ताज़ा खबर
 

अश्विनी भटनागर के सभी पोस्ट

तीरंदाज़ : लोकतंत्र में नया समीकरण

राहुल गांधी राजनीतिक परिवार से जरूर हैं, पर प्रभावशाली नेता होने का कोई गुण उनमें नहीं है। असिलयत यह है कि वे न तो...

तीरंदाज़ : अमेरिका का अंतर्विरोध

ट्रंप नामांकित हो चुके हैं, पर रिपब्लिकन पार्टी के दिग्गज उनको स्वीकार करने के लिए तैयार नहीं हैं

तीरंदाज : जम्हूरियत, इंसानियत और कश्मीरियत

कश्मीर समस्या’ के समाधान में मूलमंत्र के रूप में जम्हूरियत, इंसानियत और कश्मीरियत का फार्मूला कोई बुरा नहीं है।

तीरंदाज़ : काला धंधा गोरे लोग

अमेरिका और ब्रिटेन एक और काला काम बड़ी सफाई से कर रहे हैं- वे चोरी का पैसा अपने यहां जमीन-जायदाद की खरीद-फरोख्त में लगवा...

तीरंदाज : सौ साल का महाबली

अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी चीन का आर्थिक और सैनिक बल अमेरिका के लिए बड़ी चुनौती बन चुका है और मध्यपूर्व-एशिया में हस्तक्षेप के कारण...

तींरदाज़ : समाजवाद का तिलिस्म अवतार

सैंडर्स का उदय अमेरिका के लिए जरूरी था। पूंजीवाद चरम पर होने के बावजूद चरमरा रहा है। आम आदमी, व्यापारी या नौकरीपेशा, हाशिये पर...

तीरंदाज़ : खयालों से खेलते हुए

कुछ लोग कहते हैं कि शब्द निर्जीव नहीं होते, उनकी अपनी प्राणवायु होती है। पर मैं नहीं मानता। विचार से जब शब्द उत्पन्न होते...

तीरंदाजः हकीकत का जनपथ

सब अपनी धुन में हैं और होना भी चाहिए। हम भी अपनी धुन में हैं। पर पैसेंजर को इससे क्या मतलब? उसको प्रगति मैदान...

तीरंदाज़ : लोक-संवाद में अड़चन न बनें

हिंदी शायद वह भी है, जिसे हम बंबइया कहते हैं, यानी मराठी में सनी खड़ी बोली और अंगरेजी के शब्द। पंजाबी भी अंगरेजी के...