ताज़ा खबर
 

शशांक द्विवेदी के सभी पोस्ट

राजनीतिः जलवायु संकट और खतरे में जीवन

जलवायु परिवर्तन की वजह से दक्षिण एशिया में गेहूं की पैदावार पर नकारात्मक प्रभाव पड़ रहा है। साथ ही, वैश्विक खाद्य उत्पादन भी धीरे-धीरे...

राजनीति: मौजूदा विकास नीति बनाम पर्यावरण

ऐसे विकास को क्या कहें जिसकी वजह से संपूर्ण मानवता का अस्तित्व ही खतरे में पड़ जाए? जिस तरह मौसम परिवर्तन दुनिया में कृषि...

राजनीतिः सबक है केपटाउन का जल संकट

देश में पानी के अधिकांश स्थानीय स्रोत सूख चुके हैं। सैकड़ों छोटी नदियां विलुप्त होने के कगार पर हैं। संरक्षण के अभाव में देश...

राजनीति: विज्ञान के लिए राष्ट्रीय नीति की जरूरत

सीएसआइआर का एक सर्वे बताता है कि हर साल जो करीब तीन हजार अनुसंधान-पत्र तैयार होते हैं, उनमें कोई नया विचार नहीं होता। वैज्ञानिकों...

राजनीतिः किस हवा में सांस लें

दिल्ली ही नहीं, देश के कई और शहरों का वातावरण भी बेहद प्रदूषित हो गया है। इस प्रदूषण को रोकने के लिए सरकार ने...

खेती-किसानी: जीएम फसलें और भारतीय खेती

भले ही शुरुआती दौर में जीएम फसलों से उत्पादकता बढ़ जाए लेकिन बाद में जीएम फसल जैव विविधता को खासा नुकसान पहुंचाएगा।

शशांक द्विवेदी का लेख : इसरो की कामयाबी का नया अध्याय

मंगलयान और चंद्रयान-एक की बड़ी सफलता के साथ-साथ अंतरिक्ष में प्रक्षेपण का शतक लगाने के बाद इसरो का लोहा पूरी दुनिया मान चुकी है।

शशांक द्विवेदी का लेख : खतरनाक लत

टार के प्रत्येक कण में नाइट्रोजन, आक्सीजन, हाइड्रोजन कार्बन डाईआक्साइड, कार्बन मोनोआॅक्साइड और कई उड़नशील और अर्द्ध उड़नशील कार्बनिक रासायन होते हैं।

विज्ञान : अंतरिक्ष में चहलकदमी

अमूमन अंतरिक्ष यात्री चार से छह घंटे सोते हैं। यान में स्लीप सेंटर होता है।