ताज़ा खबर
 

कविताएं: बुद्ध की प्रतीक्षा और तुम्हारी उष्मा में…

यहां पढ़ें डॉ. सांत्वना श्रीकांत की दो कविताएं।

प्रतीकात्मक तस्वीर। (Source:AP Photo)

सांत्वना श्रीकांत

बुद्ध की प्रतीक्षा

तुम्हारा-

कानों के पीछे चूमना
आत्मा को छूना है जैसे,
होठों को चूमना
सूर्य की रश्मियों को
रास्ता देना था।
मेरी देह में
उतर रहे हो तुम
रक्त कणिकाओं की तरह,
असं•ाव सा लग रहा
रक्त कणिकाओं के बिना
देह का भविष्य।
सदी की महत्त्वपूर्ण
है यह घटना,
जिसकी साक्षी है
ये छुअन
जो अंकित है
तुम्हारे हृदय में,
धड़कती रहेगी यह
सदी के अंत तक
बुद्ध की प्रतीक्षा में…..।

2. तुम्हारी उष्मा में…

तुम ने गले लगाया
मानो उड़ेल दिया
उम्र का सुकून
कुछ कहने-सुनने के
खत्म हो गए मायने।
जन्म ले रही थी
प्रेम की नई परिभाषाएं।
मैं जागती हूं तो
मेरे होंठ खोजते हैं
तुम्हारा चुंबन,
नींद में-
मेरी रूह करती है
तुमसे आलिंगन,
मेरी देह की गर्मी में
मिल गई है तुम्हारी उष्मा
यह उष्मा-
मेरे मन में उगते सूर्य की है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 Kumar Vishvas Birthday Special: ‘भ्रष्ट हुए बिना पूर्णकालिक नेता रहा ही नहीं जा सकता, नहीं तो मैं…’, जब कुमार विश्वास ने बताया सियासत और भ्रष्टाचार के बीच रिश्ता
2 बच्चों से सेक्स के लिए एशिया आता था मशहूर लेखक, अब बोला- ‘किसी ने कहा ही नहीं ये क्राइम है…’
ये पढ़ा क्या?
X