रीता सिंह

रीता सिंह के सभी पोस्ट

21 Articles

समाज: अपनों की हिंसा

रिपोर्ट के मुताबिक, 52 फीसद महिलाओं ने स्वीकारा है कि उन्हें किसी न किसी तरह हिंसा का सामना करना पड़ा है। इसी तरह 38...

राजनीति: शहरीकरण से बढ़ते खतरे

जहां तक भारत में शहरी आबादी की हिस्सेदारी का सवाल है तो यह निश्चित रूप से विकसित देशों की तुलना में कम है। लेकिन...

राजनीतिः दागियों को रोकने की चुनौती

दरअसल, राजनीतिक दलों को विश्वास हो गया है कि जो जितना बड़ा दागी है, उसके चुनाव जीतने की उतनी ही ज्यादा गारंटी है। पिछले...

मुद्दा: राजनीति का अपराधीकरण

यह तर्क सही नहीं कि कोई दल साफ-सुथरे लोगों को उम्मीदवार नहीं बना रहा है इसलिए दागियों को चुनना उनकी मजबूरी है। यह एक...

राजनीति: सवालों के घेरे में गंगा की सफाई

गंगा के तट पर प्रदूषण फैलाने वाले उद्योग और गंगा जल के अंधाधुंध दोहन से नदी के अस्तित्व को खतरा पैदा हो गया है।...

राजनीतिः मातृ मृत्युदर: लक्ष्य और हासिल

देश के जिन हिस्सों में भुखमरी, गरीबी, अशिक्षा, भ्रष्टाचार और जागरूकता की कमी है, वहां प्रसव के दौरान मातृ मृत्युदर के सर्वाधिक मामले देखने...

राजनीतिः सेहत पर तंबाकू का कहर

तंबाकू का सेवन असमय मौत की दूसरी सबसे बड़ी वजह और बीमारियों को न्योता देने के मामले में चौथी बड़ी वजह है। यही नहीं,...

राजनीतिः भूख से मौत और अन्न की बरबादी

भुखमरी के कई कारण हैं लेकिन सबसे महत्त्वपूर्ण कारण अन्न की बरबादी है। भारत अन्न बरबाद करने में दुनिया के संपन्न देशों से भी...

प्रसंगवश: जागीर नहीं स्त्री

महिलाओं के खिलाफ अपराधों और अत्याचारों में सजा केवल तीस प्रतिशत गुनहगारों को मिल पाती है। इस समय देश में करीब पंचानबे हजार ऐसे...

राजनीति: ऐसे तो नहीं बचेंगी बेटियां

देश में कड़े कानून के बाद भी चिकित्सालयों में भू्रण परीक्षण का खेल जारी है। एक रिपोर्ट के मुताबिक हर साल एक वर्ष की...

Jodhpur family court, Jodhpur, girl child, Child marriage, बाल विवाह, Saarthi Trust, Jodhpur news, Rajsthan news, Hindi news, News in Hindi, Jansatta

राजनीति: बाल विवाह उन्मूलन की राह

कड़े कानूनी प्रावधानों और जागरूकता कार्यक्रम के बावजूद पिछले दो दशक से बाल विवाह में कमी आने की दर हर वर्ष महज एक प्रतिशत...

विरासत में कुंभ

भारत में सभ्यता का विकास नदियों के किनारे हुआ। नदियों से न सिर्फ यहां के लोगों की आजीविका जुड़ी है, बल्कि इनका सांस्कृतिक महत्त्व...

राजनीतिः जैविक ईधन की ओर अग्रसर दुनिया

जैविक र्इंधन कार्बन डाइआॅक्साइड का अवशोषण कर हमारे परिवेश को स्वच्छ रखता है। अगर इसका इस्तेमाल होता है तो इससे र्इंधन की कीमतें...

विधवाओं की सुध लेने की जरूरत

विधवाओं के पुनर्वास की बात तो की जाती है लेकिन उनके विवाह के बारे में कोई भी बात नहीं करता। पीठ ने सरकार...

नकली नोटों से कब मिलेगी निजात

आंकड़ों के मुताबिक नकली मुद्रा रिपोर्टों की संख्या वर्ष 2007-08 में महज 8,580 थी, जो 2008-09 में बढ़ कर 35,730 और वर्ष 2014-15 में...

wild pig, monkey, wild animals, court case, wild pig, nilghai, monkey, destroyer animals, petition, supreme court, against

संकट में वन्य जीव

जैव विविधता एक ऐसा प्राकृतिक संसाधन है जो यदि एक बार समाप्त हो गया तो उसे दोबारा नहीं बनाया जा सकता।

Unicef air pollution, Delhi air pollution, Delhi Pollution, Unicef Delhi Pollution, Unicef Delhi

हवा में जहर के घूंट

2025 तक अकेले राजधानी दिल्ली में ही वायु प्रदूषण से हर वर्ष 26,600 लोगों की मौत होगी।

opinion on surrogate mother, jansatta opinion , jansatta article, jansatta editorial

राजनीतिः कोख के कारोबार की कड़ियां

यह स्वागत-योग्य है कि केंद्र सरकार ने किराए की कोख के व्यावसायिक इस्तेमाल पर प्रतिबंध की पहल तेज करते हुए सरोगेसी (नियमन) विधेयक को...

IPL 2020 LIVE
X