ब्लॉग

द लास्‍ट कोच सीरीज: रात अकेली है..

...साठ-सत्तर की रफ्तार में कार दौड़ रही है। गलियों और मोहल्लों में दिखने वाले कुत्ते मुख्य सड़कों पर आ गए हैं। कुछ तो बीच...

International Women’s Day: क्या महिलाओं के सम्मान के लिए सिर्फ एक दिन काफी है?

International Women's Day: अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के मौके पर अतिका अहमद फारूकी बता रही हैं कि महिलाओं के सम्मान के लिए सिर्फ एक दिन...

तीरंदाजः जय और पराजय

भ्रम फैलाना युद्ध का सबसे घातक हथियार है। सफल नायक प्रतिद्वंद्वी को हमेशा भ्रम की स्थिति में रखता है। इससे विपक्षी नायक उलझन में...

दूसरी नजरः पूर्व घोषित अनर्थ

नफरत का परिणाम यह है कि दिल्ली की कई बस्तियां पूरी तरह बर्बाद हो गई हैं या उनमें नफरत का जहर इतना फैल गया...

बाखबरः तीन दिन जला इतिहास

एक दंगा पूर्वी दिल्ली में, तो दस दंगे चैनलों में! एक चैनल कहता है कि हमारे एक रिपोर्टर के तीन दांत टूटे हैं, दो...

वक्त की नब्जः हिंसा का हासिल

नफरत का परिणाम यह है कि दिल्ली की कई बस्तियां पूरी तरह बर्बाद हो गई हैं या उनमें नफरत का जहर इतना फैल गया...

बेबाक बोलः आप को श्रद्धांजलि

दिल्ली में अभी सबसे पहली जरूरत शांति और सौहार्द की है। और उसके लिए जो बन पड़े हम सबको करना है। कौन जिम्मेदार है,...

कोरोनावायरस को कह रहे ‘चीनी वायरस’, H1N1 को अमेर‍िकी वायरस कहा था क्‍या?

चीन ने हुपेई प्रांत के वुहान शहर में केवल दस दिनों के भीतर ही दो अस्पताल- हुओशनशान और लेइशनशान का निर्माण किया जो...

बेबाक बोलः क्या समझे आप

आम आदमी पार्टी के संजय सिंह ने कहा कि उन्होंने लोगों से अपील की थी कि राष्ट्र निर्माण के नाम पर मिस्ड कॉल देकर...

क्या सचमुच “गाली प्रूफ” हैं नरेंद्र मोदी? उनके पलटवार वाले शब्दों से ऐसा लगता है?

संसद से बाहर भी प्रधानमंत्री के स्तर के नेताओं से भी भाषा की मर्यादा तोड़ी जाती रही है। नरेंद्र मोदी इसके भी अपवाद नहीं...

दिल्ली की ‘शिक्षा क्रांति’ की क्या है सच्चाई?

दिल्ली की चुनावी चर्चा में शिक्षा केंद्र में है। अभिषेक रंजन (स्कूली शिक्षा के क्षेत्र में कार्यरत) बता रहे हैं कि दिल्ली के स्कूलों...

बेबाक बोल- देश की दशा

70 विधानसभा सीटों वाली दिल्ली जो पूर्ण राज्य नहीं है और ज्यादातर शक्तियां केंद्र के अधीन हैं वहां चुनाव को ऐसे नफरती नारे में...

कुमार विश्वास: कविता का प्रहसन और प्रहसन की कविता

प्रो. पंकज चतुर्वेदी कानपुर में 25 जनवरी को कुमार व‍िश्‍वास के कार्यक्रम में बतौर श्रोता-दर्शक शरीक हुए। उन्‍होंने व‍िश्‍वास की प्रस्‍तुत‍ि के आधार पर...

दूसरी पारी-दूसरा बजट: क्या आर्थिक संकट का हल खोज पाएगी मोदी सरकार?

आम बजट से पहले मुनिशंकर (स्वतंत्र पत्रकार और आर्थिक मामलों के जानकार) बता रहे हैं कैसा हैै अर्थव्‍यवस्‍था का हाल और इसके मद्देनजर...

भूख बनाम भोजन की बर्बादी

अफ्रीका के एक गांव में जहां एक आदमी भूख मिटाने की जद्दोजहद कर रहा होता है उसी समय जर्मनी में कई गैलन भोजन फेंका...

सीमा मुद्दे: डीजीएमओ और चीनी कमांडर के बीच बनेगी हॉटलाइन

दोनों देशों के बीच अधिकतम ब्रिगेडियर स्तर पर संवाद के लिए कई जगह फ्लैग बैठकों या हॉटलाइन का तंत्र विकसित किया गया था

बाखबरः छपाक की छलना

शाम तक दीपिका पादुकोण आंदोलन करते जेएनयू-छात्रों को अपनी फिल्म ‘छपाक’ के लिए ‘लांचपैड’ की तरह इस्तेमाल करते हुए पांच मिनट की हाथजोडू मुस्कान...

वक्त की नब्जः इस कठिन समय में

कब तक चलेंगे ये प्रदर्शन, कहना मुश्किल है, लेकिन इतना जरूर कह सकते हैं हम अभी से कि मोदी को निजी तौर पर पहली...

ये पढ़ा क्या?
X