ताज़ा खबर
 

निरंकार सिंह के सभी पोस्ट

नदियों में बहती विष की धाराएं

देश के विभिन्न राज्यों में बहने वाली अड़तीस प्रमुख नदियों की सफाई पर पिछले कुछ सालों मेें अरबों रुपए खर्च किए जा चुके हैं।...

राजनीतिः बढ़ती आबादी, घटता खाद्यान्न

दुनिया के सभी लोग पेट भरने के लिए केवल नौ या दस पादप प्रजातियों पर आश्रित हैं। समस्या यह है कि ये सारे स्रोत...

काल का आदि और अंत

काल अर्थात समय क्या है? भारतीय ऋषियों की मान्यता है कि ईश्वर की तरह काल का अंत नहीं होता है अर्थात वह उन्हीं की...

रेगिस्तान का बढ़ता दायरा

धरती के रेगिस्तान में बदलने की प्रक्रिया बड़े पैमाने पर चीन, अफ्रीका, आस्ट्रेलिया, भूमध्यसागर के अधिसंख्य देशों तथा पश्चिम एशिया, उत्तरी और दक्षिणी अमेरिका...

भुखमरी से निपटने की चुनौती

बीस करोड़ भुखमरी के शिकार लोगों की संख्या के साथ भारत इसमें पहले नंबर पर है। यह हाल तब है जब दुनिया में भरपूर...

रोजगार की कसौटी और विकास

आजादी के बाद देश में कुछ नए कल-कारखाने खुले तो कुछ लोगों को काम मिला, लेकिन हमारी आबादी जिस रफ्तार से बढ़ रही...

राजनीतिः अगर धरती को बचाना है

जंगल जिस रफ्तार से नदारद हो रहे हैं उसी रफ्तार से नदारद होते रहे तो आक्सीजन कहां से मिलेगी? यदि ये जंगल नहीं रहेंगे...

राजनीतिः अंतरिक्ष में जीवन की खोज

जीवन पृथ्वी के अलावा कहीं और भी संभव है? इस पर कई दशकों से वैज्ञानिकों के बीच गहमागहमी चल रही है। अब पता चला...

कहां ले जाएगी अमेरिका और चीन की होड़

चीन और अमेरिका के बीच दक्षिण चीन सागर और उत्तर कोरिया को लेकर मतभेद गहराते जा रहे हैं। दोनों देश एक दूसरे से जंग...

राजनीतिः कुदरत के दोहन से खतरे में जीवन

हम प्रकृति पर अपने अंतहीन अतिक्रमण और बगैर सोचे-समझे उसमें बड़े-बड़े फेरबदल करके इस अधिकार का अविवेकपूर्ण उपयोग नहीं कर सकते और हमें करना...

गरम होती धरती के खतरे

मौसम का पारा जिस तरह ऊपर चढ़ रहा है उससे ऐसा लगता है कि इस बार झुलसाने वाली गर्मी पड़ेगी।

राजनीतिः पिछड़ा क्यों है उत्तर प्रदेश

अनेक छोटे-बड़े उद्योग-धंधों के केंद्र उत्तर प्रदेश में थे। हस्तकला और करघे रोजगार के अच्छे साधन थे। खेती-बाड़ी में भी यह प्रदेश पिछड़ा हुआ...

राजनीतिः लोकतंत्र के नाजुक पहलु

वर्तमान निर्वाचन प्रणाली का सारा आधार वैयक्तिक मतदाताओं की मतगणना है, जिसकी विधि प्रचलित पद्धति के अनुसार कहीं कम, कहीं अधिक जटिल होती है।...

वैज्ञानिक प्रगति की कसौटियां

हर साल जनवरी के पहले हफ्ते में भारतीय विज्ञान कांग्रेस अपना वार्षिकोत्सव मनाती है।

निरंकार सिंह का लेख : स्वाधीनता का उत्सव बनाम दायित्व

देश में कुछ भी नहीं हुआ है, ऐसा नहीं है। पर जो कुछ हुआ है उसका आर्थिक लाभ धनवानों को, उच्च वर्ग को, बड़े...

राजनीतिः आमदनी, अठन्नी खर्चा रुपैया

उत्तर प्रदेश प्राकृतिक और खनिज संसाधनों की दृष्टि से कोई पिछड़ा राज्य नहीं है, लेकिन इसकी गिनती आज देश के पिछड़े राज्यों में होती...

राजनीतिः सेहत की कीमत पर विकते खाद्य

मिलावट से निपटने में सरकार और उपभोक्ता मंचों की जिम्मेदारी तो है ही, कंपनियां भी इस मामले में अपनी भूमिका से मुकर नहीं सकती...

जीवन-मरण का वैश्विक प्रश्न

अगले दो सौ सालों में ग्लोबल वार्मिंग के कारण भारत को सर्वाधिक प्रभावित करने वाली मानसून प्रणाली बहुत कमजोर पड़ जाएगी। इससे बारिश और...