ताज़ा खबर
 

तवलीन सिंह के सभी पोस्ट

वक्त की नब्जः अभियान और दिलेरी

असली भारतीय मीटू अभियान तब चलेगा जब उन महिलाओं का साथ हम देना शुरू करेंगे, जिनको आज तक यह भी अधिकार नहीं मिला है...

वक्त की नब्जः राहुल की बचकानी बातें

कांग्रेस अध्यक्ष ने एक बार फिर दोहराया कि वे भारत के प्रधानमंत्री बनना चाहते हैं, लेकिन शायद उन्होंने इस यथार्थ पर ध्यान नहीं दिया...

वक्त की नब्जः लोकप्रियता के बावजूद

मोदी की लोकप्रियता अभी तक कायम है, लेकिन सब मानते हैं कि इस बार उनके पक्ष में कोई लहर नहीं है, सो जिस तरह...

वक्त की नब्ज: संघ का नया अवतार

बहुत कुछ है करने को संघ जैसी संस्था के लिए, अगर वह वास्तव में रचनातमक ढंग से भारतीय संस्कृति के लिए काम करना चाहती...

वक्त की नब्जः गुनहगार कौन

निवेश वही कर सकते हैं कारोबार में, जो जोखिम उठाने से नहीं डरते हैं। माल्या ने निजी एयरलाइन में निवेश किया होगा यह जानते...

वक्त की नब्जः जो झूठ का सहारा ले रहे हैं

मोदी ने कई गलतियां की हैं प्रधानमंत्री बनने के बाद। इन गलतियों की आलोचना जायज है और हुई भी है शुरू से। विदेश और...

वक्त की नब्जः खतरे दूसरे हैं

मोदी अगर 2019 में दुबारा प्रधानमंत्री बनना चाहते हैं तो कम से कम उनको इतना तो करना होगा कि देश के असली दुश्मनों की...

वक्त की नब्जः जुमलेबाजियों का दौर

शुरुआत हुई, जब राहुल गांधी चुनाव हारने के बाद अपनी लंबी विदेशी छुट्टी के बाद वापस वतन लौटे नई ऊर्जा से चमकते हुए। लोकसभा...

वक्त की नब्जः सुविधा की चुप्पी और मुखरता

जब कहा जाता है आज कि मोदी तानाशाह हैं और उनकी सरकार पत्रकारों पर दबाव डाल रही है, मुझे अजीब लगता है कि यही...

वक्त की नब्जः बुरे बनाम अच्छे दिन

मोदी कई बार कह चुके हैं कि उनके दौर में कारोबार करने का माहौल इतना अच्छा हो गया है कि विदेशी निवेशकों की लाइन...

वक्त की नब्जः पाकिस्तान में नया निजाम

भारत के लिए सवाल यह है कि पाकिस्तान के भावी प्रधानमंत्री का इस्लामी झुकाव उनकी विदेश नीति को कितना प्रभावित करेगा। चुनाव अभियान शुरू...

वक्त की नब्जः बुनियादी सरोकार से दूर

कुछ समय के लिए भारतवासियों को लगा था कि मोदी अन्य राजनेताओं से अलग हैं। कुछ क्षणों के लिए लगा था कि वास्तव में...

वक्त की नजर: शिक्षा की कमजोर बुनियाद

हमारी शिक्षा संस्थाएं आज भी उसी रास्ते पर चल रही हैं, जो रास्ता अंग्रेजों ने बनाया था। इस रास्ते को तैयार किया गया था...

वक्त की नब्जः सपने अधूरे, हुए नहीं पूरे…

परिवर्तन सिर्फ इतना हुआ है कि लटयंस दिल्ली की आलीशान कोठियों में अब रहने लगे हैं शान से मोदी सरकार के मंत्री उसी तामझाम...

वक्त की नब्जः उन्हें भी अहसास है…

परिवर्तन और विकास के रास्ते पर रहते मोदी तो अगला आम चुनाव हारने का सवाल ही नहीं उठता। बातें अब उनके हारने की हो...

वक्त की नब्जः राह कठिन है

मोदी की लोकप्रियता कम हुई है पिछले महीनों में। ऐसा कई वर्गों में हुआ है। छोटे कारोबारी और किसान अगर दुखी हैं तो मुंबई...

वक्त की नब्जः घाटी में खतरे की घंटी

अजीब बात है कि भारतीय जनता पार्टी के एक प्रधानमंत्री के दौर में कश्मीर घाटी में शांति बहाल रही और भाजपा के दूसरे प्रधानमंत्री...

वक्त की नब्जः झूठ के सहारे

गलतियां और भी गिनवाई जा सकती हैं मोदी के दौर की, लेकिन इनके बारे में न वामपंथी राजनेता कभी बोलते हैं और न ही...