ताज़ा खबर
 

बाल मुकुंद ओझा के सभी पोस्ट

जनसंख्या नियंत्रण का तकाजा

देश की आबादी आजादी के बाद चार गुना बढ़ गई। दरअसल, देश में परिवार कल्याण कार्यक्रमों को लागू करने वाली सरकारी एजेंसियां गंभीर नहीं...

जनसंख्या नियंत्रण की चुनौती

आज विश्व की जनसंख्या सात अरब से ज्यादा है। अकेले भारत की जनसंख्या सवा अरब से अधिक है। भारत विश्व का दूसरा सबसे अधिक...

खुशहाल जीवन का दुश्मन है धूम्रपान

पूरी दुनिया में पिछले कुछ सालों में धूम्रपान और उससे पीड़ित लोगों की संख्या में लगातार वृद्धि हुई है।

राजनीतिः आम आदमी के बहाने

आम आदमी कड़ी मेहनत के बाद भी गरीबी की गिरफ्त से बाहर नहीं निकल पाता। पर यह कोई अनिवार्य नियति नहीं है, यह प्रचलित...

आधी आबादी: समानता और विकास

स्वतंत्रता के सात दशक बाद भी ग्रामीण और शहरी दोनों ही क्षेत्रों में महिलाओं को दोयम दर्जे के बर्ताव से जूझना पड़ रहा है।

चिंता : कैसे सुरक्षित हो बचपन

रिपोर्ट के अनुसार ग्रामीण क्षेत्रों में तीसरी कक्षा में पढ़ने वाले बच्चे साधारण अक्षर भी नहीं पहचानते हैं, अट्ठाईस प्रतिशत अक्षर पहचानते हैं मगर...

कुप्रथा की जकड़बंदी 

बाल विवाह निषेध अधिनियम 2006 में बाल विवाह को दंडात्मक अपराध माना गया है।

चिंता : नशे की गिरफ्त में युवा

हमारे समाज में नशे को सदा बुराइयों का प्रतीक माना और स्वीकार किया गया है। लेकिन आजकल नशा यानी शराब पीना फैशन बनता जा...