अनिल बंसल

अनिल बंसल के सभी पोस्ट 181 Articles

राजपाटः दिखाया आईना

पार्टी नेतृत्व ने तो हार के कारणों की उचित समय पर समीक्षा की बात कही थी पर उमा भारती ने अपनी तरफ से समीक्षा...

राजपाटः मुंगेरी शरमाए

सोनेलाल पटेल ने बहुजन समाज पार्टी छोड़ने के बाद बनाई थी अपनी यह अलग पार्टी। दावा तो पिछड़ों की पार्टी होने का है। पर...

राजपाट: खट्टे अंगूर

साध्वी ऋतंभरा के गुरु स्वामी परमानंद सरस्वती को शामिल करने पर भी किसी को अचरज नहीं हुआ।

राजपाटः सियासी तीरंदाजी

हार के बाद पार्टी की सबसे कद्दावर मानी जाने वाली नेता वसुंधरा राजे की आला कमान ने अनदेखी कर दी। लिहाजा वे आहत...

राजपाटः बनते बिगड़ते रिश्ते

नीतीश कुमार की दुविधा अब साफ है। वे सत्ता का मोह भी नहीं छोड़ पा रहे और अपने सिद्धांतों की दुहाई भी देते रहते...

राजपाट: ईमानदारी का सिला

जिन पांच आइपीएस अफसरों के भ्रष्टतंत्र और लखनऊ के सत्ता गलियारों में पहुंच का वैभव कृष्ण ने अरसे पूर्व गोपनीय पत्र लिख खुलासा किया...

राजपाटः सियासी पैंतरे

सियासी हलकों में नीतीश के भावी पैतरों को लेकर अटकलें तेज हैं। वे दबाव बनाने की राजनीति में निपुण माने जाते हैं। तेजस्वी यादव...

राजपाटः कांटों भरी राह

उद्धव ठाकरे मुख्यमंत्री रह चुके हैं और नैतिकता कहती है कि जो मुख्यमंत्री रहा हो उसे मंत्री पद की हसरत क्यों पालनी चाहिए? पर...

राजपाटः सब्र का इम्तिहान

राजस्थान की अशोक गहलोत सरकार पर राजपाट। गहलोत की सरकार बने एक साल से भी ज्यादा हो गया है। पर सत्ता सुख की रेवड़ियां...

राजपाटः सवालिया निशान

उत्तर प्रदेश सांप्रदायिक नजरिए से देश का सबसे संवेदनशील सूबा रहा है। लेकिन इस बार कहीं भी नाराज मुसलमानों ने किसी भी गैरमुसलमान खासकर...

राजपाट: हाल-बेहाल

इस 21 अक्तूबर को सूबे में विधानसभा की 11 सीटों का उपचुनाव है।

राजपाट: करामाती करतार व सब्र की इंतिहा

भाजपा की नीतियों ने ऐसा मोह लिया कि वे बसपा का चोगा उतार भाजपा में शामिल हो गए।

राजपाटः छूटे न मोह और वक्त का फेर

बैरागी संप्रदाय के महंत राजेंद्र दास ने इस बैठक में नरेंद्र गिरि को ही दोबारा अध्यक्ष और हरि गिरि को महामंत्री बनाने का प्रस्ताव...

राजपाटः उलटबांसी

जब तक ठाकरे थे, भाजपा और शिवसेना के बीच छोटे और बड़े भाई का ही रिश्ता रहा। यहां तक कि 1995 में पहली बार...

राजपाट: प्रतिष्ठा दांव पर

शुरू में तो हरीश रावत ने अपने बचाव की कोशिश की थी पर अब उन्होंने खुद को भाग्य भरोसे छोड़ दिया है।

राजपाट: रंग चोखा ही चोखा

इक्का-दुक्का ही लखपती होता था। अब कोई अभागा ही होगा जो करोड़पति न हो।

राजपाट: सियासी दांव पेच

हरिद्वार के भाजपा विधायक और त्रिवेंद्र सरकार के मंत्री मदन कौशिक की भूमिका थी मुख्यमंत्री को जयराम आश्रम लाने में।

राजपाट: तालमेल को मजबूर

लोकसभा में भाजपा डरी हुई थी सो उसने शिवसेना से तालमेल जरूरी समझा। खुद 25 सीटों पर लड़ी और शिवसेना के लिए 23 सीटें...

ये पढ़ा क्या?
X