ताज़ा खबर
 

कविता: उसने कहा था…

डॉ सांत्वना श्रीकांत की कविता।

प्रतीकात्मक तस्वीर

-डॉ सांत्वना श्रीकांत

नदी जैसी हो तुम
और मैं उसमें
मिश्रित रेत की तरह,
चमकता हूं हर पल
तुम्हारी सपनीली आंखों में
उसने कहा था एक दिन।
तुम जननी मेरी
मैं तुम्हारा उपज
यदि नहीं करूंगा
इंतजार तो कौन समझेगा
हमारे रिश्ते को
कौन समझेगा तुम्हें नदी
और मुझे तटबंध?
पड़ा रहता हूं अविचल
तुम्हारे पीले आंचल में
चांदी की रेत लेकर
ताकि लहरों पर इठलाती
तुम आओ बार-बार
और करो अपना शृंगार,
मैं तुम्हें ताकता रहूं अपलक
भर लूं तुम्हें आंखों में
ताकि बचा लूं
दुनिया के लिए पानी,
उसने कहा था एक दिन,
नदी जैसी हो तुम।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App। जनसत्‍ता टेलीग्राम पर भी है, जुड़ने के ल‍िए क्‍ल‍िक करें।

Next Stories
1 नृत्योत्सवः कृष्ण की बाल लीला
2 द लास्ट कोच: हम होंगे कामयाब एक दिन
3 कला और संस्कृति: नृत्यांगना, दर्शनशास्त्री और भरतनाट्यम की कोरियोग्राफ रुक्मिणी देवी अरुंडेल
ये पढ़ा क्या?
X