ताज़ा खबर
 

जनसत्ता के सभी पोस्ट

चल रही थीं शादी की तैयारियां, सात मार्च को बंधना था सेहरा

मेजर चित्रेश बिष्ट के घर में 19 दिन बाद सात मार्च को होने वाली उसकी शादी की तैयारियां चल रही थी। उनके घर वाले...

जवाबी रणनीति की जरूरत

केंद्र सरकार ने बीते करीब साढ़े चार वर्षों में विदेश नीति और कूटनीति के स्तर पर काफी बेहतर रणनीति अपनाई है। सरकार ने कूटनीति...

चेतने का वक्त

पिछले कुछ वर्षों से आतंकवादी हमारे सैन्य व पुलिस ठिकानों को लक्ष्य बनाकर देश को हानि पहुंचा रहे हैं। जब हमारा देश विकसित राष्ट्रोंं...

वसंत की तलाश

बरसों पहले जब हम कालेज में अध्ययनरत थे तो हमारे गुरुजन याद रख कर एक सप्ताह पहले से ही निराला जयंती और वसंत उत्सव...

ग्रामीण भारत में स्कूली शिक्षा

असर की रिपोर्ट से स्पष्ट है कि ग्रामीण भारत में स्कूल जाने की उम्र वाले बच्चों के लिए स्कूल ऐसी जगह बनता जा रहा...

पहला सबक

पुलवामा के आतंकी हमले की घटना के बाद भारत ने एक और जो बड़ा कदम उठाया है वह यह कि कई देशों के राजनयिकों...

प्रधानमंत्री ने सांसदों से मांगी पांच साल के काम की रिपोर्ट

संसद सत्र खत्म होते ही भाजपा ने लोकसभा चुनाव के लिए जमीनी स्तर पर तैयारियां शुरू कर दी हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से देशभर...

दिल्ली मेरी दिल्ली: किसकी लगी नजर

दिल्ली में प्रचंड बहुमत से सरकार बनाने वाली आम आदमी पार्टी (आप) को किसी की नजर लग गई है। पहले केंद्र सरकार और उपराज्यपाल...

सर्वदलीय एकजुटता

घाटी में आतंकी संगठनों की सक्रियता रोकने के लिए सिर्फ पाकिस्तान के खिलाफ कड़े कदम उठाना काफी नहीं होगा। जब तक घाटी में युवाओं...

किताबें मिलीं: ‘छोटे-छोटे बड़े युद्ध’, ‘बर्फ’ और ‘रंग सृजन’

किताबें मिलीं में आज पढ़ें 'छोटे-छोटे बड़े युद्ध', 'बर्फ' और 'रंग सृजन' का रिव्यू

नन्ही दुनिया: कविता और शब्द-भेद

प्रयाग शुक्ल तितली आई तितली आई उड़ती एक इधर-उधर को मुड़ती एक फूलों से जा जुड़ती एक तितली आई उड़ती एक। पंख पसारे आई...

शख्सियत: सूर्यकांत त्रिपाठी निराला

निराला को महाप्राण कहा जाता है। यह संज्ञा के पीछे उनके द्वारा किए गए कार्य और साहस है। निराला ने अपने लेखन से समाज...

नन्ही दुनिया: अप्पू की पेंटिंग

मंजरी शुक्ला अप्पू हाथी पूरे जंगल में अपना स्टूल लिए घूम रहा था, पर मोंटू बंदर उसे कहीं नजर नहीं आ रहा था। थक-हार...

दाना-पानी: सुपाच्य सेहतमंद नाश्ता

कहते हैं, सुबह का नाश्ता ठीक से हो जाए, तो दिन भर कुछ खाने को न भी मिले तो कोई बात नहीं। इसलिए कई...

युवाओं की बदलती जीवन-शैली

तकनीकी संसाधनों, कामकाज के दबावों और जीवन के प्रति बदलते दृष्टिकोण का असर युवाओं पर साफ दिखता है। वे पारंपरिक जीवन-शैली को छोड़ कर...

सूरजकुंड मेला : मौजूद है सबकी पसंद का सामान

यहां आपको असली टीक लकड़ी से बने फर्नीचर व अन्य घरेलू साज-सज्जा का सामान मिल सकता है। लेकिन इसके लिए आपको जेब ढीली करनी...

बचें रीढ़ के दर्द से

लंबे समय तक कुर्सी पर बैठ कर काम करना, घंटों गर्दन झुका कर मोबाइल चलाना, गलत अवस्था में सो जाना या गलत अवस्था में...

रेडियो से सामुदायिक रेडियो तक

एक पुरानी कहावत है कि कोस कोस पर पानी बदले, चार कोस पर बानी। जब नए जमाने के रेडियो की बात करते हैं तो...