ताज़ा खबर
 

सांत्वना श्रीकांत की कविता: दूब की नोक पर

पढ़ें सांत्वना श्रीकांत की लघु कविताएं।

प्रतीकात्मक तस्वीर, फोटो सोर्स- इंडियन एक्सप्रेस

दूब की नोक पर
—————
धरती और अंबर
के बीच मिलना
यूं तुम्हारा हमसे
जिजीविषा की आंच में
स्थायित्व का पकना है।
तुम्हारे चुंबन में अंकित हैं
क्षितिज की सारी रूपरेखाएं
जो उतर आती हैं
मेरे माथे पर,
मेरी हथेलियों पर।
दूब की नोक पर
उतरी ओस की बूंद
साक्षी है उस समय की
जब सौंप दिया था
मैंने स्वयं को तुम्हें,
संभाले रखना मुझे
बूंदों से सपनों का
इंद्रधनुष बनने तक।

अप्राप्य का सुख
—————————–
मैंने प्रेम होने का इतिहास
दर्ज कर दिया है
तुम्हारे माथे पर,
दंतकथाओं के साक्ष्य भी
कर दिए हैं समर्पित तुम्हें,
तुम्हारे स्वयं में होने के
मायने कर दिए हैं लिपिबद्ध।
अंकित कर दिया है
अपने वर्तमान और
भविष्य में तुम्हें…
ताकि सदियों तक
जीवित रहे-
अप्राप्य का सुख।

-सांत्वना श्रीकांत

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App। जनसत्‍ता टेलीग्राम पर भी है, जुड़ने के ल‍िए क्‍ल‍िक करें।

Next Stories
1 द लास्‍ट कोच: सूरज का आठवां घोड़ा
2 ‘अष्टपदी’ और ‘भगवदगीता’ लेकर उतरे युवा नर्तक
3 साहित्य का काम है एक-दूसरे को जोड़ना
ये पढ़ा क्या?
X