प्रयाग शुक्ल

प्रयाग शुक्ल के सभी पोस्ट

27 Articles

दुनिया मेरे आगे: सुबह की सैर

हमारे देश में सैर पर जाने वाले लोगों की संख्या में बढ़ोतरी हुई है और अब वह वरिष्ठ नागरिकों के (स्त्री-पुरुष दोनों) के बीच...

दुनिया मेरे आगे: भोजन की सुगंध

कोरोना काल में बहुतों के लिए रोटी और मकान एक बड़ा अभाव बन गए। कपड़े भले थोड़े बहुत तन पर रहे हों, भोजन पकने...

दुनिया मेरे आगे: सवारी साइकिल की

साइकिल का इतिहास वैसे दो सौ वर्षों का है। मानते हैं कि पहली साइकिल जर्मनी के कार्ल वान ड्रेज ने 1817 में बनाई थी,...

दुनिया मेरे आगे: पत्ता पत्ता बूटा बूटा 

यह सच है कि हम फूल-फल देने वाले वृक्षों और पत्तों को अधिक सराहते आए हैं, केवल पत्तों वाले वृक्षों और पौधों की तुलना...

दुनिया मेरे आगे: कहां गईं तितलियां

तितली पर बहुत-सी चीजें लिखी गई हैं। कविताएं और गीत भी बहुतेरे हैं। ‘पंछी बनूं उड़ती फिरूं’ गीत की याद बहुतेरे लोगों को होगी।...

दुनिया मेरे आगे: धूप के मायने

धूप ही फूल खिलाती है या कहें कि उनके सौंदर्य को और अधिक दमकाती है।

तरु की छाया में

कई संस्थाओं ने समारोहों में स्वागत-सम्मान के अवसर पर भेंट दिए जाने वाले फूलों के गुच्छे की जगह पौधे उपहार में देने की सुंदर...

दुनिया मेरे आगे: आधा गिलास पानी

यह संकट इतना गहरा है कि अब पर्व-त्योहारों पर भी पानी की बचत की बात सोचनी पड़ेगी। पर्व-त्योहारों पर, होली-दिवाली पर, पानी के मामले...

दुनिया मेरे आगे: वसंत की अगवानी

यह जानना-देखना सुखद है कि अब प्राय: सभी शहरों-महानगरों में कहीं-न-कहीं, किसी फुटपाथ पर भी, भांति-भांति के छोटे बड़े गमले बिकते हुए दिखाई देते...

irctc, irctc train, indian railway, indian railway schedule, indian railway train timings, indian railway tarin schedule, irctc train schedule, irctc train status, irctc train timings, irctc train, indian railway schudule, irctc, irctc train list, irctc special train list, irctc special train list 2018, irctc special trains 2018, railway special trains, railway special trains 2018, irctc.co.in, irctc train schedule, irctc train time table

दुनिया मेरे आगे: सड़क का सद्भाव

डूबते हुए को बचाना या आग में झुलस रहे किसी को बाहर निकालना या कोई किसी को लूट रहा हो तो सीना तान कर...

दुनिया मेरे आगे: मोर की बोली

हमारे शास्त्रीय नृत्यों में उसकी चाल को स्थान भी मिला है। वह कविताओं में है। ‘दादुर मोर, पपीहे बोले’! वर्षा ऋतु का वर्णन उसके...

चिंतन: नीर की निर्मलता

हमारे यहां ही नहीं दुनिया भर में जो यह माना जाता रहा है कि तन-मन दोनों निर्मल होने चाहिए, उसके पीछे की सोच यही...

दुनिया मेरे आगे: सुविधा का सफर

वे दिन बहुत पीछे चले गए हैं, जब शहरों कस्बों में इक्के-तांगे दौड़ते थे और साइकिलों पर बड़े-बड़े डॉक्टर इंजीनियर भी शान से बैठे...

दुनिया मेरे आगे: सुबह के फूल

सुबह के फूलों की ओर निहारिये तो वे अपने रंग-रूप के सौंदर्य के साथ-साथ एक ताजगी का अहसास कराते हैं। सो, बहुतेरे लोग उनकी...

विमर्शः साहित्य का भविष्य, भविष्य का साहित्य

इन दिनों जो साहित्य दुनिया की भाषाओं में लिखा जा रहा है, और जिससे हम कमोबेश परिचित हैं, वह कलाओं के साथ एक सहकारी...

ललित प्रसंग: नीम की छाया

अक्सर सभी प्रदेशों में दिखी है नीम की छाया। हम और कुछ पहचान पाएं या नहीं, नीम, बरगद, आम, पीपल को जरूर पहचान लेते...

नन्हीं दुनियाः कविता और शब्द भेद

कुछ शब्द एक जैसे लगते हैं। इस तरह उन्हें लिखने में अक्सर गड़बड़ी हो जाती है। इससे बचने के लिए आइए उनके अर्थ जानते...

mango, mango garden, memories of mango garden, duniya mere aage, national news in hindi, international news in hindi, political news in hindi, economy, india news in hindi, world news in hindi, jansatta editorial, jansatta article, hindi news, jansatta

दुनिया मेरे आगे: आम के बाग

गरमी आती है तो आम आते हैं और उन्हीं के साथ आम के बागों की याद आती है। किसी अमराई की भी, जहां आमों...

यह पढ़ा क्या?
X