ताज़ा खबर
 

जनसत्ता के सभी पोस्ट

शनि शमन के लिए स्मृति ईरानी ‘धरम-करम’ की शरण में

विवेक सक्सेना केंद्रीय मानव संसाधन मंत्री स्मृति जुबीन ईरानी की भीलवाड़ा में एक ज्योतिषी से हुई मुलाकात का चाहे कोई कितना भी मखौल उड़ाए...

झारखंड चुनाव: वामदलों की ताकत कम होगी या बढ़ेगी?

शैलेंद्र पश्चिम बंगाल से लगे झारखंड में होने जा रहे विधानसभा चुनाव में वामदलों की उपस्थिति कैसी होगी, यह तो चुनाव नतीजे ही बता...

विश्लेषण: क्या इस चुनाव में बदल रही है घाटी की सियासत

पुण्य प्रसून वाजपेयी घाटी में कभी नारे लगते थे, ‘जिस कश्मीर को खून से सींचा वह कश्मीर हमारा है।’ तो बैनरों व पोस्टर से...

विकल्प की खोज

हमारे मुल्क में कानून के सामने क्या सभी नागरिक बराबर हैं? क्या सभी को सहज, सरल और सुलभ न्याय उपलब्ध है? कहीं हमारे देश...

सपनों के सौदागर

आमतौर पर तथाकथित बाबाओं के सत्संग में गरीब और कम पढ़े-लिखे लोग जाते हैं। यही बात नेताओं की सभाओं पर कुछ हद तक लागू...

मार खा रोई नहीं

अरविंद दास हरियाणा के सतलोक आश्रम में रामपाल की गिरफ्तारी को लेकर पुलिस की कार्रवाई का टीवी चैनलों पर शोर था, तभी अचानक पत्रकारों...

दूर के राही

सुनील मिश्र पिछले महीने विख्यात पार्श्वगायक दिवंगत किशोर कुमार की पुण्यतिथि तेरह अक्तूबर को सरकारी ड्यूटी के हिसाब से एक दिन पहले खंडवा आ...

अधर में महिला आरक्षण

संजीव चंदन अचानक कोई निर्णय नहीं लिया गया तो इस बार शीत-सत्र में भी भाजपा सरकार महिला आरक्षण विधेयक संसद मे पेश नहीं करने...

शाही समाजवाद

समाजवादी पार्टी के मुखिया मुलायम सिंह यादव ने अपना पचहत्तरवां जन्मदिन जिस शाही अंदाज में मनाया उससे सहज ही यह सवाल उठता है कि...

सुधार की राह

भाजपा के सत्ता में आने की आहट से ही आर्थिक सुधार की उम्मीद परवान चढ़ने लगी थी। मोदी सरकार ने इस दिशा में कुछ...

अखिलेश के राज में जवाबदेही से मुक्त है नौकरशाही

अनिल बंसल उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने शनिवार को रामपुर में अपने पिता मुलायम सिंह यादव के 76वें जन्मदिन के मौके पर...

कश्मीर घाटी में भाजपा को मुट्ठी भर वोट ही मिलेंगे: उमर

जम्मू-कश्मीर के मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने भरोसा जाहिर किया कि उनकी पार्टी नेशनल कांफ्रेंस राज्य के आगामी विधानसभा चुनावों में अच्छा प्रदर्शन करेगी। उमर...

प्रसंग : भाषा के पहरुए

 हरजेंद्र चौधरी मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने केंद्रीय विद्यालयों में तृतीय भाषा के रूप में जर्मन की जगह संस्कृत पढ़ाने का निर्णय किया तो...

सिनेमा : प्रतिरोध, परदा और प्रतिबंध

देवेंद्र पाल फ्रांसीसी फिल्मकार फ्रांसुआ त्रुफो कहते थे कि सिनेमा अच्छा होता है या बुरा होता है। मगर उन्हें कहां पता था कि भारत...

समांतर संसार : दरकते रिश्ते

सय्यद मुबीन ज़ेहरा यह बहुत चौंकाने और परेशान करने वाली सच्चाई देश की राजधानी दिल्ली से उभर कर सामने आई है। हमारे समाज का...

दक्षिणावर्त : कश्मीर में केसर

तरुण विजय वक्त यों बदलता है। जहां एक बार जाने की कीमत डॉक्टर श्यामा प्रसाद मुखर्जी को अपनी जान से चुकानी पड़ी थी, वहां...

कभी-कभार : दरगाह में रज़ा

अशोक वाजपेयी कई महीनों से हमारे मित्र चित्रकार सैयद हैदर रज़ा का, अजमेर में ख्वाजा मोइउद्दीन चिश्ती की विश्वप्रसिद्ध दरगाह में जाना, उनकी तबीयत...

मीडिया : अंगरेजी पत्रकारिता के दुराग्रह

विष्णु नागर हिंदी के वरिष्ठ कवि केदारनाथ सिंह को हाल ही में राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने भारतीय ज्ञानपीठ पुरस्कार प्रदान किया। इसमें शायद ही...