ताज़ा खबर
 

कविताएं: ‘बच्चे की जिद’, ‘संभव न्याय’, ‘मामूली इच्छा’ और ‘कटोरे में प्यास’

शंकरानंद की कविताएं

Author June 17, 2018 6:20 AM
दूर तक पानी खोजते पक्षी प्यास का भार उठाए थक गए

बच्चे की जिद

वे कहीं भी रहेंगे तो बोल देंगे
उनका होना छिप नहीं सकता किसी रहस्य की तरह
किसी जादू की तरह
या किसी भ्रम की तरह

वे इस पृथ्वी पर एक तारा हैं
या उगती हुई धूप, जो तमाम वर्जित जगहों पर
पड़ती है उसी अनुसार बराबर
वे पवित्र ओस हैं पारदर्शी
या किसी भी ऋतु में बारिश का पानी
या नरम हरी घास हैं वे
जिन्हें हर पाबंदी खल जाती है
वे एक पक्षी हैं, जिन्हें हर बंटवारे से इनकार है
और हर दीवार से घृणा

इस हिंसा द्वेष घृणा और युद्ध से भरी दुनिया में
अब जो आशा है उन्हीं से है केवल।

कटोरे में प्यास

दूर तक पानी खोजते पक्षी
प्यास का भार उठाए थक गए
उनके पंख जवाब दे चुके हैं
उनकी चोंच गरम हो चुकी है
और कंठ में फूट रहा है लावा

तब वे सोचते हैं कि उनका गुनाह क्या है
कि भरी दोपहर घूंट भर नहीं मिल रहा पानी
और दूर दूर तक धरती अछोर है
जिसे नापना है हर हाल उस एक बूंद के लिए
कहीं नहीं ठिकाना अब उम्मीद का
वे पक्षी चोंच उठाए खोज रहे हैं पानी की चमक
हद ये है कि जहां जहां कटोरी है
वहां वहां पानी नहीं प्यास है।

HOT DEALS
  • Sony Xperia XA Dual 16 GB (White)
    ₹ 15940 MRP ₹ 18990 -16%
    ₹1594 Cashback
  • I Kall Black 4G K3 with Waterproof Bluetooth Speaker 8GB
    ₹ 4099 MRP ₹ 5999 -32%
    ₹0 Cashback

संभव न्याय

यह एक बंद हो चुका सिक्का है
या सूखता हुआ पेड़
या एक विलुप्त हो चुकी नदी है
या एक गड़रिया
जो किसी रात गुम हो गया अपनी भेड़ों के साथ

यह एक टूटा हुआ पहाड़ है
एक गिरता हुआ पंख
जो अब किसी काम का नहीं रहा
देह से अलग होने के बाद

यह घुन खाया हुआ बीज है
एक कुतरा हुआ दाना
या एक बच्चे की काट ली गई पतंग
जिसे गली के गुंडे लेकर दौड़ रहे हैं।

मामूली इच्छा

मैं कोई शासक नहीं
कि जिसकी दिव्य हों इच्छाएं
मैं कोई तानाशाह भी नहीं
जो करना चाहे मुट्ठी में दुनिया

मुझे तो किसी दोस्त से मिलना है केवल
या कोई तारा देखना
किसी नदी में डूबना है
या किसी पेड़ के नीचे दोपहर में सोना
कमरे की बंद खिड़की को खोलना है
या किसी बच्चे से बात करना
या लिखनी है किसी को चिट्ठी
और कहनी है मन की बात
कोई पका फल खाना है स्वाद से भरा
या घड़े का पानी पीना है ठंडा
या बैठना देर तक किसी के पास
और सुननी दुख की लंबी कथा।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App