मुकेश भारद्वाज

मुकेश भारद्वाज के सभी पोस्ट

364 Articles
बेबाक बोल

कांग्रेस कथा: कुकर क्रांति

सत्ता के अहंकार में आसमानी घमंड से झूम रही पार्टी को वही संगठन जमींदोज कर सकता था जो पिछले तीन दशकों से जल, जंगल,...

राजकाज: अर्थशाप

जिस कोरोना को वुहान की देन समझ हम चीन को कोस रहे थे, वित्त मंत्री ने उसे भगवान की देन बता दिया। उस भगवान...

Sushant murder case, rhea chakravarty

खरी-खरी: जबरकारिता

टीवी चैनलों पर इन दिनों दो तरह का ‘मच्छी बाजार’ लगता है। एक तरफ वक्ता कैमरे के सामने मां की गाली तक देते हैं...

Rajkaj, Jansatta special story

राजकाज: बर्बरीक बोध

हारने वाले के साथ खड़े रहने की नैतिकता हासिल करने के लिए किसी वरदान की जरूरत नहीं होती। लेकिन नैतिकता तभी ताकत बन पाती...

बेबाक बोलः धर्म की धुंध

किसी भी जटिल समय में खास तरह की पक्षधरता की जरूरत पड़ती है। हर कालखंड उम्मीद करता है कि उसमें बदलाव की लकीर खींचने...

खरी-खरी: चिट्ठी को तार समझना

कांग्रेस में दो अलग-अलग शक्ति केंद्रों का असर संगठन के तौर पर भी नीचे तक विभाजन के रूप में दिखाई दे रहा था। छोटे...

बेबाक बोल: कहां हो कृष्ण

कृष्ण के युद्धनायक वाले शासकीय और राजकीय रूप को आधुनिक सरकारों ने जितना भी भुनाने की कोशिश की हो लेकिन आज भी लोक के...

bebak bol, rajkaj

राजकाज: धृतराष्ट्र जिंदा है

दुनिया में जहां भी लोकतंत्र के लिए ललक पैदा हुई उसका इतिहास बताता है कि वहां न सिर्फ राजशाही रही बल्कि एक ऐसा राजा...

बेबाक बोलः राम राष्ट्र

अयोध्या में राम मंदिर की बुनियाद रखे जाने के साथ भारतीय राजनीतिक, सांस्कृतिक व सामाजिक इतिहास का एक बड़ा अध्याय निर्णायक मोड़ पर पहुंच...

खरी-खरीः शोक स्तंभ

राजनीतिक हलकों की मानें तो यह जहाज अभी हिचकोले ही खाते रहेगा क्योंकि राजस्थान को लेकर आलाकमान के छोटे परिवार में फूट पड़ गई...

बेबाक बोलः अमरत्व का अभिशाप

अमरत्व के अमृत पर पूरी दुनिया की सभ्यता अपने हिसाब से मंथन कर मृत्यु से पार पाने की कोशिश करती है। लेकिन महाभारत दुनिया...

Balram, Krishna brother, mahabharat

राजकाज: बेबाक बोल- बलाख्यान

बलराम को पूजने वाला किसान वह वर्ग है जो आज भी सत्ता का पक्षधर नहीं। वह अपना कर्म करते हुए निष्पक्ष बना रहता है।...

विशेष: वंश का दंश

खरी-खरी: राजेश पायलट के बेटे सचिन पायलट, भूपिंदर सिंह हुड्डा के बेटे दीपेंद्र, जितेंद्र प्रसाद के बेटे जितिन, मुरली देवड़ा के बेटे मिलिंद, सुनील...

Rajkaj, bebak bol, mahabharat katha

राजकाज: बेबाक बोल-भीमासुर

मानव जीवन के संघर्ष के हर पहलू को उजागर करने के कारण आधुनिक रंगमंच की दुनिया में भी महाभारत के पात्र पहली पसंद रहे...

Rajasthan, Congress party, Ashok Gehlot

विशेष: अब नहीं तो कब सोनिया जी!

आज के दौर में कांग्रेस का यह हाल है कि पार्टी की बैठक में कोई युवा घुस जाए तो उसे लगेगा कि गलती से...

बेबाक बोलः विदुर वर्ग

प्राचीनकाल से ही दुनिया भर के शासक वर्ग को इस बात का अहसास रहा है कि किसी भी तरह का युद्ध आधा तो मनोवैज्ञानिक...

बेबाक बोलः द्रोणकाल

महाभारत में धर्म की पुनर्स्थापना के लिए जो अधर्म का चरम था वह खुद धर्मराज के अवतार ने किया। गुरु द्रोण का वध वह...

बेबाक बोलः पट्टीव्रता

गांधार प्रदेश की राजकुमारी गांधारी को स्वयंवर का विकल्प नहीं मिलता है। उसके लिए जिस नेत्रहीन राजकुमार से विवाह का प्रस्ताव आता है उसे...

ये पढ़ा क्या?
X