अपूर्वानंद

अपूर्वानंद के सभी पोस्ट 3 Articles

अप्रासंगिक : हिंदी में विस्तार बनाम संकुचन

किसी एक देश की एक ही राष्ट्रभाषा होगी, यह राष्ट्र निर्माण की एक रूढ़ समझ का नतीजा है: एक भाषा, एक जन, एक राष्ट्र।...

अप्रासंगिक : हिंसक समय में चुप्पी

क्रोध कहां है? या क्षोभ? अठहत्तर साल के एक विद्वान, शोधकर्ता, अध्यापक, पूर्व कुलपति और लेखक की हत्या दिन दहाड़े कर दी जाए और...

अप्रासंगिक : आदिवासी संघर्ष का जख्मी चेहरा

हिड़मे कौन है? क्या वह लड़का है या लड़की? हिड़मे भारतीय कानों के लिए एक अटपटा शब्द है। सांस्कृतिक-स्मृतिहीन लेकिन परंपराग्रस्त भारतीय माता-पिताओं को...

ये पढ़ा क्या?
X