ताज़ा खबर
 

अंजलि सिन्हा के सभी पोस्ट

महिला कामगारों को कम वेतन क्यों

हम दुनिया के बड़े विकसित देशों की बात करें तो वहां भी हर स्तर पर महिलाओं को पुरुषों के समान वेतन अभी सुनिश्चित नहीं...

दुनिया मेरे आगेः आस्था के आगे

दिल्ली के रोहिणी इलाके में ढाई-तीन किलोमीटर की दूरी पर स्थित उस अस्पताल में उसे पहुंचना था, जहां उसका इलाज पहले से चल रहा...

राजनीति: पुलिस बल की अबलाएं

पुलिस बल में महिला कांस्टेबलों या अन्य अधिकारियों को जो झेलना पड़ता है, उसकी यह महज ताजा बानगी है।

मुद्दा कॉलम में अंजलि सिन्हा का लेख : इलाज में कोताही

प्रश्न उठता है कि स्वास्थ्य के क्षेत्र में सरकारी हस्तक्षेप को अधिक पुष्ट करने और उसमें आवंटन बढ़ाने जैसे असल मुद्दे से सरकार कब...

अंजलि सिन्हा का कॉलम : अकेली औरत की पहचान

जहां तक समस्याओं की रोकथाम या उनसे निजात पाने की बात है, अकेले रह रही महिलाओं को विशेष श्रेणी में डाला जा सकता है,...

राजनीतिः सार्वजनिक दायरे में स्त्री

कल्पना करें कि अगर हमारे समाज में, चाहे वह शहर हो या गांव हो या कस्बा, यौन हिंसा का भय न हो तो...

दुनिया मेरे आगेः होड़ के हवाले बच्चे

विश्वविद्यालय में शिक्षा हासिल करने के दिनों में वहां पास का बाजार अचानक खाली लगने लगता था, क्योंकि वहां आए दिन पहुंचने वाले शिक्षकों...

क्यों बढ़ रहे हैं मन के रोगी

देश की छह फीसद से अधिक आबादी किसी न किसी प्रकार के मानसिक असंतुलन की शिकार है। लगभग दो करोड़ लोग सीजोफ्रेनिया (व्यक्तित्व विघटन)...

समान नागरिक संहिता की जरूरत किसे है

हमारे देश में समान नागरिक संहिता को एक जटिल तथा विवादास्पद मुद्दा बना दिया गया है। हाल में फिर से एक जनहित याचिका की...