विशेष गुप्ता

विशेष गुप्ता के सभी पोस्ट 12 Articles

राजनीति: सोच में भी बदलाव जरूरी

यह सच है कि चाहे घरों का शौचालय हो या सार्वजनिक, सभी पानी की उपलब्धता के बिना काम नहीं कर सकते। यह भी कड़वा...

राजनीति: बचपन को बचाने की चुनौती

आज स्थिति यह है कि नगरों व महानगरों के पेशेवर कामकाजी परिवार नौकरी और काम के दबाव में तनाव से जूझ रहे हैं। उनके...

राजनीतिः हताशा के त्रासद हासिल

आज हमें गलाकाट प्रतिस्पर्धा के माहौल में व्यक्ति की उस हताशा भरे जीवन की मनोदशा को भी समझना पड़ेगा, जहां वह जीवन की तल्ख...

राजनीति: उम्मीदों के दबाव में फंसा बचपन

आज का वैश्विक दौर कड़ी प्रतिस्पर्धा का है। जिंदगी की इस होड़ ने बच्चों की नींद उड़ा दी है। बच्चे रोजगार से जुड़े भविष्य...

प्रसंगवशः खाप के खिलाफ

जाति और गोत्र से जुड़े सामंती निर्णयों में खाप पंचायतें अकेली नही हैं, राजनीतिक दलों का भी उन्हें समर्थन प्राप्त है। हकीकत यह है...

राजनीतिः आभासी दुनिया में छीजता बचपन

सच्चाई यह है कि सोशल मीडिया साइटों का प्रयोग करने के मामले में भारत आज एशिया में तीसरा तथा विश्व में चौथा देश है।...

राजनीतिः मात्तृत्व बनाम सफलता की सीड़ियां

भारत में ऐसी महिलाओं की संख्या दिनोंदिन बढ़ती गई है जो अपने कैरियर को लेकर बहुत महत्त्वाकांक्षी हैं। पर मातृत्व उनके कैरियर में बाधा...

राजनीतिः बेसहारा बच्चों की फिक्र किसे है

यह सही है कि बच्चे सबसे पहले संबंधित परिवार की जिम्मेदारी हैं। पर यह तर्क बेसहारा बच्चों की बाबत नहीं चल सकता। इनकी जिम्मेदारी...

आधी दुनिया- चमकती जिंदगी का अंधेरा

अरबों-खरबों के इस बाजार में मानव शक्ति पर लागू होने वाले नियम दम तोड़ रहे हंै। सबसे चिंताजनक बात तो यह है कि नाबालिग...

Husband, Wife, Shot Dead, Wife Shot Dead, Mathura, Husband Escapes, Killer Husband, UP Mathura District, Wife Shot Dead in UP, Wife Shot Dead in Mathura, Crime in UP, Husband Shot Wife, Crime news

कैसे लगेगी बंदूक संस्कृति पर रोक

पूरी दुनिया में मौजूद पैंसठ करोड़ बंदूकों में से लगभग चार करोड़ बंदूकें भारत में हैं और इनमें से 63 लाख यानी मात्र पंद्रह...

कक्षा आठ तक ‘फेल न करने की नीति’ को समाप्त करने की मांग

इस संशोधन विधेयक के मुताबिक परीक्षाफल जारी होने के दो से तीन महीने के अंदर ही फेल छात्र की परीक्षा दोबारा ली जाएगी।

jansatta editorial, jansatta opinion, jansatta article

दरकते रिश्तों का समाज

पारिवारिक मूल्यों के छीजते जाने का रोना हर तरफ सुनाई देता है, पर इसकी तह में जाने की जरूरत है। क्या विकास की हमारी...