हरिप्रकाश राठी

हरिप्रकाश राठी के सभी पोस्ट

1 Articles

कहानी : गुमनाम उजाले

शाम गहरी होती जा रही थी। त्रिवेंद्रम एक्सप्रेस अभी उज्जैन प्लेटफार्म पर आकर रुकी थी। वह अलसुबह कोटा से रवाना हुई थी। उतरने वाले...

ये पढ़ा क्या?
X