X

बेबाक बोल: तारीखी तस्वीर

आमार शोनार बांग्ला, आमि तोमाए भालोबाशी (मेरा सोने जैसा बंगाल, मैं तुमसे प्यार करता हूं)। रवींद्रनाथ टैगोर ने 1905 में यह गीत लिखा था जब अंग्रेजों ने मजहब के आधार पर बंगाल के दो टुकड़े कर दिए थे। गुरुदेव का लिखा यह गीत उस बांग्लादेश का राष्ट्रीय गीत है जो भाषाई आधार पर पाकिस्तान से अलग हुआ। आज जब द्विराष्ट्र के समर्थक जिन्ना का महिमामंडन कर रहे हैं तो बांग्लादेश से बेदखल और भारत की पनाह लिए लेखिका तस्लीमा नसरीन कहती हैं कि 1971 में बांग्लादेश, पाकिस्तान से अलग हो गया था, इसका मतलब कि मुसलिम एकता की बात भ्रम थी। अंग्रेजों से आजादी का एलान होते ही द्विराष्ट्र का जो सिद्धांत सामने आया वह एक अलग और नए देश की सत्ता पाने का औजार मात्र था, जिसके प्रतीक थे जिन्ना। भारत विभाजन को दुनिया की बड़ी विभीषिकाओं में गिना जाता है जो मनुष्यता व सामूहिकता के सिद्धांत की हत्या थी। ऐसी विभीषिका के परिप्रेक्ष्य में जब गांधी, टैगोर और आंबेडकर के बरक्स जिन्ना की तस्वीर पर बहस शुरू हो जाती है तो सावधान होने की जरूरत है। गांधी के इस देश में जिन्ना का नायकत्व गढ़ने की कोशिश पर इस बार का बेबाक बोल।

भारत में जब स्वतंत्रता सेनानियों को आजादी के जश्न में डूब जाना चाहिए था तब आजादी के हरकारों का अगुआ नोआखली में घूम रहा था। एक दुबला-पतला, कम हाड़ और कम मांस का आदमी जिसके बारे में वैज्ञानिक अल्बर्ट आइंस्टीन ने कहा था कि आगे आने वाली पीढ़ियां शायद ही विश्वास कर सकेंगी कि कभी धरती पर ऐसा व्यक्ति चला भी होगा। वह बूढ़ा इंसान जिसे संत और महात्मा का दर्जा दिया जा चुका था, बिना सुरक्षा के वहां था जहां आजादी के एलान के बाद कत्लेआम मचा था। नोआखली जनसंहार भारत के इतिहास का वह पन्ना है जो उसकी आजादी के साथ ही नत्थी हो जाता है। दो सौ सालों की औपनिवेशिक गुलामी के बाद आजादी मिलने का वक्त आते ही भारत के सामने मांग उठी भारत को दो टुकड़ों में बांटने की, वह भी सिर्फ मजहब के आधार पर। आजादी और विभाजन का साथ आना इस ऐतिहासिक संघर्ष की ऐतिहासिक विडंबना ही थी। जिन्ना का डायरेक्ट एक्शन प्लान पूर्वी बंगाल के नोआखली में शुरू कर दिया गया। गांधी की अहिंसा की प्रयोगशाला था भारत। प्रयोग सफल था, आजादी मिल चुकी थी। लेकिन इस प्रयोगशाला के कुछ परखनलियों में मजहबी सांप्रदायीकरण के रसायनों का विस्फोट किया जा चुका था। भारत की आजादी और अखंडता के बूढ़े सिपाही गांधी वहां अकेले पहुंचे। कत्लेआम और आग के बीच यह महानायक निहत्थे खड़ा रहा पीड़ितों के साथ। महात्मा गांधी के उस फौलादी जज्बे को देख कर ही सोचा गया होगा कि इस निर्भीक के सीने में गोलियां उसके पांव छूकर ही उतारी जा सकती हैं। पांच महीने नोआखली में रहने और वहां के प्रशासन से शांति का भरोसा लेकर ही गांधी वहां से हटे।

गांधी की यह तस्वीर है अहिंसा और मजहबी एका की। क्या भारत के किसी भी सार्वजनिक संस्थान में यह पहली तस्वीर नहीं होनी चाहिए। जब भारत के पास ऐसे विश्वास और भरोसे की तस्वीर है तो फिर जिन्ना की तस्वीर की जरूरत क्यों पड़ जाती है। आखिर उस वक्त जिन्ना को बहस में क्यों ले आया जाता है जब कौमी एकता की ज्यादा जरूरत है। अगर जिन्ना की तस्वीर पर सवाल नाजायज है तो जिन्ना की विचारधारा को जायज ठहराने की कोशिशों को क्या कहा जाए। भारत में शरण लिए बांग्लादेशी लेखिका तस्लीमा नसरीन ने जिन्ना विवाद के बाद ट्वीट किया, ‘अगर आप द्विराष्ट्र सिद्धांत पर भरोसा करते हैं तो जरूर आप जिन्ना को पसंद करेंगे। बांग्लादेश मुक्ति संग्राम ने 1971 में सिद्ध कर दिया कि यह द्विराष्ट्र का सिद्धांत गलत था, और मुसलिम एकता एक भ्रम’। बीच बहस में तस्लीमा का यह अकेला ट्वीट ही बहुत कुछ कह जाता है। अगर मुसलिम एकता ही सब कुछ थी तो फिर बांग्लादेश का निर्माण कैसे हुआ। अंग्रेजों के खिलाफ एशिया का विशाल भूभाग जंग लड़ता है। लेकिन जिन्ना के द्विराष्ट्र सिद्धांत की वजह से यह भूभाग भारत और पाकिस्तान में बंट जाता है। इसके लिए हिंदू महासभा की भी जिम्मेदारी तय हो चुकी है लेकिन इस प्रस्तावित पाकिस्तान का शासक बनने के लिए जो आदमी खड़ा था उसकी महत्त्वाकांक्षा के बिना यह हो ही नहीं सकता था। और, मुख्य बहस में तो हम सिर्फ भारत और पाकिस्तान को ही लाते हैं, वहीं तस्लीमा नसरीन कहती हैं कि हमें मत भुलाओ, दो राष्ट्र के सिद्धांत में हम बांग्लादेशी कहां से आ गए यह तो बताओ। आजादी के बाद जब भारत को एशिया की सबसे बड़ी ताकत बनना था तो तीन टुकड़ों में बांटकर उसे छिन्न-भिन्न कर दिया गया।

इतिहास से लेकर वर्तमान में प्रतीकों और तस्वीरों का अपना महत्त्व है। विवाद उठने के बाद भी अगर आप नोआखली वाले गांधी के बरक्स जिन्ना की तस्वीर टांगने की जिद मचाए रखते हैं तो अपना ही नुकसान करते हैं। देश के कमजोर तबके के मुसलमानों से बात कर लीजिए। आज के दौर में वे जिन्ना के बारे में नहीं गांधी के बारे में ही जानते हैं। लेकिन विश्वविद्यालयों में जिन्ना के महिमामांडन के जो व्याख्यान शुरू हो चुके हैं वह हमें किस तरफ ले जाएंगे। जिन्ना ने भगत सिंह का केस लड़ा था, बहुत सेकुलर थे, उनकी तस्वीर यहां भी, वहां भी तो यहां क्यों नहीं इन तर्कों के सहारे उन्हें नायकत्व देने की ही कोशिश की जा रही है। विभाजन के बाद भारत ने क्या खोया और पाकिस्तान ने क्या पाया इस पर उर्दू की मकबूल अफसानानिगार कुर्रुतुल ऐन हैदर की ‘आग का दरिया’ से बेहतर कुछ नहीं हो सकता। निदा फाजली ने इस किताब के बारे में कहा है, ‘मोहम्मद अली जिन्ना ने हिंदुस्तान के साढ़े चार हजार सालों की तारीख में से मुसलमानों के 1200 सालों को अलग कर पाकिस्तान बनाया था। कुर्रुतुल ऐन हैदर ने आग का दरिया लिख उन 1200 सालों को हिंदुस्तान में जोड़ कर उसे फिर से एक कर दिया।’ जिन्ना ने हिंदुस्तान के सिर्फ 1200 सालों को चुना एक नया मुल्क बनाने के लिए। लेकिन क्या बिना राम, कृष्ण और बुद्ध की सांस्कृतिक विरासत लिए निजामुद्दीन औलिया का सूफियाना कलाम कोई रूहानी सुकून दे पाता? आजादी को करीब देख कर द्विराष्ट्र का जो सिद्धांत लाया गया वह सत्ता हथियाने का औजार ही था। आप इसमें सावरकर और हिंदूवादी संगठनों को ला सकते हैं लेकिन इसके प्रतीक जिन्ना ही बने एक नए देश पाकिस्तान के प्रमुख के रूप में। सत्ता की उनकी इस महत्त्वाकांक्षा और संकीर्ण मजहबी दृष्टिकोण के कारण ही बांग्लादेश का भी जन्म हुआ। भारत में जो 1200 सालों का इतिहास था, पाकिस्तान में वह और संकीर्ण हो जाता है भाषा और जाति को लेकर। और, इसी संकीर्णता के प्रतीक के रूप में जिन्ना न भारत के नायक बन सकते हैं और न बांग्लादेश के। रवींद्रनाथ टैगोर का लिखा गीत बांग्लादेश का राष्ट्रगान है लेकिन उस राष्ट्रगान को गाते समय पीछे जिन्ना की तस्वीर नहीं हो सकती है।

तस्लीमा नसरीन अपनी लेखनी के लिए बांग्लादेश से बेदखल हैं और भारत की पनाह में। मजहबी संकीर्णता और सत्ता लोलुपता ने जो पाकिस्तान से लेकर बांग्लादेश तक का सफर तय किया है उसे देखते हुए क्या जिन्ना की तस्वीर और प्रतीक किसी प्रगतिशील दिशा में जा सकती है खास कर जब हमारे पास गांधी और रवींद्रनाथ टैगोर की तस्वीर हो। गांधी और टैगोर अनेकता में एकता वाली राष्ट्रीयता का स्वरूप हैं। गांधी की राजनैतिक लड़ाई सत्ता हथियाने की नहीं बल्कि इंसानों के बीच भेदभाव के खिलाफ थी। मार्टिन लूथर किंग जूनियर ने ईसा मसीह के प्रेम के संदेशों के सफल प्रयोगकर्ता के रूप में गांधी को देखा था। प्रेम की नीति व्यक्तिगत ही नहीं सामाजिक और राजनीतिक रिश्तों में भी प्रभावी होती है। किंग जूनियर को यह समझ गांधी से ही मिली थी। गांधी की तस्वीर घृणा के प्रतिरोध की तस्वीर है। इसके साथ ही हिंदुस्तान के पास आंबेडकर भी हैं जो आजाद भारत में सामाजिक बराबरी लाने का संविधान रच जाते हैं। गांधी, टैगोर और आंबेडकर की तस्वीरों वाले भारत में जिन्ना की तस्वीर इतिहास का ही हिस्सा रहनी चाहिए। जिन्ना की तस्वीर पर तकरार कर हम महज 1200 सालों तक ही खुद को सीमित रख लेंगे। भारत के पास उससे पहले, मध्य और बाद का साझा इतिहास है। तारीख में तारीखी वही होता है जो मानवता की राह पर चलता है, खलनायकों का कोना जड़ ही रहने देना चाहिए, उनके लिए जीवंत समाज में जगह नहीं होनी चाहिए।