ताज़ा खबर
 

कला और साहित्य

संगीत : भजन, कव्वाली और कथावाचन में भक्ति की सुगंध

कार्यक्रम में अनुराधा पौडवाल के लोकप्रिय भजनों से लेकर भुवनेश कोमकली के निर्गुण भजन और वारसी बंधुओं की कव्वाली, कुमुद दीवान के राधा-माधव, शुभा...

नृत्य : पंच तत्त्वों पर आधारित नृत्य संरचना

इस बार इस समारोह में नृत्य रचना ‘शून्य से शून्य तक’ पेश की गई। यह पंच महाभूत-आकाश, वायु, अग्नि, जल और पृथ्वी पर आधारित...

कथक नृत्य में ऋतुओं की छटा

कथक नृत्यांगना गौरी दिवाकर सालों से कथक नृत्य कर रही हैं। उन्होंने लखनऊ घराने के गुरु जयकिशन महाराज और जयपुर घराने की विदुषी अदिति...

दो नई किताबों से साथ अपना 82वां जन्मदिन मनाएंगे रस्किन बॉन्ड

रस्किन बॉन्ड को ‘आर ट्रीज स्टिल ग्रो इन देहरा’ के लिए 1992 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से नवाजा गया। उन्हें पद्मभूषण व पद्मश्री जैसे...

संगीत : सांवरिया मन भाया रे

समारोह का शुभारंभ विदुषी गिरिजा देवी पर उनके शिष्य देवप्रिय अधिकारी और समन्वय सरकार द्वारा बनाई गई एक जीवनवृत्त परक फिल्म ‘ए लाइफ इन...

संगीत : जहीरुद्दीन डागर की स्मृति में संगीत संध्या

संगीत संध्या की शुरुआत डा. आकाशदीप के सरोद वादन से हुई थी। आकाश ने अपने घराने के खास राग पहाड़ी झिंझोटी में आलाप-जोड़-झाले सहित...

संगीत : शांति शर्मा की पुण्यतिथि पर संगीत सभा

शांति शर्मा वर्तमान पीढ़ी में उस्ताद अमीर खां की विशिष्ट गायन की यशस्वी प्रतिनिधि थी।

संगीतः धमार संग तानपुरे की तान

ध्रुपद के दरभंगा घराने के वरिष्ठ गायक व गुरु पं. अभय नारायण मल्लिक के 79वें जन्मदिन पर उनके शिष्यों ने एक ध्रुपद उत्सव हैबिटाट...

संगीतः विकल जिया मोरा तुम बिन सांवरिया

डा. प्रभा अत्रे एक रससिद्ध गायिका ही नहीं संगीत पर गहराई से सोचने वाली गंभीर चिंतक, शास्त्रज्ञ, विदुषी, वाग्गेकार, संगीत संयोजक, लेखिका, कवियित्री और...

नृत्यः शिव के कई रूपों को नृत्य में उतारा

नाट्य बैले सेंटर के प्रांगण में पिछले दिनों इनसाइड-आउटसाइड नृत्य समारोह का आयोजन किया गया।

नृत्य : मुरली की धुन पर पग ताल

इंडिया हैबिटाट सेंटर में स्वरमई और सुर सागर सोसायटी ऑफ दिल्ली घराना ने मिलकर दो रोज के समारोह का आयोजन किया।

संगीत : स्वर-संध्या में सुर और संतूर का मेल

शास्त्रीय संगीत में गहरी पैठ के अलावा राहुल ने अपनी बहुमुखी प्रतिभा का परिचय फ्यूजन और फिल्म संगीत में भी दिया है।

संगीत : कलाकार के सम्मान में संगीत संध्या

वेंकटेश के खयाल गायन में ग्वालियर और किराना दोनों ही गायकी के श्रेष्ठ तत्वों का अनूठा समन्वय दिखाई देता है।

नृत्य : गुरुओं के सम्मान में शिष्यों की पेशकश

भरतनाट्यम नृत्यांगना गुरु सरोजा वैद्यनाथन की शिष्या देविका राजारामन ने भरतनाट्यम नृत्य पेश किया।

संगीत समीक्षा : सम का सबरंग सब रस

समारोह की परिकल्पना थी कि नारी के उद्यम, उसके सुख-दुख, आंसू और मुस्कान, हर्ष और विषाद को आमंत्रित कलाकार अपनी प्रस्तुतियों में रेखांकित करें।

प्रेम और विरह से संजोई नृत्य कथा

ओडिशी नृत्यांगना रंजना गौहर ने पिछले दिनों नई नृत्य रचना नल-दमयंती पेश की। उत्सव की ओर से आयोजित इस नृत्य समारोह को कई कलाकारों...

नृत्य में कान्हा के दिखे कई रूप

सत्रीय केंद्र और संगीत नाटक अकादमी की ओर से अंकीय भावना समारोह आयोजित की गई।

महोत्सव में देशी और विदेशी नाटकों का तड़का

फिलिपींस के नाट्य दल ‘तेत्रो गुइंदेगन’ की प्रस्तुति ‘पैच्ड’ चार कलाकारों द्वारा अभिनीत एक गैर-शाब्दिक प्रस्तुति थी जिसका लेखन व निर्देशन फेलिमोन ब्लैंको ने...