समृद्धि और विकास को लेकर आ रहा है। इस वर्ष शनि के अतिरिक्त अन्य ग्रहों की…

वर्ष 2023 मिथुन जातकों के लिए अत्यंत शुभ और यशवर्धक सिद्ध होने के योग है। भावी ग्रह स्थिति और ग्रह योगों के अनुसार जातक सफलता और यश संपादन करेंगे। उन्हें जीवन के महत्वपूर्ण क्षेत्रों में विगत वर्ष की तरह कठिनाइयों से नहीं जूझना पड़ेगा। विद्यार्थी वर्ग इस वर्ष कई सफलताओं को अर्जित कर प्रगति की…

कर्क राशि के जातकों के लिए वर्ष 2023 वैसे तो शुभ रहेगा, परंतु वर्ष के शुरुआत में जीवनसाथी के स्वास्थ्य में परेशानी, कार्यो में रुकावट, असामाजिक लोगों के संग से भारी परेशानी, कार्य में हानि की आशंका है। पारिवारिक मामलों के वर्ष के कुछ महीने तनावपूर्ण और मानसिक कष्ट देने वाले हो सकते हैं। अप्रैल…

सिंह राशि के जातकों के लिए सन 2023 इच्छित मनोकामना को पूर्ण करने वाला, यात्रा, घर परिवार, धर्म अध्यात्म विषयों में शुभकारी सिद्ध होने की पूरी संभावना है। घर परिवार में कई सकारात्मक परिवर्तन होने के योग हैं इस वर्ष आप कई धार्मिक और आध्यात्मिक आयोजनों में सहभागी होकर धर्म क्षेत्र में काफी अच्छा स्थान…

कन्या राशि के जातकों को सन 2023 में बहुत सतर्क रहकर अपने कार्य करने की आवश्यकता है। इस वर्ष आपके प्रयासों में कमी के कारण आपके कार्यों में कई कठिनाइयां उत्पन्न हो सकती हैं। नौकरीपेशा हैं तो आपकी स्थान परिवर्तन की और उन्नति की राह में कई अड़चनें आने की संभावनाएं प्रबल हैं फिर भी…

तुला राशि के लिए वर्ष 2023 अनुकूल रहेगा। वर्ष की शुरुआत में ग्रहों के शुभाशुभ योग भौतिक सुख-सुविधाओं के साथ यात्रा के अवसर देंगे। इस वर्ष तुला जातकों को शनि की साडेसाती से मुक्ति मिलेगी और गत सभी समस्याओं से मुक्ति का अनुभव होगा, मानसिक समाधान मिलेगा। नौकरीपेशा लोगों को तरक्की मिलेगी, कुछ जातक अपना…

वृश्चिक राशि के जातकों को 2023 मिलेजुले फल देगा। जातकों को व्यवसाय-कामकाज के क्षेत्र में कुछ उतार-चढ़ाव का सामना करना पड़ सकता है। साल के शुरुआती 4 महीनों में आपकी स्थिति अच्छी रहेगी, इस साल आर्थिक स्थिति में ज्यादा बदलाव नहीं होगा। जातक अनावश्यक ख़र्चों पर अन्कुच रखें और अपने वित्त की उचित प्रबंधन योजना…

धनु राशि वालों को 2023 में शुभ परिणाम मिलेंगे। इस वर्ष आपका करियर और व्यवसाय भी उन्नति की बुलंदियों पर पहुंच सकता है। 17 जनवरी के बाद शनि के से जातकों को साढ़ेसाती से मुक्ति मिलेगी। धनु राशि के जातकों के जीवन में जो परेशानियां गत वर्ष तक चल रही थीं, वो इस वर्ष दूर…

मकर राशि जातकों को 2023 में बहुत शुभ फल देखने को मिलेंगे। साल 2023 में शनि मकर राशि को छोड़कर कुंभ राशि में प्रवेश करेगा, जिससे शनि की साढ़े साती का अंतिम चरण शुरू होगा। 2023 में कामकाजव्यवसाय की स्थिति गत साल से उत्तम रहेगी। शनि आपको इस वर्ष आपके परिश्रम का अच्छा फल देगा।…

कुंभ राशि के लिए साल 2023 मिले-जुले फल देने वाला वर्ष रहेगा। इस साल 17 जनवरी के बाद शनि कुंभ राशि में प्रवेश करेगा और साढ़े साती का दूसरा चरण शुरू होगा। साढ़ेसाती का मध्य चरण जातकों के जीवन में कुछ चुनौतियां ला सकती है। इस साल कुंभ जातकों को करियर के मामले में बहुत…

मीन राशि के लिए वर्ष 2023 मिलाजुला साल रह सकता है। इस साल जातकों को स्वास्थ्य और वित्त के मामले में विशेष ध्यान रखना होगा। इस वर्ष राशि का 17 जनवरी के बाद शनि साढ़ेसाती का पहला चरण शुरू होगा, ऐसे में आपके जीवन में अचानक से चुनौतियां, अडचने बढ़ सकती हैं। मीन राशि के…

अपडेट

राशि व्यक्तित्व

मेष राशि के लोग आम तौर पर बहुत चतुर स्वभाव के होते हैं। इनकी खासियत यह है कि ये बहुत जोशीले और जिद्दी स्वभाव वाले तथा अपमान बर्दाश्त नहीं करने वाले होते हैं। किसी बात को तब तक नहीं स्वीकार करते हैं, जब तक इनका खुद का नुकसान नहीं हो रहा हो। अक्सर अपने गुप्त…

वृष राशि के व्यक्ति स्वभाव से शांति पसंद होते हैं। ये अपने काम में काफी लगन वाले होते हैं। किसी काम में जुट जाते हैं तो उसे तब तक नहीं छोड़ते हैं, जब तक उसका समाधान नहीं मिल जाता है। वृष राशि के जातकों को ज्योतिष शास्त्र से जुड़ी पुस्तकें पढ़ना, खेल-कूद, नृत्य, गायन, सत्संगति,…

मिथुन राशि के लोग अस्थिर स्वभाव के लेकिन आकर्षक व्यक्तित्व एवं चरित्र के होते हैं। उन्हें हर दिन नए परिवर्तन, भ्रमण और विविधता प्रिय होती है। ये बेहद हाजिर जवाब और फ़ुर्तीले होते हैं। इन लोगों की जिज्ञासु प्रवृत्ति और चतुराई इनको सामाजिक समारोहों और किसी भी पार्टी में आकर्षण का केन्द्र बना देती हैं।…

कर्क राशि के लोग बहुत भावुक होते हैं और दूसरों के जीवन से बहुत मतलब रखते हैं। इस राशि के लोगों को अपने जन्म स्थान से काफी लगाव होता है। चंद्रमा की वजह से इन्हें स्थान परिवर्तन करते रहना पड़ता है। स्वभाव में दृढ़ता होती है, साथ में दुर्बलता भी रहती है। इनकी मनःस्थिति परिवर्तनशील…

इस राशि के लोगों का व्यक्तित्व बहुत ही आकर्षक होता है और ये खुद भी अपने व्यक्तित्व को अधिक आकर्षक बनाना चाहते हैं। सिंह राशि के लोगों को जीवन से प्रेम होता है। इनकी आवश्यकताएं सामान्य से कहीं अधिक होती है, साथ ही ये लोग अधिक खर्चीले भी होते हैं। इनके हाथों में पैसा बिलकुल…

कन्या राशि वाले जातकों का स्वभाव कुछ-कुछ सरल और कुछ-कुछ कठोर होता है। ऐसे जातकों को प्रकृति से लगाव होता है, इसीलिए इन्हें बागवानी करना और खूबसूरत पौधों की देखभाल करना बेहद पसंद होता है। ये लोग अपने उतावलेपन और जल्दबाज़ी के कारण अकसर मुसीबत में फंस जाते हैं। इनके स्वभाव की सबसे बड़ी कमी…

तुला राशि के लोग अन्य लोगों के समक्ष खुद को बहुत छोटा अनुभव करते हैं, जिसकी वजह से उन्हें कभी-कभी आलोचना का शिकार होना पड़ता है। इस राशि के जातक भावुक होते हैं और प्रायः उनकी भावुकता उन्हें धोखा दे जाती है। इस राशि के लोग न्याय, जनस्वतंत्रता, जनाधिकार और सौंदर्य से लगाव रखते हैं।…

वृश्चिक राशि के जातकों का प्रेम संबंध एक अनोखे प्रकार का होता है। इनका पंचम स्थान मीन से संबंधित है। इसीलिए इस राशि के लोग अक्सर भ्रम के शिकार रहते हैं। वृश्चिक राशि वाले लोग प्रेम के भूखे होते हैं। उनकी शक्ति प्रेम ही होती है। ये प्रेम के बदले प्रेम की चाह रखते हैं।…

धनु राशि के लोगों को गुस्सा बहुत जल्दी आता है। ये खाने और शराब पीने के मामले में बहुत लापरवाह होते हैं, जिसकी वजह से इन्हें मोटापा और नशेड़ी होते है। इन्हें पारिवारिक संबंधों में बिलकुल भी दिलचस्पी नहीं होती है। यहां तक कि ये अपने खून के रिश्तों से भी दूर रहने की कोशिश…

मकर राशि के जातकों की स्मृति शक्ति मजबूत होती है। इसके साथ ही इनके विचारों में गहराई भी देखने को मिलती है। आर्थिक मामलों में मकर राशि के जातक अधिक सावधानी से कार्य लेते हैं। सबसे ख़ास बात यह है मकर राशि के जातक एक साथ कई कार्यों को करने में सक्षम होते हैं। अर्थात…

कुंभ राशि के जातकों का व्यक्तित्व आकर्षक होता है। इस राशि के लोग काफी बुद्धिमान होते हैं। इनकी तार्किक शक्ति काफी अधिक होती है। ये बुद्धिमान लोगों से दोस्ती रखने में विश्वास रखते हैं। भेड़चाल चलना इनकी आदत नहीं होती है कुंभ राशि के जातकों को अपने काम में दखलअंदाज़ी बर्दाश्त नहीं होती है। सामाजिक…

मीन राशि के जातक कलात्मक विचारों के होते हैं। मीन राशिफल के अनुसार, कला, संगीत, साहित्य लेखन जैसे विषय मीन राशि वालों के प्रिय विषय होते हैं। यदि शिक्षा क्षेत्र में जातक इन विषयों का चुनाव करते हैं तो जातक अधिक सफलता प्राप्त होती है। इसके अलावा इन्हें फोटोग्राफी, ज्योतिष, सामुद्रिक शास्त्र, अंकशास्त्र तथा लाइब्रेरी…