ताज़ा खबर
 

पी. चिदंबरम के सभी पोस्ट

दूसरी नजर: बिगड़ते हालात और सरकार की अनिच्छा

पांच करोड़ डॉलर तक का कर्ज और एक साल की अवधि, यह एक तरह से ब्रिज लोन यानी कार्यशील पूंजी वाले कर्ज होते हैं।...

दूसरी नजरः कालेधन को सफेद बनाने का जादू

नोटबंदी का असर अभी तक कायम है। रिजर्व बैंक की 2017-18 की सालाना रिपोर्ट जारी होने के साथ ही, नोटबंदी का भूत फिर से...

दूसरी नजरः आंकड़े और नौकरियों की हकीकत

कंसाइज ऑक्सफोर्ड डिक्शनरी में ‘इंटरव्यू’ शब्द का मतलब बताया गया है- एक पत्रकार और सार्वजनिक हित से जुड़े व्यक्ति के बीच आमने-सामने की बातचीत।...

दूसरी नजरः जलन से बेहतर बराबरी

कुछ दिन पहले भाजपा के एक भोंपू नेता ने एक अखबार के संपादकीय पेज पर लिखते हुए ‘आर्थिक वृद्धि पर आला दर्जे की चर्चा’...

दूसरी नजरः पहले अराजकता, अब आत्मनिर्भरता

अपनी स्थापना के समय से ही आरएसएस (राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ) आर्थिक राष्ट्रवाद, स्वदेशी और स्वावलंबन का प्रबल पक्षधर रहा है।

दूसरी नजरः इमरान खान की नई पारी

भारत में कुछ वर्ग ऐसे भी हैं, जिन्हें पाकिस्तान की नई सरकार से बड़ी उम्मीदें हैं। कुछ ऐसे भी हैं, जिन्होंने चुनाव को ही...

दूसरी नजरः बहस और सवाल, मगर कोई जवाब नहीं

शुक्रवार, 20 जुलाई को सरकार अनिच्छा से अविश्वास के प्रस्ताव पर बहस कराने को राजी हुई। नरेंद्र मोदी सरकार के चार साल दो महीने...

दूसरी नजरः फ्रांस ने सम्मान जीता, क्रोएशिया ने दिल

फीफा वर्ल्ड कप फाइनल में फ्रांस ने क्रोएशिया को चार-दो से हरा दिया और दोनों देश विजेताओं के रूप में उभरे। पूरा फ्रांस एक...

दूसरी नजर: उपराज्यपाल को भाजपा की सहायता और सलाह!

अधिकारों की खींचतान में हार जाने के बाद, अविवेकी केंद्र सरकार घुमाव-फिराव के ढंग से जीतने की कोशिश कर रही है। उसका कहना है...

दूसरी नजरः भीड़ के निशाने

दोतरह की भीड़ है- एक, जमीन पर, और दूसरी, आभासी दुनिया में। दोनों के लक्षण समान हैं। भीड़ में शामिल लोग गुमनामी की आड़...

दूसरी नजरः व्यापार युद्ध से नुकसान का हिसाब लगाएं

यह ‘तीसरा विश्वयुद्ध’ नहीं है, लेकिन इसके नतीजे गंभीर होंगे और दुनिया के सारे देशों को आहत करेंगे। व्यापार के मोर्चे पर, दुनिया के...

दूसरी नजरः उम्मीद और विपदा के बीच

कुछ ही हफ्तों पहले मैंने ‘जम्मू-कश्मीर की कसौटी पर’ शीर्षक निबंध (13 मई, 2018) में अपनी पीड़ा का इजहार किया था। जम्मू-कश्मीर और खासकर...

दूसरी नजरः शांग्री-ला की खोज

माना जाता है कि शांग्री-ला एक रहस्यपूर्ण, सौहार्दपूर्ण घाटी है, पृथ्वी पर स्वर्ग का एक कोना, जहां हर समय सुख-शांति रहती है। अगर कहीं...

दूसरी नजरः सरकारें छिपा रहीं, लोग ढूंढ़ रहे

यह स्पष्ट नहीं है कि प्रभार किसके पास है या कौन-से नीतिगत बदलाव किए जाएंगे। मंत्रिमंडल मूकदर्शक है। प्रधानमंत्री की आर्थिक सलाहकार परिषद बिना...

दूसरी नजरः दूसरे दर्जे के नागरिक?

अगर धार्मिक अल्पसंख्यकों को लगता है कि उनका दिल डूब रहा है, कि उनकी जगह ‘दूसरे दर्जे के नागरिक’ की होती जा रही है,...

दूसरी नजरः जवाबदेही किसकी है

पिछले चार साल के दरम्यान कृषि की औसत वृद्धि दर बहुत कम रही, 2.7 फीसद। लागत+50 फीसद के बराबर समर्थन मूल्य कहीं दिख नहीं...

दूसरी नजरः कौन बचाएगा संविधान – संविधान का सवाल

मैं सर्वोच्च न्यायालय को सलाम करता हूं। न्यायालय ने संविधान को बचाने के लिए कोई कसर नहीं छोड़ी, उस वक्त जब एक सत्ता-लोलुप समूह...

दूसरी नजर: जम्मू-कश्मीर की कसौटी पर

राम माधव आरएसएस के रणनीतिकार हैं और भारत के विदेश मामलों तथा जम्मू-कश्मीर की जिम्मेदारी भाजपा के नेतृत्व वाली केंद्र सरकार की है। (क्या...