ताज़ा खबर
 

अशोक कुमार के सभी पोस्ट

जर्मनी में सरकार बनाने पर हुई डील, लेकिन घमासान जारी

आम चुनावों के साढ़े चार महीने बाद जर्मनी में आखिराकर नई सरकार बनाने का रास्ता साफ हो गया है। बड़ी माथापच्ची करनी पड़ी, तब...

स्वीडन में भी चला स्वच्छता ट्रेंड, नाम है प्लॉगिंग

यहां यूरोप में एक नए तरह का सफाई अभियान आजकल काफी सुर्खियों में है, जिसे "प्लॉगिंग" कहा जा रहा है। जॉगिंग करने वाले दलों...

जंग में पिसती इंसानियत और अरबों का मुनाफा

जंग किसी के लिए अपना वर्चस्व कायम करने का जरिया है तो किसी के लिए त्रासदी।

विक्टर ओरबान: यूरोपीय संघ का सबसे बड़ा सिरदर्द

हंगरी के प्रधानमंत्री विक्टर शरणार्थियों के मुद्दे को हथियार की तरह इस्तेमाल करते हैं और यूरोपीय संघ से टकराने का कोई मौका नहीं गंवाते...

पांच करोड़ यूरो का जुर्माना रोक पाएगा हेट स्पीच को?

दुनिया के दूसरे देशों की तरह जर्मनी भी सोशल मीडिया पर नफरत फैलाने वालों से तंग है। बात चंद खुराफातियों तक सीमित नहीं है,...

चमक खो रहा है जर्मन चांसलर एंजेला मर्केल का सितारा

एक ताजा सर्वे के मुताबिक जर्मनी के आधे लोग चाहते हैं कि 2021 में अगले चुनाव से पहले एंजेला मर्केल को राजनीति को अलविदा...

बिखर रहे यूरोप को एकजुट रखने का सपना

पोलैंड और यूरोपीय संघ के बीच विवाद की वजह पोलिश न्यायपालिका में किए गए सुधार हैं।

दुनिया मेरे आगे – साइकिल की सवारी

मैंने जब पहले-पहल साइकिल सीखी थी, तब मौके की तलाश रहती थी कि कोई बाजार से कुछ लाने को कहे। दस गज की भी...

बदलाव की बुनियाद

परीक्षा में नकल रोकना एक सराहनीय पहल है। इसे और व्यापक होना चाहिए। लेकिन कुछ बुनियादी बातों पर भी ध्यान देना होगा।

दुनिया मेरे आगेः विभ्रम के युग में

अंग्रेजी में इस्तेमाल होने वाला ‘पोस्ट ट्रुथ’ यानी ‘सच से परे’ का पद इन दिनों काफी लोकप्रिय हो गया है।

दुनिया मेरे आगेः जड़ता की छवियां

टीवी पर प्रसारित होने वाले पारिवारिक धारावाहिकों का एक अलग महत्त्व है। लोगों के बीच टीवी आज एक आदत की तरह है तो उसमें...

समय की टिक टिक

एचएमटी का बुरा समय सन 2000 से ही शुरू हो गया था। लेकिन सरकारों के अतुल्य भारत से लेकर अच्छे दिन के दावे को...