अरुणेंद्र नाथ वर्मा

अरुणेंद्र नाथ वर्मा के सभी पोस्ट 27 Articles

corona, gram swarja

दुनिया मेरे आगे: समय का चक्र

अस्सी साल पहले पैंतीस करोड़ लोगों के लिए जिस ग्राम्य स्वराज की कल्पना की गई थी, उसे अब एक सौ पैंतीस करोड़ लोगों के...

दुनिया मेरे आगे: कागज का जीवन

अब एक तरफ कोविड-19 के भविष्य के बारे में अटकलें लगाई जा रही हैं, दूसरी तरफ जो पत्रिकाएं अपने डिजिटल संस्करण ले आ सकीं...

Ramayana world record, Ramayana, uttar ramayan, Ramayana most viewed show, Ramayana record, Highest Viewed Entertainment Program Globally, रामायण वर्ल्ड रिकॉर्ड, रामायण, रामायण सबसे ज्यादा देखे जाना वाला शो, रामायण रिकॉर्ड

दुनिया मेरे आगे: बदला हुआ समय

महाभारत (रामायण भी) धारावाहिक को दूरदर्शन के करोड़ों दर्शकों के मन मस्तिष्क पर छा जाने का चमत्कार दिखाए हुए पूरे बत्तीस वर्ष बीत चुके...

basant weather

दुनिया मेरे आगे: लो फिर बसंत आया

ऋतु-परिवर्तन का सौंदर्य चिंतामुक्त मन को ही भाता है। ऋतुओं का सौंदर्य उनके परिवर्तन में है, इस मर्म को समझा था महाकवि कालिदास ने।...

दुनिया मेरे आगेः स्मृतियों के कोने में

मुझे उस पुराने भोंपू वाले ग्रामोफोन का ध्यान आया, जिसे पत्नी ने चमका कर बैठक में सजावटी धरोहर के तौर पर रख दिया था।...

बितले चइतवा हो रामा

रामजन्म से उल्लसित चैता और प्रिय के सान्निध्य में हुलसती चैती, दोनों जल्दी ही खेत-खलिहान के निष्ठुर सत्य से जूझेंगे। धीरे-धीरे चैत्र की बयार...

दुनिया मेरे आगे: लोरी की डोर

लोरी शिशुओं के लिए केवल नींद की दवा नहीं होती। मानसिक विकास में एक महत्त्वपूर्ण कदम होता है संप्रेषण-भावों और शब्दों दोनों का। संप्रेषण...

दुनिया मेरे आगे: स्वाद की सेंध

दरियागंज के मोतीमहल रेस्टारेंट से पंडित जवाहर लाल की खाने की मेज पर पहुंच कर तंदूरी चिकेन मशहूर हो गया। इतना कि 1962 में...

दुनिया मेरे आगे: बुझते दिए जलाने के लिए

पाकिस्तान के साथ सन 1965 से अब तक हुए युद्धों में हमें जितने मित्रों को अलविदा कहना पड़ा है, लगभग उतने ही हवाई दुर्घटनाओं...

दुनिया मेरे आगे: हमदर्दी की हद

अपनों द्वारा भुला दिए जाने के दंश को भारत के बदनसीब आखिरी बादशाह बहादुर शाह जफर से ज्यादा किसने महसूस किया होगा। उनकी मशहूर...

दुनिया मेरे आगेः कनेर का फूल

कनेर भी भव्य सड़कों के डिवाइडरों पर अपनी सुंदरता से चार चांद लगाता है, लेकिन उसमें वह अल्हड़पन नहीं, जो बेगमबेलिया में है।

दुनिया मेरे आगे: नए किरदार, पुराने परिधान

रियो ओलंपिक वह अंतिम क्रीड़ा समारोह बन कर रह जाएगा जिसमें भारतीय महिला खिलाड़ी पीली साड़ी और नेवी ब्ल्यू ब्लेजर के आकर्षक परिधान में...

praising, employees, praising employees, subordinate employees, morale, increasing morale, national news in hindi, international news in hindi, political news in hindi, economy, india news in hindi, world news in hindi, jansatta editorial, jansatta article, hindi news, jansatta

दुनिया मेरे आगे: दो मीठे बोल

प्रशंसा के दो मीठे बोल अधीनस्थ कर्मचारियों का मनोबल कितना बढ़ा सकते हैं, इसका अंदाज अगर हर समय भौहें तनी रखे वाले अधिकारियों को...

hindi diwas, hindi diwas speech, hindi diwas 2018, hindi diwas speech in hindi, hindi diwas quotes, hindi diwas poem, hindi diwas kavita, hindi diwas slogans, hindi diwas bhasan, hindi diwas bhasan in hindi, hindi diwas quotes in hindi, hindi diwas speech for students, hindi diwas news

दुनिया मेरे आगे: अभिव्यक्ति के भाव

सच तो यह है कि भारत में ‘थैंक यू’ कहने वालों की संख्या धन्यवाद कहने वालों से कहीं अधिक है। हम ‘टीशर्ट’ और ‘जींस’...

दुनिया मेरे आगेः सुनहरी धूप में ऊंघता देश

हजारों वर्ष पुरानी सभ्यता और संस्कृति के हमारे दंभ को दो सौ वर्षों की गुलामी ने चूर-चूर कर दिया था। गुलामी की जंजीरों से...

दुनिया मेरे आगे- उजाले अपनी यादों के

कोमल हरे पत्तों के बीच सहेज कर रखा हुआ नन्हा दीया गंगा आरती में घंटे-घड़ियाल और शंख ध्वनि की धूमधाम के साथ प्रवाहित...

दुनिया मेरे आगे- रक्त के आंसू

किसी साल उनके अभिसार को प्रतीक्षारत धरती सूनी आंखों से आकाश को निहारती रह जाती है तो किसी साल वे उसकी प्यास पूरी तरह...

ताक पर तहजीब

रोज बदलते समाज के मूल्यों के बीच अच्छे और बुरे की परिभाषा भी तेजी से बदलती जा रही है। शुचिता एक नया अर्थ पा...