ताज़ा खबर
 

बारादरी

बारादरी- प्रधानमंत्री पद पर पुनर्विचार करे संघ

वरिष्ठ पत्रकार और विचारक वेद प्रताप वैदिक के अनुसार यह कहना कि पाकिस्तान प्रधानमंत्री के गृह प्रदेश के चुनाव को प्रभावित कर सकता है,...

बारादरी- आत्महंता हो रहे हैं साहित्यकार

प्रतिष्ठित कथाकार चित्रा मुद्गल का मानना है कि गुटबंदी ने साहित्यकारों को आत्महंता बना दिया है। कुछ आलोचकों ने मान रखा है कि अगर...

बारादरी- मोदी ने देश में भरोसे का माहौल बनाया

हरियाणा की राजनीति के प्रमुख चेहरा और फरीदाबाद से सांसद गुर्जर मुख्यमंत्री मनोहरलाल खट्टर को पूरे नंबर देते हुए कहते हैं कि उन्होंने ‘एक...

जनसत्ता बारादरी: जड़ों की ओर लौटना होगा

आगामी नवंबर में आम आदमी पार्टी अपनी स्थापना के पांच साल पूरे कर लेगी। इस दौरान वैकल्पिक राजनीति की उम्मीद बनी इस पार्टी ने...

बारादरी- मेरा एक भी कदम भगवाकरण की ओर नहीं

केंद्र में भाजपा की सरकार आने के बाद संस्कृति पर छिड़ी बहस आज भी जारी है। संस्कृति के भगवाकरण के आरोप शुरू हुए, जो...

बारादरी: शरद यादव बोले- विपक्ष में बिखराव कोई नई बात नहीं

सत्ता पक्ष इस बात को भुनाने की कोशिश कर रहा है कि विपक्ष है ही नहीं, जबकि हकीकत यह है कि विपक्ष हमेशा बिखरा...

बारादरी: केदारनाथ सिंह- कविता से क्रांति नहीं आती

नरेंद्र मोदी पर जो लिखा जाएगा, उसे साहित्य नहीं मानूंगा मैं।

जनसत्ता बारादरी: विपक्ष को अपनी मर्यादा खुद सीखनी होगी

पार्टी को जनादेश मिलने का गलत अर्थ लगाया जाने लगा है और उसमें एक तरह की तानाशाही आ गई है। वह कांग्रेस मुक्त भारत...

जीएसटी पर सिर्फ भाषण देकर चले जाते थे चिदंबरम: सुशील मोदी

जीएसटी की अवधारणा तो कांग्रेस की ही देन थी लेकिन वह इसे लेकर न तो ज्यादा ऊर्जावान थी और न ही सक्रिय। जीएसटी...

बारादरी- कुछ अच्छे लोग भी हैं ‘आप’ में

दिल्ली निगम चुनावों में भाजपा की भारी जीत के बाद गायक और नायक की प्राथमिक पहचान रखने वाले मनोज तिवारी राजनीति के मैदान में...

जनसत्ता बारादरीः बदल गई है देशद्रोह की परिभाषा

पिछले आम चुनाव और फिर इस बीच हुए अधिकतर विधानसभा चुनावों में कांग्रेस को पराजय का मुंह देखना पड़ा।

जनसत्ता बारादरीः दिल्ली में भाजपा की लड़ाई कांग्रेस से है

विजय गोयल क्यों युवा एवं खेलमंत्री विजय गोयल की पहचान पुरानी दिल्ली की गलियों से निकली है। आम आदमी पार्टी की नीतियों के खिलाफ...

बारादरी- वैश्विक ज्ञान का परिसर बनें विश्वविद्यालय

सत्ता परिवर्तन की हवा का सबसे ज्यादा असर विश्वविद्यालय परिसरों पर होता है। विश्वविद्यालयों में ज्ञान-अनुसंधान, नियुक्तियां, छात्र संगठन हो या गोष्ठी, इन सबका...