रोहित कौशिक

रोहित कौशिक के सभी पोस्ट

21 Articles

जीवन-जगत: अपने दिल की खिड़की खोलिए

‘हमें लाभ हो’ के भाव को त्यागकर धीरे-धीरे हम सोचने लगते हैं कि ‘सिर्फ हमें ही लाभ हो’। जब हम स्वयं पर केंद्रित हो...

जीवन जगत: बेईमानी और ईमानदारी का अंतर्द्वंद्व

सवाल यह है कि हम ईमानदारी से बेईमानी की तरफ कैसे खिंचे चले आते हैं? समाज बेईमानी को एक बड़ी बुराई के रूप में...

जीवन जगत: मुश्किल नहीं ईमानदारी की राह

एक ईमानदार व्यक्ति को आप बेईमानी करने के लिए कहेंगे तो वह कतई नहीं करेगा। इसी तरह एक बेईमान व्यक्ति को आप ईमानदार रहने...

विशेष: विरोधाभास और जिंदगी

हम किसी भी सपने को गंभीरता से नहीं लेते हैं। सपने देखते समय हमारी भावनाएं हमारे ऊपर हावी होती हैं लेकिन सामने कोई लक्ष्य...

प्रसंग: दलित उत्पीड़न का सिलसिला

गैर-दलितों को यह बात समझने की जरूरत है कि उनके दुख-सुख के सच्चे साथी दलित ही हैं। राजनेता अपने स्वार्थों के मद्देनजर आपके जख्मों...

कैसे सुधरे पुलिस

पुलिस का काम कानून और व्यवस्था के तंत्र को सुधारना है न कि उसे बिगाड़ना। लेकिन पुलिस के संदिग्ध क्रियाकलापों से न केवल कानून...

राजनीतिः बढ़ती गरमी से संकट में धरती

पिछले अनेक वर्षों में जिस तरह से क्योटो प्रोटोकॉल की धज्जियां उड़ा़ई गई हैं, उसने भी हालात को और भयावह बना दिया है। विकसित...

विकास का दौर बदलते गांव

जब भी गांव की बात चलती है, तो एक सुकून भरे, शांत, सहज, सादगीपूर्ण वातावरण का आभास मन में उभर जाता है। हरे-भरे खेत,...

राजनीति: जीवों को बचा कर ही बचेगा जीवन

अंधाधुंध प्राकृतिक दोहन के फलस्वरूप बीते चालीस सालों में पशु-पक्षियों की संख्या घट कर एक तिहाई रह गई। पेड़-पौधों की अनेक प्रजातियां तो विलुप्त...

राजनीतिः वक्त की जरूरत है जल संग्रहण

समस्या यह है कि जल संग्रहण के प्रति आम लोग जागरूक नहीं हैं। लेकिन कुछ जगहों पर स्थानीय लोगों ने जल संग्रहण के सराहनीय...

ICSSR, Hindu-Muslim riots, caste-based conflicts, School curriculum, Braj Bihari Kumar, intolerance, indian books, education news

राजनीति: किताबों की सामाजिक पहुंच का सवाल

छोटे-छोटे शहरों में भी शॉपिंग कॉम्पलैक्स का निर्माण धड़ल्ले से हो रहा है। वहां महंगे-महंगे उत्पादों के शोरूम खुल रहे हैं लेकिन किताबों की...

राजनीतिः धर्म के नाम पर

धर्म के नाम पर जनमानस को भटकाने और ठगने की प्रक्रिया आज भी जारी है। आज हालत यह है कि धर्म के सहारे...

monsoon, monsoon india, india monsoon

बारिश में जल बचाइए

कृषि की बढ़ती जरूरतों, ऊर्जा उपभोग, प्रदूषण और जल प्रबंधन की कमजोरियों की वजह से स्वच्छ जल पर दबाव बढ़ रहा है। ऐसी स्थिति...

Google Doodle, World Earth day, Doodle

सिर्फ नारों से नहीं बचेगी पृथ्वी

काफी समय से पेरिस जलवायु समझौते की आलोचना कर रहे अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने आखिरकार अमेरिका को इस समझौते से अलग कर लिया।...

नई स्वास्थ्य नीति की कठिन डगर

हाल में केंद्र सरकार ने राष्ट्रीय स्वास्थ्य नीति को मंजूरी दे दी। इसमें सबको स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध कराने को सरकार की जिम्मेदारी बताया गया...

राजनीतिः वन्यजीवों पर मंडराता संकट

पशु-पक्षी अपने प्राकृतिक आवास में ही खुद को सुरक्षित महसूस करते हैं। प्राकृतिक आवास में ही इनकी जैविक क्रियाओं के बीच एक संतुलन बना...

जलवायु: मौत का कारक

वातावरण में हाइड्रोकार्बन की अधिकता कैंसर जैसे रोगों के लिए जिम्मेदार है।

राजनीति: क्यों डराता है डेंगू

विश्व स्वास्थ्य संगठन के मानकों के अनुसार प्रति हजार आबादी पर एक डॉक्टर होना चाहिए लेकिन भारत में 1,674 लोगों की चिकित्सा के लिए...

यह पढ़ा क्या?
X