ताज़ा खबर
 

जनसत्ता के सभी पोस्ट

चौपाल: सीवर में मौत

देशभर में होने वाली इन बेहद दुखद घटनाओं से संबंधित खबरें मीडिया में सुर्खी बन कर खत्म हो जाती हैं। सीवर के भीतर पैदा...

चौपाल: छवि पर दाग

पिछले दिनों हरियाणा के रेवाड़ी में बारहवीं की टॉपर छात्रा के साथ सामूहिक बलात्कार ने खूब सुर्खियां बटोरी हैं। इसकी पीड़िता वही लड़की थी...

दुनिया मेरे आगे: बदलता परिवेश

आज की पीढ़ी के सामने सबसे बड़ा संकट उस प्रकाश स्तंभ की अनुपस्थिति है, जिसमें ऊर्जा देने की क्षमता हो। परिवार, परिवेश, समाज, राजनीतिक...

दिल्ली मेरी दिल्ली: चालान की चाल

बेदिल को पूर्वी दिल्ली की एक जगह पर पुलिस के इस रवैये से पीड़ित सज्जन ने बताया कि वे अपनी गाड़ी से अक्षरधाम से...

राजनीति: ईरान-अमेरिका के बीच भारत

अमेरिका-ईरान संबंध उस वक्त बिगड़ने शुरू हुए थे जब 1979 की इस्लामी क्रांति के बाद अमेरिका के पिट्ठू कहे जाने वाले शाह मोहम्मद रजा...

दिल्ली मेरी दिल्ली: सिफारिश की दरकार

मुश्किल यह है कि दीक्षित पहले ही बीमारी से जूझ रही हैं। वह हाल में ही विदेश से आॅपरेशन करा के लौटी हैं...

रेवाड़ी गैंगरेप कांड: आरोपी जवान सहित दो की गिरफ्तारी

अब तक पांच धरे: मामले में अब तक पांच लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है लेकिन इस मामले में और लोगों के शामिल...

संपादकीय: चर्च के भीतर

सवाल है कि लंबे समय से इस नन के साथ जो कुछ होता रहा, उस पर चर्च ने कोई कदम क्यों नहीं उठाया। पीड़ित...

संपादकीय: सेहत की फिक्र

इस योजना के तहत देश भर के दस करोड़ परिवारों यानी पचास करोड़ लोगों को सालाना पांच लाख रुपए तक की मुफ्त चिकित्सा सेवाएं...

कहानी: फैसला

प्रमोद सर अभी आखिरी सीढ़ी उतरे भी नहीं थे कि दफ्तर का चपरासी विष्णु झटपट कह कर चला गया, ‘सर जाइए, प्रिंसिपल साहब आपको...

संदर्भ: स्मृतिहीनता के दौर में

स्मृतिविहीन रचना को जब कोई आलोचक रचना के नैरंतर्य के इतिहास में ले जाकर सोचने पर विवश करे या सीधी और खरी-खरी आलोचना कर...

विमर्श: अनुवाद का भारतीय परिदृश्य

आज के वैज्ञानिक युग में भारत जैसे विशाल आबादी वाले पारंपरिक समाज की प्रगति और विकास के लिए विज्ञान और प्रौद्योगिकी के रास्ते पर...

दाना-पानी: आलू-पोहा टोस्ट और लजीज पास्ता

आमतौर पर माताओं की शिकायत रहती है कि उनका बच्चा स्कूल से टिफिन खाए बिना वापस ले आता है। इस तरह उनकी चिंता स्वाभाविक...

किताबें मिलीं: गंगा तीरे, तैमूर तुम्हारा घोड़ा किधर है, आजादी और राष्ट्रवाद

इस किताब में निजी अनुभव, संस्मरण, यात्रा वृत्तांत, लेखक के मन में उठते सवाल और उन सवालों को आधुनिक संदर्भों में देखने की कोशिश...

मुद्दा: मजदूरी को मजबूर बचपन

भारत में जनगणना के मुताबिक चौदह वर्ष से कम आयु के कुल एक करोड़ छब्बीस लाख छियासठ हजार तीन सौ सतहत्तर बाल मजदूर हैं,...

शख्सियत: जानिए समाज सुधारक, दार्शनिक, शिक्षाशास्त्री, लेखक और अनुवादक ईश्वर चंद्र विद्यासागर के बारे में ये बातें

बंगाल पुनर्जागरण के स्तंभों में से एक माने जाने वाले विद्यासागर ने बांग्ला और संस्कृत भाषा के लिए भी काम किया। कलकत्ता के संस्कृत...

सेहत: परीक्षा का बुखार

कहते हैं टेंशन है क्योंकि अटेंशन नहीं है। यही टेंशन परीक्षा के समय विद्यार्थी झेलते हैं। साल भर वे परीक्षा की पढ़ाई नहीं करते।...

फैशन में असम के परिधान

हमारे देश में न सिर्फ बोली-बानी और खानपान में विविधता है, बल्कि पहनावे में भी अलग-अलग इलाकों की अपनी पहचान है। फैशन डिजाइनर विभिन्न...