कला और साहित्य

क्यों ना ऐसा होता कि…

प्रयागराज की बाल कवयित्री ने अपने मन की उस वेदना को समाज के साथ साझा करने की कोशिश की है,…

रॉनी स्क्रूवाला की कहानी: कभी खुद की डिबेट सुन हो गए थे शर्मिंदा, घंटों शीशे के सामने खड़े होकर करते थे बोलने की प्रैक्टिस

डिबेट की एक प्रैक्टिस के दौरान किसी ने कहा, ‘एक मिनट रुको… एक मिनट रुको। मुझे तुम्हारी बातें रिकॉर्ड करनी…

पुस्तक अंश: जमींदार का घोड़ा दौड़ता रहा और खून से लथपथ कुम्हार घिसटता रहा…

लेखक श्याम बिहारी श्यामल की नई पुस्तक ‘कंथा’ ‘कामायनी’ जैसी अमर कृति के कवि जयशंकर प्रसाद की जीवन-कथा को पहली…

गृहस्थ महिला की तरह जीवन बसाना चाहती थीं जयललिता, फिल्म स्टार से करती थीं प्यार, आखिरी मौके पर बिखर गया था सब

तमिल फिल्मों की ग्लैमर गर्ल से लेकर सियासत की सरताज बनने तक जयललिता की कहानी एक महिला की ऐसी नाटकीय…

पाठ और किताब

मिखाइल बाख्तिन अपने ‘संवादवाद’ के सिद्धांत के जरिए यह रेखांकित करते हैं कि सभी कृतियां दूसरी कृतियों के साथ खुला…

कृतियों की दावेदारी

कथा, नाटक, काव्य, जीवनी, निबंध आदि के परंपरागत राजमार्ग पर चलने का मतलब है कि इन विधाओं में अभी तक…

Loading…

Something went wrong. Please refresh the page and/or try again.

More Photos

7 Photos
‘ये रिश्ता क्या कहलाता है’ की नायरा बनीं ‘आनंदी’, अब तक ‘बालिका वधु’ बन चुकी हैं ये एक्ट्रेसेस
9 Photos
ऐश्वर्या राय से सुष्मिता सेन-जूही चावला तक, ब्यूटी कॉन्टेस्ट विनर रही इन एक्ट्रेसेस की बेटियां नहीं किसी से कम
8 Photos
कपिल शर्मा के रिसेप्शन में हरी साड़ी में दुल्हन की तरह नजर आई थीं रेखा, देखें एक्ट्रेस का ग्रीन वार्डरोब कलेक्शन