संजीव पांडेय

संजीव पांडेय के सभी पोस्ट

72 Articles

अफगानिस्तान में शांति दूर की कौड़ी

अमेरिकी प्रशासन तालिबान को शक की निगाह से देख रहा है, क्योंकि तालिबान अभी भी अलकायदा के संपर्क में है और उसके बड़े आतंकियों...

अफगानिस्तान की नई चुनौती

तालिबान और पाकिस्तान दोनों को लग रहा है अमेरिकी सेना की वापसी के बाद अफगान सेना कमजोर पड़ जाएगी। पाकिस्तान रणनीतिक तौर पर काबुल...

रिश्तों का नया दौर और चुनौतियां

भारत के लिए बांग्लादेश इसलिए भी महत्त्वपूर्ण है कि आज यह मुल्क तेजी से आर्थिक विकास करने वाला अहम पड़ोसी है। यह आर्थिक विकास...

धुंधली पड़तीं शांति की उम्मीदें

आने वाले वर्षों में भी अफगानिस्तान को संघर्ष के दौर से गुजरना होगा। अफगान शांति वार्ता में शामिल पक्षों के अपने-अपने हित हैं। अमेरिका,...

राजनीति: म्यांमा में फिर लोकतंत्र की बलि

आंग सान सू की ने भारत और चीन दोनों के साथ रिश्तों को संतुलित किया था। चीन-म्यांमा आर्थिक गलियारा भारत के लिए पहले से...

राजनीति: जोर पकड़ती सिंधु देश की मांग

अलग सिंधु देश की मांग को लेकर पाकिस्तान में हो रहे प्रदर्शन इस बात के संकेत हैं कि पाकिस्तान बनने के कई दशक बाद...

राजनीति: नेपाल का सत्ता संघर्ष और चीन

ओली को इस बात की पीड़ा भी साल रही है कि जिस चीन के इशारे पर उन्होंने भारत से सीमा विवाद को भड़काया और...

राजनीति: संकट में घिरे इमरान

पाकिस्तान में ग्यारह विपक्षी दलों का मोर्चा लोकतंत्र को बचाने के लिए सड़कों पर है। इनके उद्देश्य तो काफी बड़े हैं, पर सफलता को...

राजनीति : सत्ता और चुनौतियों के सामने सू की

म्यांमा के कई इलाकों में चीन के निवेश को लेकर स्थानीय लोगों में भारी गुस्सा है। चीनी निवेश के कारण वहां विस्थापन की समस्या...

राजनीति: क्‍वाड की रणनीति में चीन

चीन का समुद्री विस्तारवाद हिंद-प्रशांत क्षेत्र में स्थित अमेरिकी सैन्य अड्डों को भविष्य में चुनौती देगा। एशिया में अमेरिका के अपने हित हैं। इन्हें...

राजनीति: शांति की कठिन डगर

अफगान महिलाओं की तालिबान से मांग है कि दूसरे मुसलिम बहुल देशों की तर्ज पर वह भी अफगान महिलाओं के अधिकारों का समर्थन करे।...

राजनीति: पड़ोसियों पर दादागीरी करता चीन

चीन की विस्तारवादी नीति ब्रिक्स और एससीओ के हित में नहीं है। हालांकि रूस और चीन के बीच आपसी आपसी संबंध अच्छे हैं। चीन...

राजनीति: नेपाल में सत्ता संघर्ष

नेपाल के राजनीतिक दलों के नेता काठमांडू स्थित अमेरिकी और चीनी दूतावास के बीच फंसे हुए हैं। यह सच्चाई है कि ताकतवर मुल्कों और...

राजनीति: पैर पसारते चीन से खतरे

बिना किसी दस्तावेजी प्रमाण और संधि के भी चीन अपने आसपास के इलाकों पर दावा ठोक सकता है। चीन के भौगोलिक विस्तारवाद का वैचारिक...

राजनीति: तालिबान और भारत की दुविधा

तालिबान को लेकर भारत की कूटनीति फिलहाल दुविधा में है। इसके कई और मजबूत कारण हैं। तालिबान पश्तून जनजाति का संगठन है। पश्तून जनजाति...

राजनीति: ट्रंप की मुश्किलें और डब्ल्यूएचओ

डोनाल्ड ट्रंप अपनी विफलता को छिपाने के लिए सारा दोष डब्ल्यूएचओ पर मढ़ रहे हैं। दरअसल, जिस समय ट्रंप कोविड-19 को कोई संकट मान...

राजनीति: सेहत पर उठते सवाल

सिर्फ अमेरिका ही क्यों, स्वास्थ्य की मद में भारी पैसा खर्च करने वाले फ्रांस, इटली और ब्रिटेन की स्वास्थ्य सेवाओं का हाल भी यही...

राजनीति : तेल बाजार पर कब्जे की जंग

तेल और तेल बाजार पर कब्जे की जंग नई नहीं है। द्वितीय विश्वयुद्ध के बाद एशियाई और लैटिन अमेरिकी देशों के तेल और गैस...

ये पढ़ा क्या?
X