निशिकांत ठाकुर

वर‍िष्‍ठ पत्रकार अौर राजनीत‍िक व‍िश्‍लेषक

निशिकांत ठाकुर के सभी पोस्ट

11 Articles

पेगासस और किसान आंदोलन पर जारी है हंगामा

देश आज की स्थिति का उदाहरण देते हुए विपक्ष का कहना होता हैं कि लगभग 47 वर्ष पहले विपक्षी पार्टी के नेताओं की बैठक...

विरोधियों को सताने का हथियार है ‘राजद्रोह’ कानून

भारतीय दंड संहिता, यानी इंडियन पीनल कोड की धारा 124ए को ही राजद्रोह का कानून कहा जाता है। अगर कोई व्यक्ति देश की एकता...

पेगासस फोन टेप कांड, यानी सरकार का सर्विलांस इंडिया

आज से करीब 47 वर्ष पहले पूर्व राष्ट्रपति रिचर्ड निक्सन ने विरोधी दल की बैठक का फोन टेप कराया था और जिसके कारण उन्हें...

‘अपने’ देश में ‘बेगाना’ होने का दर्द

विभिन्न देशों के दुर्लभ प्रहार यदि किसी देश ने झेला है तो वह भारत है। किसी विदेशी आक्रांताओं को भारतीय मानव मूल्यों, उसके संस्कार...

जीत-हार की खुशी और कसक, दोनों को पचा पाना मुश्किल

इन चार दशकों के दौरान केंद्र में चाहे जिस दल या गठबंधन की सरकार रही हो, सभी ने अपने विरोधी दलों की राज्य सरकारों...

उपेक्षा…जिंदगी के साथ भी, जिंदगी के बाद भी

अब बात कोरोना के तीसरे संभावित फेज की। कहा जाता है कि यह बहुत ही खतरनाक फेज होगा। लेकिन, यदि समाज के सभी व्यक्तियों...

सोशल मीडिया पर विरोधाभाषी बुद्धिजीवी

हम किसी बात को तिल का ताड़ क्यों बना देते हैं! यह ठीक है कि भारतीय संविधान और न्यायालय ने हमें लिखने-बोलने की आजादी...

अंग्रेजों को भगाया, मानसिकता को नहीं

किसी भी देश की जनता के भाग्य—विधाता तो वहां की सरकार ही होती है। लेकिन, आज तक ऐसी कोई भी कोशिश किसी भी सरकार...

हे गंगा, आप आखिर कितना गंदगी ढोएंगी?

कोरोना वायरस संकट के बीच गंगा नदी में से शव निकलने की खबरें आई थीं। पढ़िए, इसी मसले से जुड़ी दुर्दशा को बयां करता...

रामकृष्ण परमहंस: अपने आखिरी वक्त में भी देते रहे उपदेश, भांप गए थे अपनी मौत; ऐसे थे स्वामी विवेकानंद के गुरु

जगत-प्रसिद्ध स्वामी विवेकानंद रामकृष्ण परमहंस जी के ही प्रधान शिष्य थे। आरंभ में वे रामकृष्ण परमहंस से बहुत तर्क-वितर्क किया करते थे, किंतु धीरे-धीरे...

12 साल की उम्र में ही सरोजिनी नायडू ने पास कर ली थी मैट्रिक की परीक्षा, विदेश में पढ़ाई के लिए निज़ाम ने दिया था वजीफा

सरोजिनी नायडू ने गांधीजी के अनेक सत्याग्रहों में भाग लिया और 'भारत छोड़ो' आंदोलन में वह जेल भी गईं। 1925 में वह भारतीय राष्ट्रीय...

ये पढ़ा क्या?
X