शशिप्रभा तिवारी

शशिप्रभा तिवारी के सभी पोस्ट 115 Articles

नृत्योत्सव : कथक में शिव वंदना

कथक नर्तक धीरेंद्र तिवारी ने अपनी पहचान बनाई है। श्रीराम सेंटर में आयोजित ‘प्रणम्याहम नृत्य’ समारोह का आयोजन किया गया। इसमें कथक नर्तक धीरेंद्र...

सबरंग: जो तू मांगे रंग की रंगाई…

इन दिनों कथक नृत्य में तकनीकी पक्ष का बोलबाला ज्यादा दिखता है। चक्कर और पैर के काम से ही कलाकार अपनी उपस्थिति को जताना...

नृयोत्सवः शिव की गोद में शक्ति

जहां हर पल सम हैं। उस सम रात्रि में शिव की गोद में बैठकर, शक्ति शिव को जानने को उत्सुक हैं। इस परिकल्पना...

सबरंग

सबरंग: हाथी-हिरण की चाल और पिया की याद

कथक नृत्यांगना ऋचा गुप्ता जयपुर घराने की समर्पित कलाकार हैं। वह वर्षों से नृत्य साधना में जुटी हैं। जयपुर घराने के गुरु घनश्याम गंगानी...

कुचिपुडी नृत्य की एक शाम, कौशल्या रेड्डी ने दिल्ली में लोकप्रिय बनाया

पिछले दिनों इंडिया हैबिटेड सेंटर में भावना रेड्डी ने नृत्य रचना ‘ओम शिवाय’ पेश की।

Classical Dance Festival: ओडिशी नृत्य की झलक

ओडिशी नृत्यांगना मधुमीता राउत एक अरसे से राजधानी दिल्ली में ओडिशी नृत्य सिखा रहीं हैं। पिछले दिनों इंडिया इंटरनेशनल सेंटर में आयोजित दीक्षा समारोह...

जब नृत्य में उतरे मूषक, मयूर, नंदी और सिंह

नृत्यांगनाओं ने गणपति के गजेंद्र, विनायक, हस्तीमुख, लंबोदर रूपों को दर्शाया। मूषक के चलन को मोहक अंदाज में पेश किया। इस प्रस्तुति के दौरान...

नृत्योत्सव: छाई कथक और ओड़िशी की छटा

अलाएंस फ्रांसेस में ही ओडिशी नृत्यांगना किरण सहगल की शिष्या मध्यमा ने भी ओड़िशी नृत्य पेश किया।

lord shiva, maa parvati, religion news, bharatnatyam, chhau, kuchipudi, vanashree rao

शिव-पार्वती के रूप का मंचन भरतनाट्यम, छऊ और कुचिपुड़ी नृत्यकला से पेश किया

नृत्य में शिरकत करने वाले कलाकारों में भरतनाट्यम नर्तक एस वासुदेवन, छऊ के कलाकार कुलेश्वर ठाकुर, अर्जुन देव, प्रशांत कालिया और कुचिपुड़ी नृत्यांगना-वनश्री राव,...

नृत्योत्सव: स्वाति तिरुनाल को कलाकारों की नृत्यांजलि

समारोह की दूसरी संध्या में टीवी मणिकंडन ने कर्नाटक संगीत शैली में गायन पेश किया।

नृत्य का बहुरंगी आयोजन

भरतनाट्यम नृत्य गुरु जयलक्ष्मी ईश्वर और उनकी शिष्याओं ने शिव तांडव स्त्रोत पर नृत्य पेश किया।

नृत्योत्सवः मणिपुरी नृत्य में रास

समारोह के दौरान पहली प्रस्तुति बसंत रास थी। इसे चारूसिजा माथुर और उनके साथी कलाकारों ने पेश किया।

नृत्योत्सव: परंपरा से जोड़ता नृत्य

जयंतिका की ओर से आयोजित नृत्य समारोह में शिष्या अंकिता नायक ने ओडिशी नृत्य पेश किया। अंकिता गुरु मधुमीता राउत की शिष्या हैं।

जनसत्ता सबरंग: गीत गोविंद की पेशकश

नायिका राधा के विरह भावों को अगले अंश में दर्शाया गया

नृत्योत्सवः मानसून में मल्हार और नृत्य की प्रस्तुति

समारोह का आगाज जयपुर घराने की कथक नृत्यांगना और गुरू प्रेरणा श्रीमाली के नृत्य से हुआ। जहां उन्होंने परंपरागत कथक की नजाकत भरी प्रस्तुति...

नृत्योत्सवः शिव और पार्वती की सुंदर नृत्य प्रस्तुति

रावण ने शिव तांडवस्त्रोत की रचना की थी। इसमें शिव के रौद्र रूप का विवेचन है, जिसे अक्सर कलाकार गाते और नृत्य में पेश...

नृत्योस्तवः कथक की एक नई पौध

कथक नृत्यांगना शिंजिनी कुलकर्णी उभरती हुई कलाकार हैं। उन्होंने अपनी प्रस्तुति का आगाज शिव स्तुति ‘ओमकार महेश्वराय’ से किया। इसमें शिव के रूप को...

नृत्योत्सव: वसंतोत्सव में गुरु-शिष्य परंपरा की बानगी

कथक नृत्यांगना सुदेशना मौलिक ने दरबारी कथक नृत्य से अपनी प्रस्तुति का आगाज किया। उन्होंने परमेलु-थर्री कू कू का प्रदर्शन किया। उन्होंने चक्रदार तिहाई...

ये पढ़ा क्या?
X