निशा नाग

निशा नाग के सभी पोस्ट

7 Articles

दुनिया मेरे आगे: कौशल की जगह

कारीगरी अगर किसी भी काम में शिल्प-पटुता है तो हमारे चारों और न जाने कितने ही कारीगर मौजूद हैं। यहां तक कि कॉलेज में...

दुनिया मेरे आगे: स्त्री का हक

आंकड़ों के हिसाब से देखें तो 5-9 आयु वर्ग की लड़कियां अपने बराबर के लड़कों से तीस प्रतिशत ज्यादा काम करती हैं। उत्तराखंड में...

RBI, Demonetion, New Notes, Document to Prove, Right to Issue, RBI had Right, No Document, No Document to Prove, Right to Issue New Notes, Demonetion in India, National News

दुनिया मेरे आगे: पारदर्शिता का तकाजा

हजारी प्रसाद द्विवेदी ने निबंध ‘देवदार’ में कहा है कि ‘जरूरी नहीं है, जो लगे वह हो भी। लगने और होने में फर्क होता...

date tips

दुनिया मेरे आगे- अहसास के आईने में

प्रेम है तो जीवन है, अन्यथा जिंदगी नीरस और ऊबाउ है। प्रेम का धरातल बहुत विशाल है और इसकी सच्चाई की परख बहुत ही...

दुनिया मेरे आगेः संवेदना का हाशिया

बचपन की एक धुंधली याद ताजा हो गई उस विज्ञापन को देख कर। छह सात बरस की रही होऊंगी। गरमी के दिन थे और...

jansatta opinion on Replacing skills, education, jansatta dunia mere aage

दुनिया मेरे आगेः कौशल की जगह

कला, कौशल और शिक्षा मानव सभ्यता और सांस्कृतिक अभिरुचि के परिचायक हैं। उस दिन घर का नल टपकने लगा, तब पलम्बर को बुलाया गया।...

रोटियों का गणित

रसोई में तवे पर रोटी पलटते हुए भौजी ने खाने के लिए आवाज लगाई। ऊपर टट्टर से नीचे झांकते हुए मैंने देखा, भौजी के...

यह पढ़ा क्या?
X