मुकेश भारद्वाज

मुकेश भारद्वाज के सभी पोस्ट

405 Articles

सेवानिवृत्त साहित्य

पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की बेटी और दिल्ली विश्वविद्यालय में इतिहास की प्रोफेसर उपिंदर सिंह ने किताब का विरोध करते हुए कहा था, 'जिस...

सत्ता के ‘लाल’

ममता बनर्जी ने तो एक राजनेता के रूप में बैठक के नियमों का उल्लंघन किया। लेकिन सरकारी अधिकारी के तौर पर अलापन बंद्योपाध्याय के...

आईने के सामने

लोकतंत्र का यह दुर्भाग्य है कि यहां सारे लोकतांत्रिक फैसले वोट के लिए होते हैं। सभी बड़े फैसले चुनाव के लिए रोक कर रखे...

जब मौत मुकाबिल हो

आज मौत सामने बैठी है तब हम चुप कैसे रह सकते हैं? सहज तौर पर देखा जाए तो असहाय होने पर आदमी के मुंह...

एक था शेषन

चुनाव आयोग में आपसी मतभेद कोई नया नहीं है, अशोक लवासा से लेकर कई उदाहरण पहले के भी हैं। इसके साथ ही आयोग के...

दावा तेरा दावा

भाजपा के प्रवक्ता भले बंगाल में बढ़ी सीटों को अपनी उपलब्धि बता रहे हों। लेकिन आपने 200 सीटों का जो गुब्बारा फुलाया था उसकी...

खेला चोलछे

भाजपा जिस राष्ट्रवाद के भरोसे उत्तर भारत में चुनावी रैलियों में तालियां बटोर रही थीं वो बंगाल में नहीं काम आया। बंगाल का राष्ट्रवाद...

कंधार्थी

महामारी की दूसरी लहर ने दिल्ली की ध्वस्त व्यवस्था की असलियत सामने रख दी। जब तक व्यवस्था चल रही होती है तब तक उसका...

फीकाकरण

एक भी बच्चा छूटा सुरक्षा चक्र टूटा।’ यह नारा था पल्स पोलियो अभियान का। आज भारत पोलियो मुक्त है तो इसलिए कि भारत सरकार...

रहिमन बानी राखिए

जनतंत्र में जिस तरह के संवाद की जरूरत होती है उसे अगर खत्म कर दिया जाए तो उसके बाद जनतांत्रिक नैतिकता के लिए कोई...

बेपर्दा मुर्दा

कोरोना की दूसरी लहर में सबसे बड़ा संकट यह है कि कैसे विश्वास कायम हो। अब फिर से वही स्थिति आ गई है। सड़कें...

दंडवत

भारतीय जनतंत्र महज 75 साल का है। हमारे लोकतंत्र के इतने छोटे अनुभव के बरक्स अन्य गैरलोकतांत्रिक व्यवस्थाएं अब भी हमारी चेतना का हिस्सा...

अमाननीय

भारत में लोकतंत्र की जड़ें बहुत गहरी हैं। मगर यहां सामंती सत्ता की भी लंबे समय तक पैठ रही है। जनता की चुनी हुई...

जन-संघ

दत्तात्रेय की पहचान बनी थी अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के कार्यकर्ता के रूप में। अभाविप का मतलब है जनमोर्चा। संघ के इतिहास में पहली...

क्षय का भय

किसान नेताओं की रणनीति है कि बिना किसी राजनीतिक नुकसान के केंद्र सरकार को संवाद की मेज पर नहीं बैठाया जा सकता है। दो...

भाजपालोक

मिठुन दादा के नागलोक और ममता दीदी के चंडीपाठ के बाद दिल्ली के सीएम विधानसभा में एलान कर रहे थे कि राम मंदिर बनने...

एक अनार 23 बीमार

कांग्रेस का भारतीय राजनीति में बहुत लंबे समय तक सत्ता में रहना ही उसके वर्तमान की त्रासदी है। केंद्रीय सत्ता से लेकर राज्यों में...

खाकी रही भावना जैसी

दिल्ली में ही हुए एक कार्यक्रम में पिछले साल फरवरी में सांप्रदायिक दंगे की शिकार महिला ने कहा-दंगाइयों ने मेरे सामने मेरे पति को...

ये पढ़ा क्या?
X