कला और साहित्य

Akshar
समानता का अक्षर तर्क

निराला ने कविता के साथ गद्य लेखन भी खूब किया है। उन्होंने गद्य को ‘जीवन संग्राम की भाषा’ कहा है।

Nirala
सांसत और विरासत के बीच निराला

मौजूदा दौर को जिन हर्र्फोंं, तर्कों और हवालों में हम सबसे ज्यादा महसूस कर सकते हैं, वे हैं- आंदोलन की दरकार और संवेदना के...

Ravivari special
स्मरण: चिंतन और दर्शन का एकात्म

जवाहरलाल नेहरू अगर कथित नवनिर्माण की बात करते हैं, तो दीनदयाल उपाध्याय शाश्वत, सनातन व्यवस्था पर आधारित पुननिर्माण की बात करते हैं। वे समाज...

PM Modi self reliant india slogan
‘ऑक्सफोर्ड लैंग्विजेज’ ने ‘Aatmanirbhar Bharat’ को चुना साल 2020 का हिंदी शब्द

‘ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी प्रेस इंडिया’ के प्रबंध निदेशक शिवरामकृष्णन वेंकटेश्वरन ने कहा कि ‘आत्मनिर्भर भारत’ को कई क्षेत्रों के लोगों के बीच पहचान मिली क्योंकि...

Promotion
भाषा संस्कृति: भाषाई पितृसत्ता

हिंदी में संज्ञा पदों के नाम-निर्धारण की पद्धति का अगर विश्लेषण किया जाए, तो एक बात बहुत स्पष्ट है। अगर कोई वस्तु कमजोर, कोमल,...

manto
सआदत हसन मंटो: विभाजन का विरोध किया तो पागल कहलाए, इस वजह से जाना पड़ा था पाकिस्तान

मंटो ने विभाजन का विरोध किया, इसे पागलपन कहा। उस समय बॉम्बे में रहते हुए जब वे फिल्मों के लिए लेखन कर रहे थे,...

sahitya
जीवन-जगत: धारा में बहता जीवन

हमारी जिंदगी उस नाव की तरह है जो समय की धारा में अपने आप बहने लगती है। हम एक निश्चित दिशा में आगे बढ़ना...

pooja
तीरंदाज: एक अप्राप्य पोथी

वास्तव में यह पाठ्य पुस्तक विद्यार्थी को सनातन परिकल्पना की प्रारंभिक, पर जरूरी जानकारी देती है। यह सिर्फ विद्यार्थियों के लिए नहीं, बल्कि आम...

शख्सियत
शख्सियत: हिंदी साहित्य का गोमती सर्ग बाबू गुलाबराय

हिंदी साहित्य को गुलाबराय का दार्शनिक अवदान अपूर्व है। उनसे पूर्व हिंदी में इस विषय पर मौलिक लेखन का बड़ा अभाव था। उनकी कीर्ति...

Female
विशेष: स्त्री संघर्ष से विमर्श तक

महिलाओं की दुनिया भारत के साथ पूरे विश्व में बदल रही है। इसी के साथ बदल रही है महिला चिंतन और लेखन की धारा...

World Hindi Day
विश्व हिंदी दिवसः हिंदी कदम-कदम दमखम

एक ऐसे दौर में जब अंग्रेजी के औपनिवेशिक वर्चस्व के आगे दुनिया की कई भाषाएं अपने अस्तित्व के लिए संघर्ष कर रही हैं, हिंदी...

corona
चिंतन: नए विचार की बारी और हरारी

समय का संदर्भ बदलते ही उन विचारों पर भी बदलने का दबाव बढ़ जाता है, जो नए हालात की ठीक से व्याख्या नहीं करते...

Female effort, women, Women efforts, women empowerment
स्त्रियों का भी है पुरुषार्थ /पुस्तक समीक्षा: कई रंगों से जीवन के संघर्षों को सहेजा

Book Review: अपने रचना क्रम में रिश्तों के मुखौटे उतरने के बाद कवयित्री एक ऐसे काल्पनिक पुरुष का भी सृजन करती है जो स्त्री-मन...

कला और साहित्य
शख्सियत: उर्दू शायरी के सिरमौर मिर्जा गालिब

मौजूदा दौर में उर्दू शायरी जिस तरह देश और समाज के हालात और सवालों को लेकर मुखर है, उसकी बड़ी प्रेरणा गालिब हैं। तर्जे...

Tourism
पढ़ाई के साथ विद्यार्थियों की होगी देश घुमाई, सांस्कृतिक धरोहरों से होंगे रूबरू

योजना के तहत तहत बच्चों को आभासी तरीके से देश के विभिन्न पर्यटन स्थल व संस्कृति से अवगत कराया जाएगा।

festval
त्योहार: प्यार और भाईचारे का क्रिसमस

ईसाइयों का सबसे महत्त्वपूर्ण त्योहार क्रिसमस की पूर्व संध्या यानी 24 दिसंबर से ही कार्यक्रम शुरू हो जाते हैं। पश्चिमी देशों के साथ गोवा...

शख्सियत
शख्सियत: ‘नव्या’ चेतना का कथाकार यूआर अनंतमूर्ति

अनंतमूर्ति इस मायने में भी विशिष्ट रहे कि अंग्रेजी के अपने दखल और दानिशमंदी को उन्होंने अपनी अभिव्यक्ति पर हावी नहीं होने दिया और...

शख्सियत
शख्सियत: सृजन का मुक्ति प्रसंग राजकमल चौधरी

प्रेम और विवाह को लेकर उनकी जिंदगी कई पड़ावों से गुजरती रही। आलम यह रहा कि उन्होंने दूसरी शादी अपने प्रथम विवाह में...

ये पढ़ा क्या?
X