अरिमर्दन कुमार त्रिपाठी

अरिमर्दन कुमार त्रिपाठी के सभी पोस्ट

15 Articles

मुद्दा: कृत्रिम मेधा का दुश्चक्र

मशीन कितनी भी ज्ञानवान हो जाए, संवेदना की उम्मीद उससे नहीं की जानी चाहिए। संवेदना के साथ कोई अपरिचित व्यक्ति भी एक आज्ञाकारी संतान...

भाषाई वर्चस्व और मानवाधिकार का संकट

स्वतंत्रता की मूल भावना के अनुरूप ही हम सब अपनी भाषा के प्रति सजग रहें, लेकिन दूसरों की भाषा के प्रति संवेदनशील भी हों।...

प्रसंग: भाषिक प्रतीकों में समाज

एक तर्क यह भी दिया जाता है कि पदनामों का कोई जेंडर नहीं होता। अगर कुछ समय के लिए यह तर्क सही भी मान...

संदर्भ: तकनीक का वर्चस्व

यह एक डरावना तथ्य है कि भूमंडलीकरण के बाद खुली अर्थव्यवस्था में जिस चीज ने सबसे ज्यादा विकास किया या यों कहें कि सबसे...

प्रसंगः अल्पसंख्यक भाषाओं का भविष्य

आगामी वर्ष 2019 को संयुक्त राष्ट्र ने ‘अंतरराष्ट्रीय जनजातीय भाषा वर्ष’ घोषित किया है। इस घोषणा के साथ ही सदस्य राष्ट्रों से यह भी...

Digital Data, Digital Data facts, Digital Data debate, Digital Data lord, Digital Data germany, Digital Data and world, Digital Data of fb, Inherit of The Digital Data, Debate Topic, Debate Topic in europe, Debate Topic fb, Germany Nowdays, international news

प्रसंगवश: अफवाह का तंत्र

सोशल मीडिया पर उपस्थित लोग न तो संपूर्ण समाज हैं और न ही इनकी प्राथमिकताएं संपूर्ण समाज का प्रतिनिधित्व करती हैं, लेकिन सार्वजनिक उपस्थिति...

शिक्षा: गति और गतिरोध

आवश्यकता निजी विद्यालयों पर सख्ती के साथ सार्वजनिक विद्यालयों को आधुनिक संदर्भों में मूल्यपरक शिक्षा देने लायक बनाने की है, जहां सरकारी खानापूर्ति से...

naming, meaning of peoples name, images of names, national news in hindi, international news in hindi, political news in hindi, economy, india news in hindi, world news in hindi, jansatta editorial, jansatta article, hindi news, jansatta

दुनिया मेरे आगेः नाम में छवियां

पहली नजर में किसी व्यक्ति, स्थान या वस्तु के नामकरण की प्रक्रिया सहज दिखती है और वास्तव में इसे सरल होना भी चाहिए।

रोजी के संघर्ष में भाषा का सवाल

भाषा का न तो मानव-सभ्यता से परे कोई अस्तित्व है और न भाषा के बिना जीवन की पूर्णता की कामना की जा सकती है।...

तकनीकी हिंसा का दायरा

कितना विस्मयकारी है कि प्रकृति की व्यवस्था को चुनौती देते हुए विशुद्ध मशीनी पात्र आज हमारे समाज का नागरिक है।

डिजिटल मीडिया का सच

भारतीय लोकतंत्र की व्यापक परिधि में आज भी वह परिपक्वता नहीं है, जो किसी स्वस्थ समाज और लोक कल्याणकारी राज्य के लिए आवश्यक है।...

hindi diwas, hindi diwas 2016, hindi diwas 2016 date, hindi diwas speech, hindi diwas facts, Hindi Day, 14 September Hindi Diwas, National Hindi Diwas, Hindi Diwas Celebration, Hindi Diwas Essay, Hindi Diwas Slogans, Hindi Diwas Speech, Hindi Diwas Poem, Hindi Diwas Essay In Hindi, India News

व्याकरण की सामयिकता

हिंदी अपने मूल में लोकतांत्रिक भाषा है और स्थानीयता ही इसकी वास्तविक पूंजी रही है।

Internet Speed, Broadband, BSNL Internet, BSNL Internet Plans, TRAI, Telecom company BSNL, Fastest Internet Speed, Best Telecom company in india, Superfast Internet

‘संचार’ कॉलम में अरिमर्दन कुमार त्रिपाठी का लेख : संवाद में संकुचन

नील थाम्पसन ने कहा था कि ‘भाषा महज शब्दों का प्रयोग नहीं होती, बल्कि यह उस जटिल सरणि को संबोधित करती है, जो संपर्क...

hindi language, journalism, trend, jansatta, ravivari

भाषा : भारतीय राष्ट्रवाद और भाषाएं

असल में किसी भाषाभाषी में जब उच्चता का बोध आ जाता है, तो वह दूसरी भाषा नहीं सीखना चाहता।

sunday column

सोशल नेटवर्क और सरोकार का मुखौटा

इंटरनेट एक माध्यम मात्र है। इस पर उपलब्ध कोई ऐप या वेबसाइट समाज के भूख, रोग और अशिक्षा को दूर नहीं कर सकता है।...

बिहार विधानसभा चुनाव 2020
X