ताज़ा खबर
 

कला और साहित्य

शख्सियतः मकबूल फिदा हुसेन

दुनिया के महान चित्रकारों में से एक थे मकबूल फिदा हुसेन।

वरिष्ठ-युवा कलाकारों ने समां बांधा

युवा कलाकारों को जब भी अवसर मिलता है, वह अपना उत्कृष्ट प्रदर्शित करने के इच्छुक रहते हैं।

अखिलेश्वर पांडेय के काव्य संग्रह ‘पानी उदास है’ का विमोचन

बिष्टुपुर स्थित सिंहभूम चैंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री के सभागार में रविवार शाम पत्रकार अखिलेश्वर पांडेय की काव्य पुस्तक ‘पानी उदास है’ का समारोह...

कथक के केंद्र में युवा ऊर्जा

कथक नृत्य की शुरुआत कभी हंडिया गांव से हुई। लखनऊ, जयपुर, बनारस और रायपुर के राजदरबार और मंदिरों में यह नृत्य पोषित और पल्लवित...

गुणीजनों से संवाद में सर्वांग गायकी

डागर घराने की धरोहर सहेजने के साथ ही उस्ताद इमामुद्दीन खां डागर इंडियन म्यूजिक आर्ट एंड कल्चर सोसाइटी अपने अभिलेखागार ‘द डागर आर्काइव्स’ के...

हिंदी सिनेमा से गुम होती खलनायिका

अब फिल्मों में खलनायिकाएं कम ही देखने को मिलती हैं जबकि पहले उनके बिना फिल्में अधूरी सी लगती थीं।

आधुनिक हिन्‍दी के पितामह भारतेंदु हरिश्चंद्र के साथ दोस्‍त ने किया था विश्‍वासघात

ऐसे प्रेस जिसने भारतेंदु की रचनाओं को जन-जन तक पहुंचाया और जिसने हिंदी पाठय पुस्तकों के मामले में ऐतिहासिक काम किया, वह अब इतिहास...

शशिप्रभा तिवारी का लेखः कोणार्क कांति की छटा

गुरु गंगाधर प्रधान ने ओड़ीशी की गुरु-शिष्या परंपरा को काफी दुरुस्त किया था। उनकी शिष्या अनिता बाबू ने उसी परंपरा का अनुसरण किया। पिछले...

“The D Word” – डिप्रेशन से जूझ रहे लोगों की परेशानी कम कर सकती है यह किताब

डिप्रेशन पर शुभ्राता प्रकाश द्वारा लिखी गई किताब "द डी वर्ड" इस बीमारी और तनाव से जूझ रहे लोगों के लिए एक बढ़िया मोटिवेशन...

हैप्‍पी बर्थडे मोहम्‍मद कैफ:जब युवी-कैफ की दौड़ से इंग्‍लैंड हुआ था पस्‍त, लॉर्ड्स में चली थी दादागिरी

बाद में एक इंटरव्‍यू के दौरान बातचीत में गांगुली ने कहा कि नेटवेस्‍ट ट्राइएंगुलर सीरीज की जीत के जश्‍न के लिए शर्ट उतारना उनकी...

नहीं रहे मशहूर कर्नाटक संगीतकार एम. बालामुरलीकृष्ण

मशहूर कर्नाटक संगीतकार एम. बालामुरलीकृष्ण का आज 86 साल की उम्र में निधन हो गया है।

एक कलाकार की पेंटिंग्स में झलकती आज के समाज की दर्दनाक सच्चाई

एक कलाकार शांत होकर दुनिया में हो रहे बदलावों को देखता रहता है, उसे महसूस करता है और अपनी कूची से कैनवास पर उसे...

नृत्य में देवी रूपों का दर्शन

पिछले दिनों इंडिया इंटरनेशनल सेंटर में रंगप्रवेशम का आयोजन किया गया। इस आयोजन में नृत्यांगना प्रतिभा प्रह्लाद की शिष्या कामाख्या मिश्र ने अपनी पहली...

‘नृत्य’ कॉलम में शशिप्रभा तिवारी का लेख : कृष्ण लीला की मोहक छवि

केरल के गुरु वायवुर मंदिर में सोपान संगीत शैली में अष्टपदी को गाया जाता है। उसी शैली में अष्टपदी को गायक ने गाया था।...

रंगमंच कॉलम में मंजरी श्रीवास्तव का लेख : स्त्री विमर्श के नए आयाम

विद्योत्तमा कहानी है एक ऐसी औरत के अद्भुत साहस व धैर्य की जो राजा विक्रमादित्य की पुत्री और कवि कालिदास की पत्नी होने के...

मंजरी सिन्हा का लेख : मल्हार राग में बारिश का मनोरम चित्रण

उस्ताद मुश्ताक अली खां के नाम पर उनके शिष्य पं. देबव्रत (देबू) चौधरी द्वारा स्थापित उमक सेंटर फॉर कल्चर ने मुश्ताक अली खां की...

संगीत : बैरन घर ना जा…

पंजाब के असली पारंपरिक संगीत का आनंद भाई बलवंत सिंह नामधारी ने दिया। अपने प्रभावी गायन की शुरुआत उन्होंने राग ‘जैजै बागेश्री’ में तलवंडी...

नृत्य : कथक में पारलौकिक संसार का चित्रण

कथक में परंपरागत बंदिशों, ठुमरी, दादरा, कविता के इतर नई रचनाओं और नई कविताओं को भी कुछ कलाकार नृत्य में पिरो रहे हैं। यह...