बेबाक बोल

बेबाक बोल कांग्रेस कथा: मौका-ए-मात

कांग्रेस के साथ दो बड़ी दिक्कत दिख रही है। सवर्णों का वोट बैंक पूरी तरह से भाजपा में हस्तांतरित हो चुका है। ऐसे में...

बेबाक बोल-कांग्रेस कथा: श्री हीन

सामूहिक असंतोष से निकले संघर्ष से पैदा हुए थे श्रीकृष्ण सिंह जिन्होंने नमक सत्याग्रह का रास्ता तैयार किया था। नमक की लड़ाई से तपा...

बेबाक बोल
कांग्रेस कथा: बिहार से बहिष्कार

केंद्र की सत्ता का ताला आज भी उत्तर प्रदेश और बिहार की चाबी से खुलता है। इन दोनों राज्यों की सीटें उस जादुई आंकड़े...

बेबाक बोल- कांग्रेस कथा : कांग्रेस कहां बा

भिखारी ठाकुर को अपनी जीविका के लिए कलकत्ता जाना पड़ा था। कलकत्ता यानी तब का विदेश। एक बिहारी को ‘बिदेशिया’ और ‘बिरहा’ बनाने वाली...

विशेष: पासबां कोई न हो

जगजीवन राम जैसे जुझारू नेता की जमीन को खाली छोड़ दिया गया। सीताराम केसरी का नाम भी किसी की जुबान से नहीं निकलता। कांग्रेस...

हाथरस
कांग्रेस कथा: विपक्षाघात

कांग्रेस से लेकर बसपा तक का उदाहरण है कि सांगठनिक ढांचे को बर्बाद कर चुके राजनीतिक दल अपने हित समूहों को खो देते हैं।...

hathras case, hathras crime
राजकाज: कुरेदते हो जो अब राख…

जब आप बिहार में वर्दीवाला राजनेता पर चुप थे तो एक बार उत्तर प्रदेश में देख लीजिए कि आखिर किस तरह मजबूत जाति के...

Bebak bol, Rajkaj
कांग्रेस कथा 2: रुकावट के लिए ‘खेत’ है

बीसवीं सदी के अंत के साथ कांग्रेस शिक्षा से लेकर खेती को बाजार के हवाले करने के लिए कई तरह के कानून बनाने की...

बेबाक बोल
कांग्रेस कथा 1: कुकर क्रांति

सत्ता के अहंकार में आसमानी घमंड से झूम रही पार्टी को वही संगठन जमींदोज कर सकता था जो पिछले तीन दशकों से जल, जंगल,...

राजकाज: अर्थशाप

जिस कोरोना को वुहान की देन समझ हम चीन को कोस रहे थे, वित्त मंत्री ने उसे भगवान की देन बता दिया। उस भगवान...

Rajkaj, Jansatta special story
राजकाज: बर्बरीक बोध

हारने वाले के साथ खड़े रहने की नैतिकता हासिल करने के लिए किसी वरदान की जरूरत नहीं होती। लेकिन नैतिकता तभी ताकत बन पाती...

बेबाक बोलः धर्म की धुंध

किसी भी जटिल समय में खास तरह की पक्षधरता की जरूरत पड़ती है। हर कालखंड उम्मीद करता है कि उसमें बदलाव की लकीर खींचने...

बेबाक बोल: कहां हो कृष्ण

कृष्ण के युद्धनायक वाले शासकीय और राजकीय रूप को आधुनिक सरकारों ने जितना भी भुनाने की कोशिश की हो लेकिन आज भी लोक के...

bebak bol, rajkaj
राजकाज: धृतराष्ट्र जिंदा है

दुनिया में जहां भी लोकतंत्र के लिए ललक पैदा हुई उसका इतिहास बताता है कि वहां न सिर्फ राजशाही रही बल्कि एक ऐसा राजा...

बेबाक बोलः राम राष्ट्र

अयोध्या में राम मंदिर की बुनियाद रखे जाने के साथ भारतीय राजनीतिक, सांस्कृतिक व सामाजिक इतिहास का एक बड़ा अध्याय निर्णायक मोड़ पर पहुंच...

बेबाक बोलः अमरत्व का अभिशाप

अमरत्व के अमृत पर पूरी दुनिया की सभ्यता अपने हिसाब से मंथन कर मृत्यु से पार पाने की कोशिश करती है। लेकिन महाभारत दुनिया...

Rajkaj, bebak bol, mahabharat katha
राजकाज: बेबाक बोल-भीमासुर

मानव जीवन के संघर्ष के हर पहलू को उजागर करने के कारण आधुनिक रंगमंच की दुनिया में भी महाभारत के पात्र पहली पसंद रहे...

बेबाक बोलः विदुर वर्ग

प्राचीनकाल से ही दुनिया भर के शासक वर्ग को इस बात का अहसास रहा है कि किसी भी तरह का युद्ध आधा तो मनोवैज्ञानिक...

ये पढ़ा क्या?
X