जगमोहन सिंह राजपूत

जगमोहन सिंह राजपूत के सभी पोस्ट 21 Articles

जनसत्ता प्रसंग: ग्राम स्वराज की संभावना

भारत में गांव, किसान, और कृषि की जो समझ गांधीजी दे गए हैं, उसकी तरफ से आंख मूंद लेने के परिणाम सामने हैं। कृषि...

राजनीति: वैश्विक उत्तरदायित्व बोध की चुनौती

अहिंसा के सिद्धांत से सहमति सभी राष्ट्रों ने दी, मगर तैयारियां तो युद्ध की होती रहीं, और आज भी हो रहीं हैं। वैज्ञानिक और...

राजनीति: विनाश से बचने के विकल्प हैं गांधी

भारत का दुर्भाग्य यह रहा कि सामाजिक सद्भाव और पंथिक समरसता का जो मंत्र गांधी देश को सिखा गए थे, उसे स्वतंत्रता के...

संपादकीय: गांधी को समझने का समय

विश्व में सारा द्वंद्व, भयानक प्रतिस्पर्धा, आयुधों पर बेतहाशा व्यय, हिंसा और तनाव तो अनियंत्रित संग्रह को लेकर ही है।

चर्चा: शिक्षा नीति का प्रारूप, मातृभाषा और शिक्षक

लंबी प्रतीक्षा के बाद नई शिक्षा नीति का प्रारूप शिक्षाविदों, अध्यापकों, बुद्धिजीवियों की समीक्षा के लिए सार्वजनिक कर दिया गया है। उसमें संविधान में...

शिक्षा: शिक्षा की आधार-त्रयी

प्रबोधन, नायकत्व तथा सामंजस्य वे तीन तत्त्व हैं, जो अध्यापक और विद्यार्थी दोनों को परिभाषित करते हैं, इसलिए यही शिक्षा नीति का मूल आधार...

चर्चा: गांधी की प्रासंगिकता

यह महात्मा गांधी की डेढ़ सौवीं जयंती का वर्ष है। उनके बाद से देश में बहुत कुछ बदल गया है। शिक्षा, राजनीति, सामाजिक व्यवहार-बर्ताव,...

राजनीति: शिक्षा की गुणवत्ता और सवाल

परिवार से जो प्रेरणा हर बच्चे को मिलती है, वह अपने आप में जीवन के सार तत्त्वों का निचोड़ होती है, पीढ़ियों के खट्टे-मीठे...

राजनीति: पराली का हल और इच्छाशक्ति

हवा और पानी प्रकृति ने तो कभी प्रदूषित करके हमें नहीं दिए। हमने बिना सोचे-समझे जंगल उजाड़े, नदियों के प्राकृतिक मार्गों में व्यवधान डाले,...

राजनीतिः जरूरी है गांधी को समझना

सच्ची शिक्षा उस मनुष्य ने पाई है जिसके शरीर को ऐसी तालीम दी गई है कि वह उसके बस में रह सकता है, सौंपा...

चर्चाः उच्च शिक्षा की साख: उच्च शिक्षा के सामने यक्ष प्रश्न

आज उच्च शिक्षा का यह महत्त्वपूर्ण मानवीय उत्तरदायित्व बनता है कि वह उस भाईचारे को प्रखरता दे, जिसके आधार पर भारत ने हर प्रकार...

राजनीतिः मनुष्य सिर्फ संसाधन नहीं

कई बार ऐसा लगता है कि जानकारी न होने, लोगों से राय-मशविरा न करने या बाहरी संस्कृति के प्रभाव के कारण भी नाम बदल...

राजनीति: शिक्षा सुधार की बुनियाद

बच्चों को चारों ओर के वातावरण को जानना है, भाषा और गणित को जानना है, और बहुत कुछ भी जानना है, उन्हें बहुत कुछ...

संचार तकनीक-उपकरणों की रंग-रंगीली दुनिया

नवजात शिशु को मृत घोषित करने वाले अस्पताल के खिलाफ केवल एफआइआर लिखा देना और एक डॉक्टर को छुट्टी पर भेज देना ही समस्या...

बच्चों का आक्रोश और शिक्षण की चुनौती

बच्चों द्वारा अपने अध्यापकों के लिए नए नाम/उपनाम रखना या अपशब्दों का प्रयोग अनेक बार हास्य या मनोरंजन से हट कर उनके मन में...

असुरक्षित बचपन

सरकारी स्कूलों की स्थिति में सरकारों द्वारा पेश किए गए सुधार के आंकड़े कई बार बड़े प्रभावी लगते हैं। पर जब स्कूल में जाकर...

राजनीतिः शिक्षा से सामाजिक सद्भाव

आज कहा जाता है कि हम विश्व-गांव के निवासी हैं, सब एक-दूसरे के पड़ोस में आ गए हैं, पर यह भुला दिया जाता है...

जवाबदेही से पलायन

बीसवीं सदी के मध्यकाल में विश्व के अनेक देश स्वतंत्र हुए और सभी ने जनतंत्र को अपनाने का प्रयास प्रारंभ किया।