अरुण तिवारी

अरुण तिवारी के सभी पोस्ट

7 Articles

गाद को बहने दो

प्रत्येक नदी में तीन तरह के कण होते हैं: सैंड, सेडिमेंटेशन और सिल्ट यानी रेत, गाद और तलछट।

water crisis, Lack of water, management, Society, recovers from water crisis, Measures for groundwater exploitation, licensed or prevented, ground water sources

कमी पानी की नहीं, प्रबंधन की है

भूजल शोषण नियंत्रण का उपाय भूजल स्रोतों का नियमन, लाइसेंसीकरण या रोक नहीं हो सकता।

Delhi Auto strike, Delhi Taxi Strike, Delhi Strike, Auto Taxi Strike, Delhi News

‘दुनिया मेरे आगे’ कॉलम में अरुण तिवारी का लेख : ईमान की इज्जत

आइटीओ से लक्ष्मीनगर की दूरी दो किलोमीटर से कम नहीं। कोई आॅटोवाला अधिक पैसे पाने के बाद इतनी दूरी से सिर्फ पैसा लौटाने आए,...

Environmental test, jansatta article, jaansatta editorial

पर्यावरण की कसौटी पर

अमेरिका, दुनिया का नबंर एक प्रदूषक है, तो चीन नंबर दो। फिर भी भारत, उपभोगवादी चीन और अमेरिका जैसा बनना चाहता है। क्यों?

birds, ecosystem, climate

दुनिया मेरे आगेः ओ री गौरैया

तब हमारे दिल्ली वाले मकान में मात्र दो कमरे, रसोई, गुसलखाना, शौचालय और एक बरामदा था। बाहर अमरूद के नीचे आंगन में खाना खाते...

Jansatta article, jansatta editorial, jansatta opinion, jansatta story, odd-even

दिल्ली को हरित नियोजन की दरकार

दिल्ली ही नहीं, पूरे राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र को इन कवायदों के दायरे में लाना होगा। परिवहन, मार्ग, समय, वाहन उपयोग तथा कचरा प्रबंधन संबंधी...

rivers in india, Ganga, Godawari, Monsoon, River Pollution

कैसे प्रदूषण-मुक्त हों नदियां

नदियों की प्रदूषण-मुक्ति के नाम पर खर्च बढ़ता जा रहा है, पर सरकारी प्रयास अब भी नतीजा लाते नहीं दिख रहे। आखिर क्यों?

ये पढ़ा क्या?
X