बाल मुकुंद ओझा

बाल मुकुंद ओझा के सभी पोस्ट 8 Articles

जनसंख्या नियंत्रण का तकाजा

देश की आबादी आजादी के बाद चार गुना बढ़ गई। दरअसल, देश में परिवार कल्याण कार्यक्रमों को लागू करने वाली सरकारी एजेंसियां गंभीर नहीं...

धर्म जनगणना, मुसलिम जनसंख्या, हिंदू आबादी, धर्म जनगणना 2011, Religious Census, Religious Census 2011, Hindus Population, Muslim population, Religious Census Report, Religious Census 2011 Report

जनसंख्या नियंत्रण की चुनौती

आज विश्व की जनसंख्या सात अरब से ज्यादा है। अकेले भारत की जनसंख्या सवा अरब से अधिक है। भारत विश्व का दूसरा सबसे अधिक...

खुशहाल जीवन का दुश्मन है धूम्रपान

पूरी दुनिया में पिछले कुछ सालों में धूम्रपान और उससे पीड़ित लोगों की संख्या में लगातार वृद्धि हुई है।

राजनीतिः आम आदमी के बहाने

आम आदमी कड़ी मेहनत के बाद भी गरीबी की गिरफ्त से बाहर नहीं निकल पाता। पर यह कोई अनिवार्य नियति नहीं है, यह प्रचलित...

आधी आबादी: समानता और विकास

स्वतंत्रता के सात दशक बाद भी ग्रामीण और शहरी दोनों ही क्षेत्रों में महिलाओं को दोयम दर्जे के बर्ताव से जूझना पड़ रहा है।

childhood education, future of india, childhood literacy, childhood literacy rate

चिंता : कैसे सुरक्षित हो बचपन

रिपोर्ट के अनुसार ग्रामीण क्षेत्रों में तीसरी कक्षा में पढ़ने वाले बच्चे साधारण अक्षर भी नहीं पहचानते हैं, अट्ठाईस प्रतिशत अक्षर पहचानते हैं मगर...

Jodhpur family court, Jodhpur, girl child, Child marriage, बाल विवाह, Saarthi Trust, Jodhpur news, Rajsthan news, Hindi news, News in Hindi, Jansatta

कुप्रथा की जकड़बंदी 

बाल विवाह निषेध अधिनियम 2006 में बाल विवाह को दंडात्मक अपराध माना गया है।

abuse, punjab congress, moga, national herald case, bjp

चिंता : नशे की गिरफ्त में युवा

हमारे समाज में नशे को सदा बुराइयों का प्रतीक माना और स्वीकार किया गया है। लेकिन आजकल नशा यानी शराब पीना फैशन बनता जा...